सास गारी देवे … Sas Gari Deve

साभार…   राहुल सिंह   के ब्लाग   ‘सिंहावलोकन’.   ले,  ये गीत ल ले गे हे |
जेला आप मन ऐ ब्लाग म देख सकत हव …
http://akaltara.blogspot.com/2010/06/blog-post_10.html
.

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो ~~~ 3 ~~~

आए बेपारी गाड़ी म चढ़िके
तो ल आरती उतारव थारी म धरिके हो
करार गोंदा फूल

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

टिकली रे पइसा ल बीरी ले रीतेंव
मोर साइकल के चढ़इया ल चिन्ही ले रीतेंव ग
करार गोंदा फूल

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

राम धरे बर्छी लखन धरे बाण
सीतामाई के खोजन बर निकलगे हनुमान ग
करार गोंदा फूल

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

पहिरे ल पनही खाये ल बीरा पान
मोर रइपुर के रहइया चल दिस पाकिस्तान ग
करार गोंदा फूल

केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~


गायन शैली : ?
गीतकार : गंगाराम शिवारे
रचना के वर्ष : 1972-73
हारमोनियम – देवीलाल नाग
तबला – अमरदास मानिकपुरी
क्लेरिनेट – जगमोहन कामले
मजीरा – मजीद खान
ढोलक – गणेश प्रसाद
गायन : हबीब तनवीर, भुलवाराम यादव, बृजलाल लेंझवार, लालूराम अउ साथी
संस्‍था/लोककला मंच : नया थियेटर
नाटक : गाँव के नाँव ससुरार मोर नाँव दमाद

गंगाराम शिवारे
गंगाराम शिवारे

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

16 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. praveen kumar
    मार्च 14, 2011 @ 21:35:18

    exelent work d’n by your hol team. I request to pandvani,nacha gamat,like chadaini gonda,charan das chor, ko bhi colection kriye or purana daur jo cg ki virasat ko punah jivit kijiye.tanks good work proud to hol team.

    प्रतिक्रिया

  2. Avinash Divakar
    मार्च 14, 2011 @ 23:34:32

    nwa shuruwat abbad utsahvardhak he
    jammo sangwari man le guzarish he jyada le jyada bhagidari devain.

    An outstanding step by blog developer.

    Gara-2 badhai.
    Jai johar🙂

    प्रतिक्रिया

  3. sanjay kashyap
    मार्च 15, 2011 @ 15:19:37

    Bahut achhchha logis. collection bahut badiya he, aap sadhuvad ke patra ho, chhattisgarhi lok kala ke sanrakshan ke liye badhai

    प्रतिक्रिया

  4. Sanjay Sinha
    मार्च 16, 2011 @ 08:03:44

    Aapkar kam bahoot achcha lagis. Ye website se main hamesha jude rahoon.

    प्रतिक्रिया

  5. Dr.Vimal Khunte
    मार्च 25, 2011 @ 22:58:35

    aapke website bahut achchha lagis. purana chattisgarhi geet sun ke bachpan ke yaad aa ge. bahut bahut dhanyavad.

    प्रतिक्रिया

  6. रवि
    नवम्बर 12, 2011 @ 20:13:42

    ए हे गा असली वाला सास गारी देवे. नकली (नवा) वाला मं का मजा. फेर ओखरे कारन तो ए ह पूरा दुनिया मं प्रसिद्ध होइस हे

    प्रतिक्रिया

  7. girish
    दिसम्बर 01, 2011 @ 17:16:05

    best site of c.g lok & folk song

    प्रतिक्रिया

  8. dr. ganesh. pandey
    अप्रैल 02, 2012 @ 12:39:17

    chhatisgarh ke prachin sabhyata sangeet shaili ko jinda rakhane ka yeh bahoot achchha prayas hai. hardik badhai…

    प्रतिक्रिया

  9. Ganesh Pandey
    अप्रैल 02, 2012 @ 12:42:58

    old c.g. songs ka golden collections…..

    प्रतिक्रिया

  10. VIKESH DEWANGAN
    मई 03, 2012 @ 17:24:49

    GUH AU GOBAR MA FARAK HOTHE …….

    प्रतिक्रिया

  11. Keshari Kumar Swarnakar
    सितम्बर 15, 2012 @ 01:31:46

    bara achhchha laga. main purane lok geet like bihaw geet au aisanahe sansakar geet khojat hawn. ye vishay la abhi abhi khoje bar shuru kare hawn. achchha collection milathe ema. chandaini gonda ke naw nai e sansatha aur sansathaaen ma.

    प्रतिक्रिया

  12. pushpendra sahu
    सितम्बर 23, 2012 @ 17:17:29

    sable pahli jo bhi pratham prayas karis ye website la bnae br wokar gada gada dhanywaad🙂 ………au badhai……..jai johaar…….. jai chhattishgarh…………..

    प्रतिक्रिया

  13. ajay chandravanshi
    अक्टूबर 04, 2012 @ 18:06:21

    aap logo ka kam sarthk hai.

    प्रतिक्रिया

  14. shyam lal yadav kharsia
    नवम्बर 03, 2013 @ 16:48:33

    so good song to local folk song

    प्रतिक्रिया

  15. deman lal deshlahare
    अक्टूबर 10, 2014 @ 17:16:27

    BAHUT BADIYA LAGIS JI

    प्रतिक्रिया

  16. santosh chandrakar
    फरवरी 08, 2015 @ 15:53:59

    Huge & beautiful collection of old Chhattisgarh song . THANKS

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: