चना के दार राजा … Chana Ke Dar Raja

हे बटकी में बासी, अउ चुटकी में नून
में गावतथव~ ददरिया
तें कान देके सुन वो~~~ चना के दार~~~

हे बागे बगीचा दिखे ला हरियर
बागे बगीचा दिखे ला हरियर
मोटरवाला नई दिखे, बदे हव नरियर, हाय चना के दार
हाय चना के दार राजा, चना के दार रानी
चना के दार गोंदली, तड़कत हे वो
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~

तरी फतोई~~~ ऊपर कुरता~~~~~~~~ हाय
तरी फतोई, ऊपर कुरता, हाय ऊपर कुरता~~
तरी फतोई, ऊपर कुरता, हाय ऊपर कुरता
रइ रइ के सताथे, तोरेच सुरता, होय चना के दार
हाय चना के दार राजा, चना के दार रानी
चना के दार गोंदली, तड़कत हे वो
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~

नवा सड़किया~~~ रेंगे ला मैंना~~~~~~~~ हाय
नवा सड़किया, रेंगे ला मैंना, हाय रेंगे ला मैंना~~
नवा सड़किया, रेंगे ला मैंना, हाय रेंगे ला मैंना
दु दिन के अवईया, लगाये महीना, होय चना के दार
हाय चना के दार राजा, चना के दार रानी
चना के दार गोंदली, तड़कत हे वो
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~

चांदी के मुंदरी~~~ चिनहारी करले वो~~~~~~~~ हाय
चांदी के मुंदरी, चिनहारी करले, हाय चिनहारी करले~~
चांदी के मुंदरी, चिनहारी करले, हाय चिनहारी करले
मैं रिथव नयापारा, चिनहारी करले, होय चना के दार
हाय चना के दार राजा,चना के दार रानी
चना के दार गोंदली, तड़कत हे वो
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~

कांदा रे कांदा~~~ केंवट कांदा हो~~~~~~~~ हाय
कांदा रे कांदा, केंवट कांदा, हाय केंवट कांदा~~
कांदा रे कांदा, केंवट कांदा, हाय केंवट कांदा
हे ददरिया गवईया के, नाम दादा, होय चना के दार
हाय चना के दार राजा, चना के दार रानी
चना के दार गोंदली, तड़कत हे वो
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~
टुरा हे परबुधिया, होटल में भजिया, झड़कत हे वो~


गायन शैली : ददरिया
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायक : शेख हुसैन
एल्बम : ?
संस्‍था/लोककला मंच : संगम आर्केस्ट्रा

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

29 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. SHEIKH FARID AHMED
    मार्च 14, 2011 @ 09:02:37

    its really nice job done by you to spread awareness about “CHATTISGARHI” songs.

    प्रतिक्रिया

  2. Khilesh
    मार्च 14, 2011 @ 12:06:26

    Waw kya songs hai.
    sach kahun bahut badhiya prayas hai.

    प्रतिक्रिया

  3. RAMGULAM SINHA
    मार्च 14, 2011 @ 19:06:32

    Chandrakar Bhai apla bahut-bahut dhanyavad. Aapman hamar dharohar joun ha nandawat he ola bajaye khatir achchha prayas kare hav tuhar ye prayas la naman he. hamar binti he chhattisagarh ke parmprik geet jenla bade gayak man nai gay he jaisan bans geet, danda geet, sohar geet , khel geet amanla bhi samil karihav ta hamar pura parmparik geet man aane wala pidi ke liye surkchit ho jahi.

    प्रतिक्रिया

  4. laxman khelwar
    मार्च 15, 2011 @ 20:45:45

    sach kahaw to guru ji mola heera mil ge joun gana la mai nanpan ma sune rehew wo gana la pake k bikat khusi hot he dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  5. Abhinav anand baxi
    मार्च 17, 2011 @ 14:03:43

    Nice job done by you rajesh sir
    My amma always ask me to search these songs.
    i got those in your site.
    very admiring work by you to save C.G.s cultural representative songs

    प्रतिक्रिया

  6. sandeep kanker
    मार्च 17, 2011 @ 15:43:52

    ye bhi bhadiya hai……………..

    प्रतिक्रिया

  7. uma shanker mishra
    अप्रैल 03, 2011 @ 15:15:43

    जोन गाना ला सुने बर मै तरश गेंव रेहेवं,वोला मै आप के किरपा ले सुन डारे हंव.बस अइसनें
    किरपा करे रहहु| छत्तीसगढ़ के लोक संस्कृति के आस्तित्व के रकक्षा बर आप मन के परयास के कतको परसंसा करे जाए कम हवे| आप मन ला अब्बढ़ अकन ले धन्यवाद

    प्रतिक्रिया

  8. uma shanker mishra
    अप्रैल 03, 2011 @ 15:24:29

    जोन गाना ला सुने बर मोर मन तरस गे रिहिस वो सब्बो गाना मोला आपके कंपूटर के खाल्हे माँ मिल गिस.हमर छत्तीसगढ़ी लोक संस्कृति ला बचाए बर आप मन के परयास बने लागत हवे|आप ला अब्बड़ अकन धन्यवाद

    प्रतिक्रिया

  9. KAILASH VAISHNAV
    अप्रैल 09, 2011 @ 15:22:01

    CHHATTISGARHI SANSKRITI LA BACHAYE BAR AAP MAN JO BUTA KARAT HO TEKAR JATKA PRASHANSHA KARE JAYE WO HA KAM HE, “AAPMANLA DHANYAWAD” YE MA KONO DU GOTH NAHI HE KI YE ATEK SHUGGAR GEET HA NANDAT JAT HE PAR YE PRAYAS LA DEKH KE BADA KHUSHI HOT HE MAN MA. PAHLI MAJHANIYA RADIO ME SUNELA MILAT RAHIS HE TEN LA PHER SE SUNBO KABAR ABHI KE NAWA CHHATTISGRHI GEET ME PURANA MAJA NAHI HE 10 ME 2THIK BANE LAGTE BAKI HA KAN KE DARD HE AAPMANLA BAR BAR DHANYAWAD AAU ABBADKAN SHUBHKAMNA.

    प्रतिक्रिया

  10. maahie nayak
    अप्रैल 15, 2011 @ 11:04:45

    main har bahut din se aisan majedaar chhattigarhi geet ke intezaar mein raheinw yaa…

    प्रतिक्रिया

  11. naveen kumar tiwari
    जुलाई 28, 2011 @ 22:25:45

    dadariya me shekh husen ji ka achaa pakadh rahaa hai aur kisi ko majak me chedhane ka asli maja dadariya geeto me hi aataa hai , bahut achaa dadaariya geet aur pure tanmayata se gaaya gaya geet sun kar majaa aa gayaa , dhanyawad, jai johar,jai chattisgarh,

    प्रतिक्रिया

  12. rupendra verma
    जुलाई 31, 2011 @ 19:50:11

    bachpana ke madhur smriti se rub ru karebar bahut bahut dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  13. aman manikpuri anjor das
    अगस्त 01, 2011 @ 13:27:49

    bahut achha gaye he ye geet la husain ji…

    प्रतिक्रिया

  14. आशुतोष मिश्र , रायपुर
    नवम्बर 20, 2011 @ 13:26:50


    ऊपर दी गई लिंक पर क्लिक कर देखिए कि आज क्या हाल है इस गीत के मशहूर गायक हुसैन साहब के … बहुत बीमार चल रहे हैं …

    प्रतिक्रिया

  15. सीताराम सेन
    अप्रैल 09, 2012 @ 07:15:12

    बने लागिस

    प्रतिक्रिया

  16. karan
    जून 19, 2012 @ 15:32:46

    manla mohlis aapman k dhanyawad jo ki aaj bhi ye sab geet la jor k raakhe ho

    प्रतिक्रिया

  17. karan
    जून 19, 2012 @ 15:45:19

    rajesh bhai ka kahaw samaj nai awat he bas aap man la dhanya waad

    प्रतिक्रिया

  18. Devwrat Bhagat
    जून 27, 2012 @ 22:22:33

    Ye geet Sada Husain ji ki Yaad dilata rahega…..

    प्रतिक्रिया

  19. vikku
    जनवरी 24, 2013 @ 15:43:45

    shekh sahab ke yogdan le chhattisgarhi kala jagat dhanvan hoe havay mati ke aisan lal la shatshat naman

    प्रतिक्रिया

  20. gorelal
    फरवरी 22, 2013 @ 16:43:21

    Ati sughar lagis

    प्रतिक्रिया

  21. laxmikant gajendra
    मार्च 04, 2013 @ 15:15:16

    shekh saheb aap la bahut bahut dhanyawad he ki aap hamar dharohar la sakel ke rakhe hawaw

    प्रतिक्रिया

  22. Manoj khurse
    अप्रैल 11, 2013 @ 15:21:24

    Husain saheb aap kaisan ho. Aap k umar lambi ho.

    प्रतिक्रिया

  23. Devwrat Bhagat
    जून 18, 2013 @ 17:08:57

    सच में बार-बार सुनने को जी करता है……….

    प्रतिक्रिया

  24. chiteshwar das
    अगस्त 09, 2013 @ 22:29:21

    ye geet m hamar chhattisgarh ke sanskriti ke jhalak dekhe la milthe.Bahut hi sundar dhang le gaye he shekh ji ha.

    प्रतिक्रिया

  25. कल्याणसिँह पटेल
    नवम्बर 20, 2013 @ 18:00:09

    ये गीत ” चना के दार” के ददरिया बड़ सुघ्घर लागिस सँगी। कल्याणसिँह पटेल बीरगाँव रायपुर छ ग

    प्रतिक्रिया

  26. sinend
    मार्च 07, 2014 @ 22:25:58

    man ha tarst rhis ay dadriya la sune br

    प्रतिक्रिया

  27. Khilesh nirmalkar VILL. MIRCHE(CHILHATI) A.CHOWKI RAJNANDGAON CG PIN NO 491668 CONT.NO 9981912690
    अप्रैल 06, 2014 @ 12:12:46

    thank you sir ji i love chattishgadh

    प्रतिक्रिया

  28. Champu raja
    अप्रैल 13, 2014 @ 12:05:04

    Mai ha ek chhote se nacha parti chalatho. Au aisne gana man la bajatho mola bahut khusi hothe jab logan man aisan gana la sun jhum uthte such ye gana ma bahut maza.
    Aap man ha KHULESHWAR TAMRAKAR ji k jammo gana la bhej detew. Dhanyawaad
    champu raja patsevoni chhura gariaband

    प्रतिक्रिया

  29. amar barman
    मार्च 14, 2015 @ 19:19:58

    Ye geet hamari sanskritik virasat hai.hame chhattisgarhi geet par naaj hai

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: