मोर तरसे नैना … Mor Tarse Naina

मोर तरसे नैना~~आं~आं~आं~आ~आ~
मोर तरसे~~~ नैना~~~

मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा सुन्ना परे हे
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा
सिरतो हिरदे के अयना
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला

देखव नहीं तन में आगी ढीलाथे
कईसे बतावव ये दिन पहाथे
देखव नहीं तन में आगी ढीलाथे
कईसे बतावव ये दिन पहाथे
सुरता आथे रही रही मोला सुरता आथे
सुरता आथे रही रही मोला सुरता आथे
तोर मीठी बोली बैना~
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा सुन्ना परे हे
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा
सिरतो हिरदे के अयना
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला

धुकुर धुकुर लगे मन हे उदास
रोथव सुहावय नहीं बासी भात
धुकुर धुकुर लगे मन हे उदास
रोथव सुहावय नहीं बासी भात
तन हा मोर सुखवत हाबय तन हा मोर
तन हा मोर सुखवत हाबय
जइसे ये लकड़ी छेना~
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा सुन्ना परे हे
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा
सिरतो हिरदे के अयना
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला

किरया हाबय तेहां आबे जरुर
देखत रइहूँ मोर मन के मजुर
किरया हाबय तेहां आबे जरुर
देखत रइहूँ मोर मन के मजुर
काबर तैं हां आवस नहीं या काबर तैं
काबर तैं हां आवस नहीं या
का तोर हाबय धय्ना~
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा सुन्ना परे हे
सुन्ना परे हाबय ऐ मोर करोंदा
सिरतो हिरदे के अयना
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला
मोर तरसे नैना देखे बिना तोला रे
हाय मोर तरसे नैना देखे बिना तोला


गायन शैली : ?
गीतकार : पंचराम मिर्झा
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : पंचराम मिर्झा
गायिका : कुलवंतीन मिर्झा
एल्बम : पंचराम मिर्झा के लुभावन गीत – टी सीरीज
संस्‍था/लोककला मंच : ?

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

6 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. rajaram
    नवम्बर 02, 2011 @ 17:00:47

    I like old songs and thanks your website which i found my federate song.

    प्रतिक्रिया

  2. Devpatel
    अप्रैल 21, 2012 @ 04:53:08

    Naja aa gais….

    प्रतिक्रिया

  3. Devpatel
    अप्रैल 21, 2012 @ 04:55:19

    Maja aa gais….

    प्रतिक्रिया

  4. shashi kumar diwan
    जून 13, 2013 @ 18:27:46

    ऐ गाना ल सुनके मन ह एकदम गदगद होगे जतका मजा सुने मे आथे ओतका गोठियाय मे नई आय ये गाना के बोल ह अब्बड् सुघ्घर हे छत्तीसगढ के बोली अऊ छत्तीसगढी गीत म अब्बड़ मिठास हे

    प्रतिक्रिया

  5. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    जनवरी 30, 2015 @ 12:42:08

    Nacha saili me Panchram Mirza au kulwantin Bai ke gaye geet man bahut sunder au chhattisgarh ke dharohar he najariya geet ke bahut sunder prastuti ye geet ke madhyam le Kulwantin Bai dwara kare ge he..Dhanyawad.

    प्रतिक्रिया

  6. pradeep
    जुलाई 11, 2016 @ 15:43:39

    मजा आगे गाना सुन के मनभरगे

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: