जा तेहां ससुरार जाबे … Ja Tehan Sasurar Jabe

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे

झन रो मोर दुलौरिन बेटी~~~~~~~~~~~~~~~
बेटी वो~~~~~~~ओ~ओ बेटी बेटी~~इ~
झन रो मोर दुलौरिन बेटी
सुन्दर खाबे कमाबे वो~
सुन्दर खाबे कमाबे वो

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
आ~~~~~~ आ~~~~~~
आ~~~~~~ आ~~~~~~

लइका पन में झूलना झूला के कोरा मा तोला खेलाएव
लइका पन में झूलना झूला के कोरा में तोला खेलाएव
फूल बरोबर जतन करेवं हाथ धर के गली मा रेंगाएव
फूल बरोबर जतन करेवं हाथ धर के गली मा रेंगाएव
आज ले वो मोर कोरा टूट गे~~~~~~~~~~~~ (सिसकी)
बेटी वो~~~~~~~ओ~हो~ (सिसकी) बेटी बेटी~~इ (सिसकी)
आज ले वो मोर (सिसकी) कोरा टूट गे
आज ले वो मोर कोरा टूट गे
इंहा के सुध झन लमाबे वो~
इंहा के सुध झन लमाबे~ (सिसकी)

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
आ~~~~~~ आ~~~~~~
आ~~~~~~ (सिसकी) आ~~~~~~

छुटत हे गाँव गली अमरईया, छुटत हे जम्मो जउरिहा
छुटत हे गाँव गली अमरईया, छुटत हे जम्मो जउरिहा
छुटत हे तोर इंहा के लागमानी, छुटत हे तोर छोटे भईया (सिसकी)
छुटत हे तोर इंहा के लागमानी, छुटत हे तोर छोटे भईया
करम ठठा के रोवय ददा दाई~~~~~~~~~~~
बेटी वो~~~~~~~ओ~हो~ (सिसकी) बेटी वो~~ (सिसकी)
करम ठठा के (सिसकी) रोवय ददा दाई~
मइके के लाज बचाबे वो~
मइके के लाज बचाबे~(सिसकी)

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
ए झन रो मोर दुलौरिन बेटी~~~~~~~~~~~~ (सिसकी)
बेटी वो~~~~~~~ओ~ (सिसकी) बेटी वो~~ (सिसकी)
झन रो मोर दुलौरिन बेटी
झन रो मोर दुलौरिन बेटी
सुन्दर खाबे कमाबे वो~
सुन्दर खाबे कमाबे

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
आ~~~~~~ आ~~~~~~
(सिसकी) आ~~~~~~ (सिसकी) आ~~~~~~

(सिसकी) सनसों तें थोरको झन करबे आही बेटी तीजा पोरा
सनसों तें
सनसों तें थोरको झन करबे बेटी बेटी~~ (सिसकी) झन रो
सनसों तें थोरको झन करबे आही बेटी तीजा पोरा
सनसों तें थोरको झन करबे आही बेटी तीजा पोरा

मोर गरीबीन तोर बर मैं हा करके रखे रइहव जोरा
मोर गरीबीन तोर बर मैं हा करके रखे रइहव जोरा
सती अनसुईया सावित्री सही वो~~~~~~~~~
बेटी वो~~~~~~~ओ~हो~~ बेटी वो~~
सती अनसुईया सावित्री सही वो~
कुल के लाज बचाबे वो~
कुल के लाज बचाबे~

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
ए झन रो मोर दुलौरिन हीरा~~~~~~~~~~~आ~ (सिसकी)
हीरा वो~~~~~~~ओ~~ (सिसकी) बेटी वो~~ (सिसकी)
झन रो मोर (सिसकी) दुलौरिन बेटी
झन रो (सिसकी) मोर दुलौरिन बेटी (सिसकी)
सुन्दर खाबे कमाबे वो~
सुन्दर खाबे कमाबे~

करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे
जा बेटी जा (सिसकी)
करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे~
जा तेहां ससुरार जाबे~ जाबे~ (सिसकी)
जा तेहां ससुरार जाबे~
जा तेहां ससुरार जाबे~ जाबे~ (सिसकी)
जा तेहां ससुरार जाबे~


गायन शैली : ?
गीतकार : पंचराम मिर्झा
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : पंचराम मिर्झा
गायन : पंचराम मिर्झा, कुलवंतीन मिर्झा
एल्बम : पंचराम मिर्झा के लुभावन गीत – टी सीरीज
संस्‍था/लोककला मंच : ?

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

9 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. cgsongs
    सितम्बर 25, 2010 @ 06:24:11

    पंचराम मिर्झा जी ने इस हृदयस्पर्शी गीत को विदाई के समय कि मनोभाव और मनःस्थिति को ध्यान में रखते हुवे सम्पूर्ण तल्लीनता के साथ गाया है, उनकी इस तल्लीनता के लिए उन्हें हमारा सत सत नमन…

    प्रतिक्रिया

  2. nemlal sahu
    मार्च 17, 2011 @ 10:35:02

    aap man ke gana la sun ke mola adbad nik lagis isne virah gana au samil kare ke kosis kerhu……

    प्रतिक्रिया

  3. Ramnath Tiwari
    मार्च 24, 2011 @ 16:32:44

    Tuhar Man Ke Gana Bahut Pasand Aayis

    Aap Man La Bahut Bahut Badhai!!!!!!!!!!!

    प्रतिक्रिया

  4. Siv Prasad Sajag
    अप्रैल 22, 2011 @ 13:25:23

    chhattiasgarhi git k kona jawab nai he. gajab sugghar lagis. aap man la danyawad!

    प्रतिक्रिया

  5. arya shiv
    नवम्बर 20, 2011 @ 14:02:37

    dhanyawad bhai mere

    प्रतिक्रिया

  6. Balram
    मार्च 01, 2012 @ 08:41:08

    Ati sundar

    प्रतिक्रिया

  7. Jhamman Chandravanshi
    मई 28, 2014 @ 17:21:49

    App mank gana la sunk bhut acha lagish app man la jay johar

    प्रतिक्रिया

  8. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    दिसम्बर 04, 2014 @ 14:11:05

    beti ke maya ke bad sughghar rarchna he aisan geet hamar sanskar bar au gana chahi.

    प्रतिक्रिया

  9. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    दिसम्बर 04, 2014 @ 14:14:27

    beti gala ke singar he au dai dada ke dular .maya ke bandhana ma sabo bandhaye rahithan.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: