मोर संग चलव रे … Mor Sang Chalav Re

मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे

ओ गिरे थके हपटे मन
अऊ परे डरे मनखे मन
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव जी

ओ गिरे थके हपटे मन
अऊ परे डरे मनखे मन
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे

अमरैया कस जुड छांव मै
मोर संग बईठ जुडालव
अमरैया कस जुड छांव मै
मोर संग बईठ जुडालव

पानी पिलव मै सागर अव
दुःख पीरा बिसरालव
पानी पिलव मै सागर अव
दुःख पीरा बिसरालव

नवा जोत लव नव गाँव बर
नवा जोत लव नव गाँव बर
रस्ता नवा गढव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे

ओ गिरे थके हपटे मन
अऊ परे डरे मनखे मन
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे

मै लहरी अव
मोर लहर मा
फरव फूलो हरियावअ
मै लहरी अव
मोर लहर मा
फरव फूलो हरियावअ

महानदी मै अरपा पैरी
तन मन धो हरियालव
महानदी मै अरपा पैरी
तन मन धो हरियालव

कहाँ जाहु बड दूर हे गँगा
कहाँ जाहु बड दूर हे गँगा
पापी ईहे तरो रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे

ओ गिरे थके हपटे मन
अऊ परे डरे मनखे मन
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे

दीपक संग जूझे बर भाई
मै बाना बांधे हव
दीपक संग जूझे बर भाई
मै बाना बांधे हव

सरग ला पृथ्वी मा ला देहूं
प्रण अइसन ठाने हव
सरग ला पृथ्वी मा ला देहूं
प्रण अइसन ठाने हव

मोर सिमट के सरग निसइनी
मोर सिमट के सरग निसइनी
जुर मिल सबव चढ़व रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी

ओ गिरे थके हपटे मन
अऊ परे डरे मनखे मन
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे
मोर संग चलव जी
मोर संग चलव गा
मोर संग चलव रे

 

Laxman Masturia
लक्ष्मण मस्तुरिया


गायन शैली : ?
गीतकार : लक्ष्मण मस्तुरिया
रचना के वर्ष : 1982
संगीतकार : खुमान गिरजा
गायक : लक्ष्मण मस्तुरिया
संस्‍था/लोककला मंच : ?

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

52 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Sanjeeva Tiwari
    अगस्त 24, 2010 @ 08:38:02

    बहुत सुन्‍दर प्रयास है भाई साहब, बारंबार साधुवाद.

    इस गीत को भाई लछिमन नें हमारे अनुरोध पर गाया था और रवि भईया नें इसे रिकार्ड किया था, यहां है वीडिया – http://www.youtube.com/watch?v=2cYkC6VndDE

    प्रतिक्रिया

  2. rahulsingh
    अगस्त 24, 2010 @ 08:43:35

    बहुत बड़ा काम उठा लिया है आपने. गीतों की वर्गीकृत सूची भी साथ-साथ तैयार करते चलें. सूची में गीत के बोल, गायक, गीतकार, संगीतकार के साथ रचना का वर्ष आदि जानकारियों की प्रविष्टि रखी जा सकती है, जिसके साथ यह टीप भी शामिल हो सकती है कि गीत किस संस्‍था, लोक कला मंच से सम्‍बद्ध रहा है. कुछ नाममात्र की तैयारी, जिसमें श्री संजीव तिवारी जी के साथ विमर्श भी था, मैंने की थी, वह ठीक-ठाक प्रकाशित करने लायक बन जाने पर ब्‍लॉग पर आएगा. आप यह काम जारी रखें और जैसी पूरी संभावना है, यह इतिहास बने, शुभकामना है.

    प्रतिक्रिया

    • cgsongs
      अगस्त 25, 2010 @ 06:30:08

      मार्गदर्शन बर हार्दिक धन्यवाद …
      छत्तीसगढ़ी गीत के बिखरे पन्ना ल सकेले म आप सब संगवारी मन के सहयोग बहुत जरूरी हाबय। आप सब संगवारी मन से अनुरोध हे कि गीत के सम्बंध में जो भी जानकारी आप मन ल हे । ओ जानकारी ल हमर मन संग जरूर बाँटहू, जेकर से गीत के सम्बंध में सही-सही अऊ पूरा जानकारी प्रस्तुत कर सकन । ये काम ल अच्छा से अच्छा कर सकन एकर बर आप सब संगवारी मन के कोनों सुझाव होही त वोला घलोक बताहू …

      प्रतिक्रिया

  3. ishwar khandeliya
    अगस्त 24, 2010 @ 17:42:50

    छत्तीसगढ़ी गीत मन के संग्रह करे के प्रयाश हर छत्तीसगढ़ महतारी के आरती उतरे बरोबर हवय ओकर बार बहुत बहुत साधुवाद अई गीत मन के ऑडियो सुने ला मिल जाये त फेर का कहना चनैनी गोंदा के कुछ गीत मन याद अथें त मन उनला सुने बार तरस जाते पालागी भाईजी

    प्रतिक्रिया

  4. Rajesh Agrawal
    अगस्त 28, 2010 @ 21:18:30

    आपके इस प्रयास की जितनी सराहना की जाए कम है. आप उन सब गीतों को अपने पेज़ पर डालें, जो छत्तीसगढ़ की पहचान हैं.

    प्रतिक्रिया

  5. Sanjeet Tripathi
    अगस्त 29, 2010 @ 00:56:47

    आप मन के ये प्रयास के जतकेन तारीफ करे जाए कम हे, मै खुद हां अटक साल से इहाँ ब्लागजगत माँ हवंव फेर ऐसन सुरता नहीं आइस की अईसन कोनो ब्लॉग शुरू करे जा सकत हवे, खैर मोला लोकगीत के अतेक ज्ञान घलोक नहीं रहिस कभू . फेर आप मन के काम ला कतकोन बढ़िया बोलन ओख्हर ले भी ज्यादा सुग्घर हरे . मैं हां आपला नहीं जानव फेर सही कहत हवंव ए मुद्दा माँ जोनो मदद चाहिए होही बोलव मोला, ख़ुशी होही मोला कर के…

    प्रतिक्रिया

  6. suresh tarak
    नवम्बर 16, 2010 @ 16:27:52

    bachpan se ye git sunta aa raha hoo bar-bar e git sunane ki echchha oti hai ——————-

    प्रतिक्रिया

  7. HARAKH JAIN "PAPPU"
    नवम्बर 21, 2010 @ 12:33:57

    YE PRAYAAS LA MOR NAMAN HAVE.AISNE HUM APAN SANSKRITI LA SUGHAR KAR SAKAT HAN.

    प्रतिक्रिया

  8. anand sharma
    फरवरी 11, 2011 @ 21:34:38

    बहुत बड़ा काम उठा लिया है आपने. गीतों की वर्गीकृत सूची भी साथ-साथ तैयार करते चलें. सूची में गीत के बोल, गायक, गीतकार, संगीतकार के साथ रचना का वर्ष आदि जानकारियों की प्रविष्टि रखी जा सकती है, जिसके साथ यह टीप भी शामिल हो सकती है कि गीत किस संस्‍था, लोक कला मंच से सम्‍बद्ध रहा है. कुछ नाममात्र की तैयारी, जिसमें श्री संजीव तिवारी जी के साथ विमर्श भी था, मैंने की थी, वह ठीक-ठाक प्रकाशित करने लायक बन जाने पर ब्‍लॉग पर आएगा. आप यह काम जारी रखें और जैसी पूरी संभावना है, यह इतिहास बने, शुभकामना है.

    प्रतिक्रिया

  9. अजय लंबर
    फरवरी 12, 2011 @ 07:28:14

    गीत सुना मन को सुकुन मिला .अपने प्रयास जारी रखें

    प्रतिक्रिया

  10. anand sharma
    फरवरी 12, 2011 @ 10:17:57

    आपके इस प्रयास की जितनी सराहना की जाए कम है. आप उन सब गीतों को अपने पेज़ पर डालें, जो छत्तीसगढ़ की पहचान हैं.

    प्रतिक्रिया

  11. ravi chandrakar
    मार्च 15, 2011 @ 09:17:33

    Sabd kam he Bhai,bas bhavna ke lahar Marat he,sangi sang chalbo

    प्रतिक्रिया

  12. vikku
    मार्च 15, 2011 @ 13:39:57

    behtarin he re………….

    प्रतिक्रिया

  13. chandra mandavi
    मार्च 15, 2011 @ 15:13:10

    bahut accha prayas hai.ab koi chattisgarh lok geeto ko chura kar uska sharye nahi le payega. jo geeto ke janak hai unhe he yaad kiya jayga

    प्रतिक्रिया

  14. prashantkrlal
    मार्च 15, 2011 @ 16:26:43

    golden hits all time favorite ,laxman masturia inspiring song for all over world

    प्रतिक्रिया

  15. Dev Dewangan
    मार्च 15, 2011 @ 16:40:24

    Its really a brilliant work done by you

    प्रतिक्रिया

  16. kuldeep bhardwaj
    मार्च 15, 2011 @ 18:10:04

    गाड़ा गाड़ा बधाई। वेबसाइड बानिईया ला। गाना ला सुनके रोम रोम मे नवा जोश आ गिस। जय जोहर जय छतीसगढ़।

    प्रतिक्रिया

  17. Maya Saxena
    मार्च 16, 2011 @ 14:00:33

    Aapman ke prayaas accha lagis. Khumaan aur Girja Sir ke sangit badh geet sun ke mann ha khush ho gaye hai. Bhule bisre geet ek baar phir se sune bar milgis. Ekhar bar tuman badhai ke paatra ho.Dhanyavaad.

    प्रतिक्रिया

  18. ashish tiari
    मार्च 28, 2011 @ 14:27:43

    best colection of cg song

    प्रतिक्रिया

  19. Rakesh Swarnkar
    जून 24, 2011 @ 23:18:13

    chattisgahi gaana ke sangrah bar dhanyavaad ..
    acchha suggar lagis .. baney kareo daau ..

    JAI JOHAAR JAI CHATTISGARH MAHTARI ..

    -RAKESH SWARNKAR,
    INDORE(M.P.)

    प्रतिक्रिया

  20. Krishna Kumar Ghidore
    अगस्त 25, 2011 @ 11:51:05

    bahut badhiya gaana .thanyawad laxman masturiya sahab jo etna badhiya gaana banaya

    प्रतिक्रिया

  21. ONKAR PRASAD
    नवम्बर 30, 2011 @ 22:24:57

    mujhe ywe sabhi cg k geet bachpan se hi lubhati hai or es gane hr ek bol mere dil me basi…………….mor sang chalaw re…..jai chhattisgarh

    प्रतिक्रिया

  22. Vijay Kumar sahu
    दिसम्बर 14, 2011 @ 01:23:33

    ये गीत के बाते कुछ और हे संगी …………….
    आपके ये सुघ्घर प्यास ला देख के मोर मन गदगद होगे भई.
    छत्तीसगढ़ के लोकसंगीत ला जग भर माँ बगराये के ये आपके प्रयास बहुत ही बढ़िया हे
    हमर लोकसंगीत के इतिहास जाने के मोर इच्छा ला आप मन पूरा करेव …
    बारम्बार धन्यवाद !!!

    प्रतिक्रिया

  23. Ramkumar dansena
    जनवरी 28, 2012 @ 16:24:08

    mor mati mor maa au baap ye baki sab bakwas ye

    प्रतिक्रिया

  24. Harinder Kapoor
    फरवरी 22, 2012 @ 19:19:56

    England main chattisgharhi gaana sun kar dill jhoom utha
    Nice work Mr . Candrakar

    प्रतिक्रिया

  25. bhuneshwar singh chandra
    मार्च 24, 2012 @ 09:46:32

    bhai sahab mola eak gana chahiye, jehar ghhattisgarhi ke abga junna haway gana ke bole haway “sukh bar mai to bihav karev ga apan hath ma ghav karev ga ghani kash baila fanda gai vidhata charo mudna dhandha gai”

    प्रतिक्रिया

  26. shiv
    मार्च 24, 2012 @ 14:58:02

    Shriman chandrakar ji aap man ke sangrah ha bahut badhiya lagish ye sangrah bar bahut bahut dhanyavad

    प्रतिक्रिया

  27. triloki
    अप्रैल 05, 2012 @ 11:13:20

    shri RAM gandhi au a gana mahan he

    प्रतिक्रिया

  28. bhavendra harmukh
    जुलाई 16, 2012 @ 12:30:29

    chandrakar ji namskar,
    aap ke prayash pura taika le safal hohi…… jai johar

    प्रतिक्रिया

  29. Dinesh kumar hansh
    अगस्त 09, 2012 @ 23:02:39

    bobra ke roti, au sangawari ke boli

    प्रतिक्रिया

  30. kaushal sahu
    अक्टूबर 26, 2012 @ 20:56:21

    bahut sarahniya geet….
    bahut bahut dhanyawad,,,,,,,,,

    प्रतिक्रिया

  31. BHISHAM KRISHE(AS A TEACHER HIGHER SECONDARY SCHOOL NEUR)
    अक्टूबर 27, 2012 @ 18:06:05

    chandrakar bhai aapman ke ye koshish ha mola abbad sughghar lagish

    प्रतिक्रिया

  32. girendra
    दिसम्बर 18, 2012 @ 16:56:32

    chattisgadhi gana la sun ke achcha lagis

    प्रतिक्रिया

  33. NEELAM SINGH PISDA
    जनवरी 20, 2013 @ 14:35:19

    anndit ho gaya man

    प्रतिक्रिया

  34. santosh chauhan korba
    फरवरी 02, 2013 @ 19:26:24

    Jai ram chandrakar bhai chhattisgarh gana ke khajana ma aake arabar bariha lagathe fir gana ha downloding nahi hoes ta barh dukh hoes down loading hitis ta maja aa jatish.
    Aap man la saduwad, jai johar, jai chhattisgarh

    प्रतिक्रिया

  35. KESHAV YADAV
    मई 19, 2013 @ 10:56:56

    chhattisgarhi geet sangrh ke liye sadhuwad

    प्रतिक्रिया

  36. SANJAY BANCHHOR
    जून 28, 2013 @ 17:32:05

    AADARNIY AAPKE JO UDIM HE WO HAR JAUNHAR BADE JAN HE AKHAR BAR GADA-GADA BADHAI AK THIK GIT HAWE KOKAI KATA WO DUWA-DUWA PANI KOKAI KATA

    प्रतिक्रिया

  37. Dev patel
    अगस्त 19, 2013 @ 07:25:12

    super ….

    प्रतिक्रिया

  38. shyam lal yadav kharsia
    नवम्बर 03, 2013 @ 16:53:40

    kavi sammelan ki shan ke film johar git

    प्रतिक्रिया

  39. HARENDRA SINGH KANWAR
    जून 26, 2014 @ 18:58:11

    INSPERETIVE SONG…I THINK EVERY ONE SHOULD HEAR THIS WHEN THEY ARE DIPRESE AND IN COMPLICATIVE SITUATIONS…

    प्रतिक्रिया

  40. ogresh jogi
    सितम्बर 19, 2014 @ 22:52:31

    Mor Kheti Khar Runjhun Mor Pairy Baaje mp3

    प्रतिक्रिया

  41. durgesh
    जनवरी 24, 2015 @ 21:27:54

    bahut sunder he ye gana ye gana bar mai chandaini goda pariwar la bahut bahut dhanyawad dewat haw……

    प्रतिक्रिया

  42. dinesh sahu
    जनवरी 24, 2015 @ 23:18:55

    chandaini gonda cg sanskritik karyakram ek anmol ratan hai . jiski prastuti salinta, sabhyata , kalatmak nritya , sumadhur sangit , saj sajja
    , arth purn bol wale gane se paripurn hai jo hamari chhattisgarh anmol sanskriti ko darsati hai.

    प्रतिक्रिया

  43. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    जनवरी 30, 2015 @ 14:12:28

    Sarwhara varg ke chhattisgarh ke prerak geet likhe bar,awaz ke dhani bhai masturiya la gada gada badhai.

    प्रतिक्रिया

  44. Thakur ram yadav
    मार्च 30, 2015 @ 22:01:46

    बचपन ले ये गीत ला सुनत आए हंव। ए गीत में हमर गांव के माटी के सुग्घर सुगंध है। शहर म रहे हंव अऊ अइसन गीत के सेती ही मोर भीतर के गांव वाला जिंदा है।

    प्रतिक्रिया

  45. कैलाश वर्मा
    अगस्त 02, 2015 @ 22:29:12

    बचपन से ये गीत मुझे प्यारा लगता है । ऐसे बेहतरीन गीतों के संग्रह के लिए आप को बहुत बहुत धन्यवाद है।

    प्रतिक्रिया

  46. ashish tiwari
    नवम्बर 01, 2015 @ 21:09:19

    Me cbsc school me music teacher hu…masturiha ji ke gane saf suthra sangeetmay hota he….mughe bahot pasand he….karaoke treck me mile to bahut achaa hoga……

    प्रतिक्रिया

  47. Rishabh koushik
    नवम्बर 03, 2015 @ 13:06:43

    Rishabh koushik
    mera favret song hai

    प्रतिक्रिया

  48. koushik rishabh
    नवम्बर 03, 2015 @ 15:00:26

    krishna koushik

    प्रतिक्रिया

  49. खिलेश्वर साहू बासिं
    नवम्बर 15, 2015 @ 22:14:34

    हमर छत्तीसगढ़ के धरोहर ल संजो के बने रखे रहो
    संगवारी हो

    प्रतिक्रिया

  50. kamal kant navik
    दिसम्बर 31, 2015 @ 11:29:05

    wah kya gana hai

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 586 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 586 other followers

%d bloggers like this: