फ़रमाईश

छत्तीसगढ़ी गीत संगी एक श्रृंखला ये, छत्तीसगढ़ी गीत ल सहेजे के ये ह एक प्रयास हरे… । गीत हा नवा भी हो सकथे अउ पुराना भी । अबड़ झन गीत संगीत के मयारू हे, जेकर मन कर अपन पसंद के संगीत के कोठी भर के खजाना हे । ये ब्लाग के माध्यम से ओकर मन के परिचय आप सब से करवात रबोन, और सुनवात रबोन ओकर मन के सकेले अनूठे गीत । यदि आप मन के पास मा हे कुछ अनमोल गीत अउ ओला आप अपने जैसे अन्य गीत संगीत के मयारू मन के संग बाँटना चाहथो, त हमन ला जरूर लिखहु ।

यदि कोई ख़ास गीत जेला आप खोजत हव तो ओकर फ़रमाईश भी टिप्पणी करके इंहा रख सकत हव …

संगवारी मन फ़रमाईश करे से पहली पिछले गीत या श्रेणीबद्ध गीत सूची म गीत ल एक-घांव जरूर खोज लेहु…

4,670 टिप्पणियां (+add yours?)

  1. लीलेश कुमार मिश्रा
    जुलाई 07, 2021 @ 14:09:51

    झम झम के लुगरा पहिर के आये हौ
    इस गाने के लिरिक्स तथा गाना डालिये प्लीज्

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 777 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

संगी मन के गोठ …

Omkar chandra पर भरथरी (प्रसंग 1. राजा का जोगी…
सिकंदर सोनवानी पर अरपा पैरी के धार … Arpa…
दुर्गेश सिन्हा दुलरव… पर बिहनिया के उगत सुरूज देवता…
पुरुषोत्तम प्रसाद गु… पर मोर झूलतरी गेंदा … Mor J…
Rajesh sonwani पर अरपा पैरी के धार … Arpa…
मिलिन्द साव पर काबर समाये रे मोर, बैरी नैना म…
POONAM पर मोर जतन करो रे … Mor Jat…
Sushil Kumar Sahu पर चौरा मा गोंदा … Chaura M…
जितेन्द्र कुमार साहू पर का तै मोला मोहनी डार दिये गोंद…
देवचन्द साहू पर पिंजरा के सोन चिरैया … P…
%d bloggers like this: