तरी हरी नाना रे … Tari Hari Nana Re

सुआ नाच

चलो मन बंसरी बजावे जिहां मोहना रे
राधा रानी नाचे ठुमा ठु~म
रास रचावे जिहां गोकुल गुवाला रे
मिरदंग बाजे धुमा धुम
मोर सुवा ना मिरदंग बाजे धुमा धु~म
तरी हरी नहा ना रे, नाना मोर सुवा ना
तरी हरी नाना रे नाना~

जमुना के खड़ मा कदम के बिरझा
नाचत थे मंजुरा अव फुदकत थे हिरणा
केदली कछार जिहां बोलथे पपीहरा रे
गमकत हाबे पाना फु~ल
रास रचावे जिहां गोकुल गुवाला रे
मिरदंग बाजे धुमा धुम
मोर सुवा ना मिरदंग बाजे धुमा धु~म
तरी हरी नहा ना रे, नाना मोर सुवा ना
तरी हरी नाना रे नाना~

रूनझुन धुन गूँजे कदम के छईहां
नाचत थे गुवालिन जिहां जोरे जोरे बईहा
झाँझ मंजिरा जिहां झमके झमाझम रे
घुँघरू छुनके छुनाछु~न
रास रचावे जिहां गोकुल गुवाला रे
मिरदंग बाजे धुमा धुम
मोर सुवा ना मिरदंग बाजे धुमा धु~म
तरी हरी नहा ना रे, नाना मोर सुवा ना
तरी हरी नाना रे नाना~

कलकल छलछल, छलकथे जमुना
झनन-झनन झनके ताल अव तमुरा
महर महर बन म मन लेय लहरा ले
भँवरा गुँजावे गुनागु~न
रास रचावे जिहां गोकुल गुवाला रे
मिरदंग बाजे धुमा धुम
मोर सुवा न मिरदंग बाजे धुमा धु~म

चलो मन बंसरी बजावे जिहां मोहना रे
राधा रानी नाचे ठुमा ठु~म
रास रचावे जिहां गोकुल गुवाला रे
मिरदंग बाजे धुमा धुम
मोर सुवा ना मिरदंग बाजे धुमा धु~म

तरी हरी नहा ना रे, नाना मोर सुवा ना
तरी हरी नाना रे नाना~
तरी हरी नहा ना रे, नाना मोर सुवा ना
तरी हरी नाना रे नाना~
तरी हरी नहा ना रे, नाना मोर सुवा ना


गायन शैली : सुआ गीत
गीतकार : लक्ष्मण मस्तुरिया
रचना के वर्ष : 1982
संगीतकार : खुमान गिरजा
गायिका : अनुराग ठाकुर, कविता वासनिक (हिरकने)
संस्‍था/लोककला मंच : ?

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

23 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. cgsongs
    नवम्बर 05, 2010 @ 04:21:55

    जइसे ओ मइया लिहे दिहे आना रे सुअना
    तइसे तैं लेइले असीस
    अन धन लक्ष्मी म तोरे घर भरै रे सुअना
    जिये जग लाख बरीस…

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं…

    प्रतिक्रिया

  2. Billu Bhaiya
    नवम्बर 07, 2010 @ 10:21:23

    सुआ नृत्य :- छत्तीसगढ़ के स्त्रियों का यह समूह नृत्य है। नारी मन की भावना, सुख-दुख की अभिव्यक्ति और उनके अंगों का लावण्य ”सुवा नृत्य” या ”सुवना” में देखने को मिलता है। इस नृत्य का आरंभ दीपावली से होता है जो अगहन मास तक चलता है। इस वृत्ताकार नृत्य में एक लड़की जो ”सुग्गी” कहलाती है, धान से भरी टोकरी में मिट्टी का सुग्गा रखती है-कहीं एक तो कहीं दो। ये शिव और पार्वती के प्रतीक होते हैं। टोकरी में रखे सुवे को हर रंग के नए कपड़े और धान के नव मंजरियो से सजाया जाता है। सुग्गी को घेरकर स्त्रियाँ ताली बजाकर नाचती और गाती हैं। इनके दो दल होते हैं। पहला दल जब खड़े होकर ताली बजाते गीत गाता है तो दूसरा दल अर्द्ध वृत्त में झूककर ऐड़ी और अंगूठे की पारी पारी उठाती और अगल बगल तालियाँ बजाकर नाचतीं और गाती हैं :-
    चंदा के अंजोरी म
    जुड़ लागय रतिहा,
    न रे सुवना बने लागय
    गोरसी अऊ धाम।
    अगहन पूस के ये
    जाड़ा न रे सुवना
    खरही म गंजावत हावय धान।

    सुवा गीत की प्रत्येक पंक्तियाँ विभिन्न गुणों से सजी होती है-चाहे प्रकृति की हरियाली देखकर किसान का प्रफुल्लित होता मन हो या विरह की आग मे जलती प्रेयसी की व्यथा, चाहे ठिठोली करती ग्राम बालाओं की आपसी नोंक-झोंक या अतीत की विस्तार गाथा, प्रत्येक संदर्भ में सुआ मध्यस्थ का कार्य करता है। देखिए एक बानगी –
    ”पइयाँ मै लागौं चंदा सुरज के रे सुअनां
    तिरिया जनम झन देय
    तिरिया जनम मोर गऊ के बरोबर
    जहाँ पठवय तहं जाये।
    अंगठित मोरि मोरि घर लिपवायं रे सुअना।
    फेर ननद के मन नहि आय
    बांह पकड़ के सइयाँ घर लानय रे सुअना।
    फेर ससुर हर सटका बताय।
    भाई है देहे रंगमहल दुमंजला रे सुअना।
    हमला तै दिये रे विदेस
    पहली गवन करै डेहरी बइठाय रे सुअना।
    छोड़ि के चलय बनिजार
    तुहूं धनी जावत हा, अनिज बनिज बर रे सुअना।
    कइसे के रइहौं ससुरार
    सारे संग खइबे, ननद संग सोइबे रे सुअना।
    के लहुंरा देवर मोर बेटवा बरोबर
    कइसे रहहौं मन बाँध।”

    सुआ नृत्य के उपलक्ष्य में मालकिन रूपया-पैसा अथवा धन-चावल देकर विदा करती है, तब सुआ नृत्य की टोली विदाई गीत गाती है –
    ”जइसे ओ मइया लिहे दिहे आना रे सुअना।
    तइसे तैं लेइले असीस
    अन धन लक्ष्मी म तोरे घर भरै रे सुअना।
    जिये जग लाख बरीस…।”

    प्रतिक्रिया

  3. HIRALAL KASHYAP
    फरवरी 25, 2011 @ 16:11:40

    bahut din baad ye sunder gana sune la milise] chhattisgarhi ke vikas bar tuhar prayas ke badai kare bar more lang koi goth nayi he…… ram ram.

    प्रतिक्रिया

  4. chanchal
    मार्च 14, 2011 @ 10:49:42

    this is nice to collecting & listning chhattisgarhi songs but i want to share this on facebook but i could not. tell me how i can share this songs with facebook.
    thanks
    chanchal bhatia

    प्रतिक्रिया

    • cgsongs
      मार्च 14, 2011 @ 11:12:52

      1. जिस गाने को फेसबुक में शेयर करना हो, उस गाने के पेज लिंक जैसे इस गाने का पेज लिंक https://cgsongs.wordpress.com/2010/11/05/tari-hari-nana-re/ है को फेसबुक के आपके वाल में Link Attachment के द्वारा शेयर किया जा सकता है| गाने का पेज लिंक Address Bar से या गाने के Title के ऊपर राईट क्लिक करके Copy Link Location पर क्लिक कर प्राप्त कर सकते है|

      2. गाने के अंत में Share this में दिए Facebook Like के द्वारा भी आप गाना शेयर कर सकते हैं|

      प्रतिक्रिया

  5. T.S.KORCHE
    मार्च 15, 2011 @ 08:02:01

    geet mobile par full download nahi ho rahe hai.

    प्रतिक्रिया

  6. aman manikpuri anjor das
    अगस्त 03, 2011 @ 12:07:30

    lajawab rachna……………………..
    – एमन दास मानिकपुरी
    औरी भिलाई-३ दुर्ग

    प्रतिक्रिया

  7. aman manikpuri anjor das
    अगस्त 03, 2011 @ 12:30:30

    का पुरबल के भाग जागे हो रे सुवना ,
    तिरया जनम ऐसे आगे ..
    छोर के छ्न्दना ऐसे छूटगे माया के बंधना बंधागे ,
    मंगनी मया अतेक चिन्हौर मइके पराया लागे,
    ननपन भूले झूले झुलना माया के छैहा,
    ससुरे के दिन भुलागे ,
    सिया बिहा छूटगे तहले,
    खटिया गोरसी नोहरागे.
    का पुरबल के भाग जागे हो रे सुवना ,
    तिरया जनम ऐसे आगे ..
    ऐसे के बेरिया कोंन पुछैया,तिरया जनम तिरयागे,
    ताना ठोसरा म जिनगी खपगे रोवत गावत पहागे,,
    का पुरबल के भाग जागे हो रे सुवना ,
    तिरया जनम ऐसे आगे ………..

    गीतकार ;-
    एमन दास मानिकपुरी
    औंरी भिलाई-३ दुर्ग (छ.ग.)

    प्रतिक्रिया

  8. एमन दास मानिकपुरी
    अगस्त 25, 2011 @ 15:27:57

    suwa git ki bat hi nirali hai…………

    प्रतिक्रिया

  9. UTTAM JAIN
    अक्टूबर 26, 2011 @ 21:42:13

    IS DEEWALI ME YEH SITE KHOLA AUR LAJWAB GANA PAYA

    प्रतिक्रिया

  10. amit soni
    दिसम्बर 28, 2011 @ 23:18:48

    maa kasam ……. maza aa ge ////

    प्रतिक्रिया

  11. kumar dileep
    जनवरी 03, 2012 @ 14:07:57

    i like this type of songs

    प्रतिक्रिया

  12. ANAND SAHU DEEPAK NAGAR DURG
    जनवरी 03, 2012 @ 17:23:46

    chhattishgarya sable badya……………………………//////////////////////////

    प्रतिक्रिया

  13. ANAND SAHU DEEPAK NAGAR DURG
    जनवरी 03, 2012 @ 17:26:46

    KOLWARI DI MATLAB ………. JAB CHHATTISGHRYA DUKHI HOTA HAI TAB KOLKI YA BAADI ME JAAKAR ROTA HAI…………..////

    प्रतिक्रिया

  14. dinesh kumar hansh
    मार्च 11, 2012 @ 12:11:35

    jai johar

    प्रतिक्रिया

  15. tejram patel samkera
    अगस्त 09, 2012 @ 18:51:40

    is song ke liye betab tha aaj pura hua…………………………. thanks net.

    प्रतिक्रिया

  16. PRAVIN GAURIMA
    जनवरी 25, 2013 @ 18:23:47

    PRAVIN BABA 8959316787

    प्रतिक्रिया

  17. Yogesh prajapati
    जून 12, 2013 @ 22:07:20

    Bahut barhiya gana he.

    प्रतिक्रिया

  18. dhananjay
    अगस्त 07, 2013 @ 15:14:21

    Dhananjay lahare 7389129990 mola cg gana bahut badiya lagthe

    प्रतिक्रिया

  19. tameshwar Sahu Anjora
    अगस्त 16, 2013 @ 00:35:58

    aapke site me jen gana uplabdha habe oha mor bar sirf gana nohe oha to ANMOL RATAN hare . Bahut bahut dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  20. RAKESH VERMA
    सितम्बर 10, 2013 @ 13:37:11

    sir iska koi jawaab nahi hain iska hum dhanyawad bhi nahi kar sakte

    प्रतिक्रिया

  21. uttam jain
    सितम्बर 21, 2013 @ 11:53:04

    maja aa gay ji gana sunke………

    प्रतिक्रिया

  22. Punnilalyadav
    अगस्त 29, 2015 @ 17:27:53

    Hamar boli chhatisgarhi aye boli aye jekar koi boli bhasha mukabla nai kar sakey hamar boli ma mithash bhare he akar geet ma madhurta atek he ki madhu bhi fal he

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: