दया मया लेजा रे मोर गाँव ले … Daya Maya Leja Re Mor Gaon Le

शहर डहर के जवईया चिकन चातर के रेंगईया
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
हो शहर डहर के जवईया चिकन चातर के रेंगईया
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~

बईठ बर छईहा बगरे मन बईठाले
बईठ नीम छईहा मा घम आ छईहा ले

तरिया के पानी मा मन भर नहा ले
नरवा के पानी पी हिरदे जुड़ाले

चार पहर रतिहा परछी मा पहा ले
थके हारे तन ला नवा बल बांधले
शहर डहर के जवईया~~~~~
हो शहर डहर के जवईया चिकन चातर के रेंगईया
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
हो शहर डहर के जवईया चिकन चातर के रेंगईया
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~

दु दिन के चकचक चक्कर मा भुला झन
डोरी हे कच्चा जीवन ला झूला झन

मौत होये के पथरा मा ठोकर तैं खा झन
मधु मद मा मरमर के जियत भूंजा झन

ले जाही काल पकड़ सब नगा के
जे भेजे हाबे हम सब ला बना के
दुनिया के जे चलईया~~~~~
हे दुनिया के जे चलईया हाबे बड़ा निरदईया
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
हो शहर डहर के जवईया चिकन चातर के रेंगईया
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~
दया मया लेजा रे मोर गाँव ले~


गायन शैली : ?
गीतकार : लक्ष्‍मण मस्‍तुरिया
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : खुमान गिरजा
गायिका : संगीता चौबे
एल्बम : ?
संस्‍था/लोककला मंच : ?

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

26 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल कुमार सिंह
    अक्टूबर 07, 2010 @ 07:31:39

    आनंद आ गे ग आज बिहनिहे बिहनिया.

    प्रतिक्रिया

  2. समीर लाल
    अक्टूबर 07, 2010 @ 08:21:12

    कर्णप्रिय गीत…

    प्रतिक्रिया

  3. Siv Prasad Sajag
    अप्रैल 27, 2011 @ 22:38:34

    चंद्राकर जी आप मन के प्रयास से ये सफल हो पैस की हम भूले हुवे वो जम्मो गीत ला सुन पट हन आप लगे रहो
    आप मन के कुछु कम आ सकहु ता अपन आप ला धन्य सम्झाहू.

    प्रतिक्रिया

  4. Gaurav singh yadav
    अक्टूबर 26, 2011 @ 15:35:30

    good song

    प्रतिक्रिया

  5. nehru lal nishad
    नवम्बर 12, 2011 @ 17:12:32

    mai eak bat au kahu ki jatka purana gana he tela fir se nawa dhun ma fer parostew te aachha lagtin

    प्रतिक्रिया

  6. s jaggu
    दिसम्बर 30, 2011 @ 10:46:34

    bahut sughar geet he ji

    प्रतिक्रिया

  7. Sanjay Puri Goswami
    अप्रैल 14, 2012 @ 17:29:47

    ye geet ha man la chhuat rahis he .Ab ola fer sun ke maja aage.

    प्रतिक्रिया

  8. firoj singh thakur
    जून 06, 2012 @ 17:21:26

    sugghar geet haway man la moh daris ga bhaiya……

    प्रतिक्रिया

  9. Hemant sahu
    जुलाई 27, 2012 @ 10:21:24

    Bhahut badiha lagis ji ye geet ha

    प्रतिक्रिया

  10. Keshari datan 9575616161
    अक्टूबर 28, 2012 @ 12:54:00

    TOR GEET HA MAN LA GADGAD KAR DARISH GA BHAIYA JI

    प्रतिक्रिया

  11. M.L. Shahjit
    नवम्बर 23, 2012 @ 12:01:10

    तोर गाना ह ह्रदय ल छू जा थे ……. मजा आ गे

    प्रतिक्रिया

  12. Rakesh Verma
    दिसम्बर 08, 2012 @ 20:36:10

    chandrakar bhiya jay ho

    प्रतिक्रिया

  13. RAJESH KUMAR SAHU
    दिसम्बर 10, 2012 @ 12:44:24

    ra

    प्रतिक्रिया

  14. jagmoha yadav
    दिसम्बर 14, 2012 @ 19:07:08

    tijan bai kr pandwani sune bar miltis t anand aa jahi bahiya ji

    प्रतिक्रिया

  15. janak ram dhruw
    दिसम्बर 14, 2012 @ 20:40:29

    nice collection🙂 keep upating

    प्रतिक्रिया

  16. Janak Ram Dhruw
    दिसम्बर 14, 2012 @ 20:43:01

    good song

    प्रतिक्रिया

  17. om sahu Deosagar 9977557727
    मई 02, 2013 @ 15:27:12

    dhanywa. ye gana ke lekhak au gawai la

    प्रतिक्रिया

  18. Yeegal Kishor Sahu Sambalpur
    मई 24, 2013 @ 15:21:50

    thanks for chhatisgarhi geet sangeet
    bahut badiya laga i thik i love c.g.

    प्रतिक्रिया

  19. bhuvendra shory
    जून 04, 2013 @ 21:45:35

    bahut accha song mai kai dino se chhattisgarhi song dondh raha tha jo mujhe aaj mila thanks for this song

    प्रतिक्रिया

  20. shashi kumar diwan
    जून 27, 2013 @ 12:35:25

    ये गीत ह तो मोर हिरदय ल छु लिस, का गजब के गीत हे अऊ गीत ल सुनके मजा आगे, भाई सिरतोन म ये छत्तीसगढ़ही गीत म बहुत मिठास हे मोर संगवारी मन बहुत पसंद करिस अऊ आप ल ढ़ेर सारा बधाई.मोर अऊ मोर संगवारी के तरफ ले.मोर संगवारी के नाम=अमित चौहान,राजेश दीवान,यशपाल दीवान किशोर, मधु ,मनु, मानषी,ललिता, कौशल्या, पुन्नी, सचिन दीवान ।। ये मन ल गाना ह बहुत पसँद अईस. जय जोहार

    प्रतिक्रिया

  21. Khilesh nirmalkar
    अप्रैल 06, 2014 @ 10:31:41

    का गजब के गीत हे ऎकर भाव मा वो जादु हे मन मोहागे.I love you sir मै खिलेश निर्मलकर मिरचे चिल्हाटी राजनांदगांव

    प्रतिक्रिया

  22. Om Sahu
    सितम्बर 02, 2014 @ 09:22:20

    mya ke geet hawe.. cg gana man ma

    प्रतिक्रिया

  23. santosh sahu
    दिसम्बर 20, 2014 @ 13:50:48

    22 sal piche ke din yaad age ga maa age maja age

    प्रतिक्रिया

  24. लोकेश्वर मिश्रा
    जनवरी 17, 2015 @ 01:05:46

    हमर महतारी के गुत्तुर गुत्तुर बोली
    जइसे गावत हवे कोयली
    थके हारे मइनखे बर पानी अऊ गुड़ के भेली
    तइसे परम सुहावन हमर छत्तीसगढ़ीया बोली

    प्रतिक्रिया

  25. Girendra Sahu
    अप्रैल 08, 2016 @ 14:06:06

    mazzzza age

    प्रतिक्रिया

  26. अजीत कुमार कुर्रे
    अगस्त 02, 2016 @ 07:42:45

    छत्तीसगढ़ की परम्परा व संस्कृति के बखान अनमोल शब्दों के साथ आप जो अपनी वाणी से करेव एकर लिए बहुत् धन्यवाद अजीत कुर्रे नवागढ़ बेमेतरा

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: