काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा … Kabar Samaye Re Mor, Bairi Naina Ma

 

प्रस्तुत गीत   श्री राहुल सिंह जी  (सिंहावलोकन ब्लाग)  से ई-मेल द्वारा प्राप्त होय हे ।

 

आ~~~~~
आ~~~~~
हो~~~~~
हो~~~~~
हूँ~~~
हूँ~~~
हूँ~~
हूँ~

काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
झूलत रहिथे तोरे चेहरा
ए हिरदे के अएना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा

अपने अपन मोला हांसी आथे
सुरता मा तोर रोवासी आथे

अपने अपन मोला हांसी आथे
सुरता मा तोर रोवासी आथे
का जादू डारे
ए~ ए~ रे टोनहा तैं
ए पिंजरा के मैंना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा

आथे घटा करिया घनघोर
झूमर जाथे मंजूर मन मोर

आथे घटा करिया घनघोर
झूमर जाथे मंजूर मन मोर
पुरवईया असन
आ~ आ~ आजे संगी
पानी हो के रैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा

का होगे मोला तोर गीत गा के
नाचे के मन होथे

काम बुता मा मन नइ लागे
धकर धकर तन होथे
आके कुछु कहिते
ए~ ए~ ए संगवारी
मया के बोली बैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
झूलत रहिथे तोरे चेहरा
ए हिरदे के अएना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा


गायन शैली : ?
गीतकार : लक्ष्‍मण मस्‍तुरिया
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : खुमान गिरजा
गायिका : संगीता चौबे
एल्बम : ?
संस्‍था/लोककला मंच : ?

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

43 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल कुमार सिंह
    अक्टूबर 05, 2010 @ 07:45:38

    छत्‍तीसगढ़ी गीत के संग धरे म हमरो नांव टंका जात हे, ए मेरा. छत्‍तीसगढ़ी गीत संगी, धन्‍न हे.

    प्रतिक्रिया

  2. नवीन
    अक्टूबर 06, 2010 @ 12:54:25

    अब्बड़ सुघ्घर प्रयास हे , बहुत सुंदर गीत….

    प्रतिक्रिया

  3. S M HABIB
    अक्टूबर 06, 2010 @ 19:21:02

    बड सुग्घर गीत हवे.. सुनतेच रहितेंव ऐसे लागत हवे..

    प्रतिक्रिया

  4. Manoj
    फरवरी 17, 2011 @ 16:32:41

    wah kya collection hai

    प्रतिक्रिया

  5. Shankar Lal Sahu
    मार्च 14, 2011 @ 16:09:36

    Mola kedar yadav and sadhana yadav ke old geet sunna

    प्रतिक्रिया

  6. Mithlesh patel
    मार्च 18, 2011 @ 16:59:09

    chhutge dai dada ke angana duwar jay bar he pardesh geet la sunatev badhiya lagtis

    प्रतिक्रिया

  7. basant kumar siware
    मार्च 19, 2011 @ 18:05:10

    chattishgarhi me abar akan virah git have uhu la blag me daltev orignal music me ihi git la sunwatev ji

    प्रतिक्रिया

  8. UMASHANKER
    मई 13, 2011 @ 12:01:14

    kaber samye more bari naina ma….

    प्रतिक्रिया

  9. sadhana
    जून 16, 2011 @ 17:12:39

    haan yahi waala…kahin mil sakta hai kya???????plzzzzzz aapke paas ho toh hume btaiye……ya apko pata ho kisi k paas hai toh….

    प्रतिक्रिया

  10. Rishabh Yogi
    जून 24, 2011 @ 18:56:22

    bane lagis tor geet ha sangi jamo jhan la jai johar

    प्रतिक्रिया

  11. SANTOSH SAHU KASDOL
    अगस्त 04, 2011 @ 17:51:05

    NAG MATI VIRAH KO YAD DILA DIYE…………….

    प्रतिक्रिया

  12. manoj
    अगस्त 25, 2011 @ 15:30:27

    maja aage yaar

    प्रतिक्रिया

  13. एमन दास मानिकपुरी
    अगस्त 25, 2011 @ 15:35:39

    bahu achha rachna he………….

    प्रतिक्रिया

  14. BHAGWAT SONKAR
    सितम्बर 28, 2011 @ 15:57:09

    YE GEET LA ME HA JAB BHI SUNTHO TO YE GEET HA MOR DIL LA CHHU JATHE TEKHAR SETI YE GEET MOLA BAHUT2 BADHIHA LAGTHE
    JAI CHHATTISGAR, JAI JOHAR
    CHHATTISGARIHA SABLE BADHIYA…….

    प्रतिक्रिया

  15. PUNESHWAR LAL SINHA RAIPURIHA
    सितम्बर 28, 2011 @ 16:02:05

    YE GANA LA SUNTHO ABBAD MAYA AATHE MOLA YE GEET BAR AU MOR DIL HA BHAR JATHE ………….
    JAI JOHAR ……………

    प्रतिक्रिया

  16. dadu ram Ratrey
    अक्टूबर 26, 2011 @ 23:46:25

    apka prayash bahut hi achha hai. hum sab chhatisgaria manla ama gurv he. geet sunen , bahut accha lagish ji. Diwali ki shubh kamna.
    geet la download kareba ka kareba padahi. apman batahu ta thik rahitish…. download nahi hot he…..

    प्रतिक्रिया

  17. BALRAM SONWANI-9907758042
    नवम्बर 07, 2011 @ 15:44:48

    काबर समाये रे मोर, बैरी नैना मा
    GREAT SONG and my fawret song….

    प्रतिक्रिया

  18. Heeradhar sinha
    नवम्बर 12, 2011 @ 05:47:46

    aapke saare geet ek se badkar ek hai.geet collection ke liye dhanyawad.

    प्रतिक्रिया

  19. Mukesh Chand
    नवम्बर 17, 2011 @ 02:20:36

    09829018116

    प्रतिक्रिया

  20. Mukesh Chand
    नवम्बर 17, 2011 @ 02:35:38

    Daduram Satayram ji,

    Apne ye song bahut achha likha hai. ham bhagwan ( dadu dayal ji maharaj ji ) se parathna karte hai ki aap aur achhe bhajan likhte rahe. Main ab aur achhe bhajan ki aasha main baitha hun.

    Mukesh Chand Kumawat , Village – Gopalpura, Post – Ugriyawas, Via – Phulera, Distt. – Jaipur, ( Rajasthan ) Mo. no. 09829018116

    प्रतिक्रिया

  21. Samay Sahu
    दिसम्बर 10, 2011 @ 11:02:42

    Shandaar, adbhut, really great

    प्रतिक्रिया

  22. Dinesh Kumar Hansh
    मार्च 11, 2012 @ 22:26:20

    kaka ga ram ram
    Bane sughar geet rakhe has ga.
    Abbad mith lagis.

    प्रतिक्रिया

  23. Lochan Prasad Dansena Tundri'''' Nawaparea
    मई 22, 2012 @ 10:57:08

    om computer best song

    प्रतिक्रिया

  24. dinesh
    जून 06, 2012 @ 01:36:23

    Sarver ko thik kariye….. please

    प्रतिक्रिया

  25. virendra
    अगस्त 01, 2012 @ 16:45:41

    मोर पसंद के बहूत बढ़िया गीत, आज भी सुनबे तभो ताज़ा लग थे

    प्रतिक्रिया

  26. chitrakant dhruw
    जनवरी 06, 2013 @ 18:45:08

    dil ko chhu liya

    प्रतिक्रिया

  27. छबीराम साहू
    मार्च 26, 2013 @ 12:47:08

    बड़ा सुघर गित हे जेला सुन के अंतश के आरो जाग गे ये गित बर आप मंन ला गाड़ा गाड़ा बधाई

    प्रतिक्रिया

  28. Yuvraj Yadav (Press reporter) at+po. mandi chowk, kasdol (balodabazar) c.g.
    अप्रैल 10, 2013 @ 12:49:54

    sangi…. ye geet to mor hriday ke bhitari ma saman gis… yeh geet ke rachaiya au gawaiya la mor bahut bahut dhanyawad jai johar …jai chhattisgarh……

    प्रतिक्रिया

  29. raghu
    जुलाई 11, 2013 @ 10:03:30

    badhaya Lagos ji mola

    प्रतिक्रिया

  30. dhansay yadav
    जनवरी 07, 2014 @ 14:57:43

    iqjkuk NRrhlx<+h xhr ds esa ga jfld Jksrk vkao] Qsj ;s xkuk eu lqus cj ubZ fey;A vkt igyh csj ;s lkbV e ns[k ds xtc [kq’kh gksr gsA Qsj esa dbls tqUuk xhr rd igqapgwA dkcj usV ds rjhdk eksyk cjkscj ekywe ub;sA
    /kulk; ;kno iuxkao cykSnkcktkj

    प्रतिक्रिया

  31. b.bhaskar rao
    जून 22, 2014 @ 18:47:54

    this song is not original sang by Sadhna Yadav, it is by Sangita Choubey.

    प्रतिक्रिया

  32. manohar nag
    जुलाई 05, 2014 @ 13:27:31

    sangi tea kabar samay mor a geet la jatka sunbe man nhi bhare

    प्रतिक्रिया

  33. haradayal ratre
    अगस्त 06, 2014 @ 16:47:29

    best song of chhattisgarh

    प्रतिक्रिया

  34. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    दिसम्बर 03, 2014 @ 14:39:22

    kaber samaye mor bairi naina ma aaj bhi prasangik he jatka o ha pahili rihis .

    प्रतिक्रिया

  35. ganesh sharma
    दिसम्बर 24, 2014 @ 01:04:55

    bhut badhiya

    प्रतिक्रिया

  36. ganesh sharma mob.09575074555
    दिसम्बर 24, 2014 @ 01:06:48

    purane gano k samne to sab fail hai ……..

    प्रतिक्रिया

  37. shatrughan yadav raigarh
    फरवरी 14, 2015 @ 16:40:37

    Mere pitaji lori ke bajy is gane ko sunate tab se is gane ko gungunata aur sunta hi hu (best song)

    प्रतिक्रिया

  38. shraddha
    जुलाई 08, 2015 @ 11:37:36

    Mola dilip lahriya ke gana sunna he

    प्रतिक्रिया

  39. hari singh yadav
    अक्टूबर 20, 2015 @ 23:35:29

    hari singh yadav vilj.chhatpara panch.khamhi post bamhani tana samnapur distika dindori sambhaga jabalpur stad.mp

    प्रतिक्रिया

  40. कृष्णा कुमार देवांगन
    अगस्त 06, 2016 @ 09:47:55

    छत्तीसगढ़ के जुन्ना गीत मन मा अब्बड़ मिठास हे।

    प्रतिक्रिया

  41. chitrakumar bhoi
    सितम्बर 10, 2016 @ 07:21:37

    बढ़िया लगथे ए गीत ह जब भी सुनथंव दिल म झंकार हिलोर मारथय।

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: