चोला माटी के हे राम … Chola Mati Ke

चोला माटी के हे राम

चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे

चोला माटी के हे हो~~~
हाय चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे

द्रोणा जइसे गुरू चले गे
करन जइसे दानी संगी, करन जइसे दानी
बाली जइसे बीर चले गे, रावन कस अभिमानी
चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे

कोनो रिहिस ना कोनो रहय भई आही सब के पारी
एक दिन आही सब के पारी
काल कोनो ल छोंड़े नहीं राजा रंक भिखारी
चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे

भव से पार लगे बर हे ते हरि के नाम सुमर ले संगी
हरि के नाम सुमर ले
ए दुनिया मा आके रे पगला जीवन मुक्ती कर ले
चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे

चोला माटी के हे हो~~~
हाय चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे
हाय चोला माटी के हे राम
एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे …


गायन शैली : ?
गीतकार : गंगाराम शिवारे
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : नगीन तनवीर
गायिका : नगीन तनवीर
संस्‍था/लोककला मंच : नया थियेटर
एलबम/फिल्म : पिपली लाइव

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

21 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Mohan Verma
    मार्च 15, 2011 @ 22:12:42

    Chola mati k he ram- Ye geet la pahli bar me ha M. Chandravanshi k Mob. me pahli bar sunav tab le mola ye gana la bar bar sune k man karat rahis se.

    प्रतिक्रिया

  2. kashi prasad
    मार्च 16, 2011 @ 05:28:52

    Chola mati k he ram- Ye geet la pahli bar me ha M. Chandravanshi k Mob. me pahli bar sunav tab le mola ye gana la bar bar sune k man karat rahis se.

    प्रतिक्रिया

  3. Anil
    मार्च 18, 2011 @ 21:32:40

    apan mathi k sugand me kono to baat hav

    प्रतिक्रिया

  4. chanda
    मार्च 21, 2011 @ 13:16:05

    bachapan ke abbad kan yaad man la aap man fer le hariyar kardehe hawa
    bahut khubsurat ,bahut bahut dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  5. एमन दास मानिकपुरी
    सितम्बर 02, 2011 @ 16:22:34

    wah……………………

    प्रतिक्रिया

  6. BALRAM SONWANI-9907758042
    अक्टूबर 30, 2011 @ 00:01:37

    चोला माटी के हे राम
    एकर का भरोसा, चोला माटी के हे रे

    is song ko peepli live me suna tha acha laga gret song

    प्रतिक्रिया

  7. durgesh bhanu
    दिसम्बर 06, 2011 @ 18:13:01

    stupendous

    प्रतिक्रिया

  8. Aditya Chandrakar
    फरवरी 29, 2012 @ 02:03:52

    में हा ए गाना ला पहली बार पिपली लाइव में सुने हाबव। अऊ जब ले ए गाना ला सुने हबाव तब ले रोज एक न एक बार जरूर सुनत हबौं। ए गाना मा जीवन के सच्चाई हे।

    प्रतिक्रिया

  9. Dinesh kumar hansh
    अगस्त 09, 2012 @ 22:46:42

    man la moh daris

    प्रतिक्रिया

  10. anilbhatpahari
    अक्टूबर 04, 2012 @ 17:31:40

    chola mati ke..geet panthigeet jaisi hi udatya bhav se bhari hui hai.ese karma ki tarah gaye gaye hai. fir bhi lok priy hui.agar panthi ki tarah gaye jay to aloukik bhav vyanjit honge.ham log is geet ko panthi me hi gate hai.karma prayh premgeet hote hai jabki panthi adhyatmik bhajan ki sreni me aate hai.

    प्रतिक्रिया

  11. anilbhatpahari
    जून 12, 2013 @ 19:17:11

    gangaram siware rachit yah geet unke jiteji parmprik geet ke rup me parnit ho gaye ramaduttjosi avm unke bahano jo siware ji ki sisysye hai jab panthi saili me gati hai to adhyatmik vatawaran nirmit ho jata hai panti sufi gayaki se kam nahi hai eski vrihat prastuti sabhi ko miareal kar karni chahiye..cla mati to bas ek udahran hai esi tarh ke saikro panthi geet bhare pare hai koi kala parkhi nagin ya amir jaise ke intjar me…

    प्रतिक्रिया

  12. raaj
    जनवरी 19, 2014 @ 12:45:23

    chola mati ke.. bhut aacha lagthe ye gaana.,.,.,.,.

    प्रतिक्रिया

  13. dushyant yadav
    जनवरी 28, 2014 @ 11:40:31

    So beautiful song.
    Thank you chandrakar ji for this glorious filling to us.

    प्रतिक्रिया

  14. Pramod Gurupanch
    अक्टूबर 28, 2014 @ 16:05:58

    mor man la mohi daris.kabar ki yeh gana ma jivan ke sacchai haway.

    प्रतिक्रिया

  15. avinash sen
    नवम्बर 09, 2014 @ 23:47:39

    Thanks to all of u…..mola purana cg geet chahiy rahis…jaise cg la khithe bhaiya dhan k ktora mor laxmi daai k kora bhaiya.

    प्रतिक्रिया

  16. prabhudayal say
    नवम्बर 21, 2015 @ 21:57:32

    tu man man la bahut bahut dhanyawad e git bar

    प्रतिक्रिया

  17. bhupendra sahu
    नवम्बर 27, 2015 @ 12:18:43

    tola lagy jhan kakharo najar dulrva beta mor_kitkar Mahadev hirwani ji ka gana suna detev ta haman man gadgad ho jtis

    प्रतिक्रिया

  18. dr.anilbhatpahri
    जनवरी 15, 2016 @ 18:53:34

    chola mati ke he na yekar ka bhrosa —gngaram shivare ka panthi dhun me adharit kayakhamdi nirgun bhajan h,isme ram aur hay shabd jodkar karma geet bna diye gye.aur puri geet ki mul bhav ya,aatma ko hi nasht kar diye gaye,yal alg bat h ki iske bad bhi lokpriy hui,par is tarah k chhedchhad bilkul galat h,

    प्रतिक्रिया

  19. Sanjay Rajak
    जून 13, 2016 @ 15:15:29

    ye gaana ham jab apni univarcity me suna to dil chhu gaya

    प्रतिक्रिया

  20. shatrughan lal sahu gram beloudi post bhedsar jila durg (c.g.)
    जून 18, 2016 @ 17:30:58

    mai ha ye gana la jab le sune haw tab se yela apan kanth me basa le haw. aour jiha mola manch milthe gay ke ouha jarur gathaw. kaber ki mai ha sewa samiti se jure haw.

    प्रतिक्रिया

  21. Ashwani dinkar
    अक्टूबर 01, 2016 @ 17:54:52

    Jai satnam

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: