सुन सुन मोर मया पीरा के संगवारी रे … Sun Sun Mor Maya Pira Ke Sangwari Re

छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना के दस वर्ष पूरे होने के अवसर पर दूसरी छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘घर द्वार’ के निर्माता ‘स्व.विजय कुमार पाण्डेय’ के सुपुत्र और ‘घर द्वार कला संघ’ के निर्देशक श्री जयप्रकाश पाण्डेय से हमें आप तक पहुँचाने के लिए ‘घर द्वार’ फिल्म के गानों का MP3 ऑडियो फाइल और फोटोग्राफ प्राप्त हुआ है। जिसे आज से एक श्रृंखला के रूप में एक-एक करके आपको सुनाएगें …

जयप्रकाश पाण्डेय
जयप्रकाश पाण्डेय
पता : विजयबाड़ा, भनपुरी, रायपुर (छ.ग.), जे.के.फिल्मस्, रायपुर
मोबाइल : 9826108303, 9300008303

 

साहित्य, कला और संस्कृति की तरह फिल्मों को भी समाज का दर्पण कहा जाता है और यदि बात क्षेत्रीय फिल्मों की हो तो उसमें उस प्रदेश की माटी की खूशबू बसी होती है। यदि छत्तीसगढ़ी फिल्मों के इतिहास पर नजर दौड़ाएं तो इसका आरंभिक दौर काफी समृद्ध रहा है। छत्तीसगढ़ राज्य दस वर्ष पूर्व बना मगर छत्तीसगढ़ी फिल्मों का सफर चार दशक पूर्व प्रारंभ हो गया था।

घर द्वार

स्व.विजय कुमार पाण्डेय
स्व.विजय कुमार पाण्डेय

छत्तीसगढ़ की अस्मिता के लिए संघर्ष करने वाले भावना प्रधान और फिल्मों के जबरदस्त शौक़ीन स्व.विजय कुमार पाण्डेय ने ‘छत्तीसगढ़ के टूटते परिवार की कहानी’ को लेकर सन् 1965 में ‘घर द्वार’ बनाने का संकल्प लिया था। स्व.विजय कुमार पाण्डेय का जन्म 23 दिसम्बर 1944 को भनपुरी के मालगुजार स्व.विक्रमादित्य पाण्डेय के घर हुआ था। उस समय भनपुरी को रायपुर से लगा गाँव माना जाता था। अब तो यह रायपुर की सीमा में शामिल हो गया है। स्व.विजय पाण्डेय ‘घर द्वार’ बनाने मुम्बई (उस समय बम्बई हुआ करती थी) से पूरी टीम लेकर छत्तीसगढ़ आए। मुम्बई के नामचीन कलाकारों कानन मोहन, रंजीता ठाकुर एवं दुलारी ने ‘घर द्वार’ में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाई। छत्तीसगढ़ के कलाकारों जफर अली फरिश्ता, बल्लू रिजवी, बसंत दीवान, श्रीमती नीलू मेघ, भगवती दीक्षित, भास्कर काठोटे, श्रीराम कालेले, यशवंत गोविंद जोगलेकर, रामकुमार तिवारी, परवीन नील अहमद, ठाकुर दास आहूजा एवं शिवकुमार दीपक ने भी ‘घर द्वार’ में अहम् भूमिकाएं अदा की। फिल्म 35 एम एम श्वेत-श्याम (ब्लेक एण्ड व्हाईट) रिलीज हुई थी।

घर द्वार

गीत छत्तीसगढ़ के जाने-माने साहित्यकार हरि ठाकुर ने लिखा । हिंदी फिल्मों के जाने-माने संगीतकार जमाल सेन ने संगीत दिया । फिल्म का निर्देशन निरंजन तिवारी ने किया । निरंजन तिवारी मूलतः छत्तीसगढ़ के रहने वाले थे । बाद में मुम्बई जा बसे थे । ‘घर द्वार’ की शूटिंग सराईपाली राजमहल, बसना, रायपुर के जयस्तंभ चौक, महादेव घाट समते और भी कई स्थानों पर हुई । गीतों की रिकार्डिंग मुम्बई में हुई । हिंदी फिल्मों के जाने-माने गायक मोहम्मद रफी एवं गायिका सुमन कल्याणपुर ने ‘घर द्वार’ के गीतों के लिए अपनी आवाजें दीं । ‘घर द्वार’ के गीत ‘सुन-सुन मोर मया पीरा के संगवारी रे…’, ‘गोंदा फुलगे मोर राजा…’ एवं ‘झन मारो गुलेल…’ आज भी लोगों की जुबान पर चढ़े हुए हैं।

घर द्वार

घर द्वार

घर द्वार

‘घर द्वार’ के बाद विजय पाण्डेय हिंदी फिल्म ‘मेहँदी वाले हाथ’ का निर्माण करने जा रहे थे। इस फिल्म का मुहूर्त भी हो चूका था। 11 मार्च 1987 को अभनपुर के पास एक सड़क हादसे में विजय पाण्डेय का निधन हो गया और उनकी दूसरी फिल्म बनते-बनते रह गई। छत्तीसगढ़ी सिनेमा की बुनियाद रखने वालों में स्व.विजय कुमार पाण्डेय का नाम शुमार है।

छत्तीसगढ़ के कला पुत्र स्व.विजय कुमार पाण्डेय को भावभीनी श्रद्धांजलि…

 

आज के गीत का लिप्यांतरण श्री मोहम्मद जाकिर हुसैन जी ने किया है|

पेश है आज का गीत …

सुन सुन मोर मया~ पीरा के संगवारी रे~~~
आजा नैना ती~र आजा रे~~
आजा नैना ती~र आजा रे~~
सुन सुन मोर मया~ पीरा के संगवारी रे~~~
आजा नैना ती~र, आजा रे~~
होए आजा नैना ती~र आजा रे~~
(आ~जा~ रे~~)

मैना तहीं मोर मैना~~ मैना तहीं मोर मैना
के तोर बिन खाली जिंदगी के पिंजरा
के तोर बिन खाली जिंदगी के पिंजरा~आ~आ~आ
मोर सपना~ के~ सुन्ना~ हे फुलवारी रे~~
आजा मनके तीर~~ आजा रे~~~
(आ~जा~ रे~~)

राजा तहीं मोर राजा~~~ राजा तहीं मोर राजा
बना के तोला आंखी में लगा लेंव कजरा
बना के तोला आंखी में लगा लेंव कजरा~आ~आ~आ
मैं~ तो बनें~ हंव राधा, तैं बनवारी रे~~
आजा जमुना तीर~~ आजा रे~~
(आ~जा~ रे~~)

रानी तहीं मोर रानी~~~ रानी तहीं मोर रानी
कि प्रीत के दिया मा झन छाए बदरा
कि प्रीत के दिया मा झन छाए बदरा~आ~आ~आ
नित भर रस पिचका~री रे, संगवारी रे~~
आजा जियरा तीर~~ आजा रे~~
आजा जियरा तीर~~ आजा रे~~
सुन सुन मोर मया~ पीरा के संगवारी रे~~
आजा नैना तीर~~ आजा रे


गायन शैली : ?
गीतकार : हरि ठाकुर
रचना के वर्ष : 1965-68
संगीतकार : जमाल सेन
गायन : मोहम्मद रफी, सुमन कल्याणपुर
निर्माता : विजय कुमार पाण्डेय
फिल्म : घर द्वार
फिल्म रिलीज : 1971
संस्‍था : जे.के.फिल्मस्, रायपुर

‘घर द्वार’ फिल्म के अन्य गीत
गोंदा फुलगे मोरे राजा … Gonda Phoolege More Raja
झन मारो गुलेल … Jhan Maro Gulel
आज अध-रतिहा मोर फूल बगिया मा … Aaj Adh-ratiha Mor Phool Bagiyaa Ma
जउन भुईयाँ खेले … Jaun Bhuiayan Khele

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

77 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Sanjeeva Tiwari
    नवम्बर 17, 2010 @ 09:01:59

    बहुत बढि़या भाई, कालजयी फिल्‍म घर द्वार के संबंध में संपूर्ण जानकारी प्रस्‍तुत की है आपने।
    पीढि़यों के लिये दस्‍तावेजीकरण हो रहा है, धन्‍यवाद.

    प्रतिक्रिया

  2. ASHOK BAJAJ
    नवम्बर 17, 2010 @ 11:21:00

    बहुत ही मेहनत करके आपने ” घर द्वार ” को सजाया है . आपने आज गुजरे ज़माने की याद ताजी कर दी .कमाल है !

    आपको देवउठनी के पावन पर्व पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    प्रतिक्रिया

  3. cg swar
    नवम्बर 17, 2010 @ 20:42:12

    धन्‍यवाद आपको… हम तो इस फिल्‍म के गीतों का इंतजार लगातार तब से कर रहे थे जबसे आपकी साइट से जुडे हैं और आपको फरमाइश भेजने भी वाले थे। हमारी उम्‍मीद तो सिर्फ गीतों की थी लकिन ये बेहतरीन और संग्रहणीय जानकारी तो हमें पुरौनी में मिल गई। प्‍लीज बाकी गीत भी जरा जल्‍दी जल्‍दी……..

    प्रतिक्रिया

  4. Ashutosh Mishra
    नवम्बर 17, 2010 @ 22:54:33

    बड सुघ्घर गीद हवय , अव गुरतर घलोक । एदे पिच्चर कोती तको बने बने लिखे हवव तेनो ह बनेच लागिस । जय हो बाबू , जय हो ।

    प्रतिक्रिया

  5. mohammad zakir hussain
    नवम्बर 18, 2010 @ 11:15:46

    ghar dwar ke geet sunane ke liye dhanyawad. do correction karna chahunga. film ka release year 1965 nahi hai balki sambhavta 1972 hai. kahi debe sandes ke director manu nayak ji ke mutabik unki film 1965 mein release huee thee aur pandey ji ki ghar dwar kareeb 7 saal baad1972 mein.
    dusri baat film ki heroine ranjita thakur nahi nandita thakur hai. nandita thakur aaj bhi t.v.serial mein aati hain. waise aapki jaankari ke liye bata doon ki ” safar” film ka mashhoor gaana “ham they jinke sahare” geet gaate huee jis actress ko microphone ke saamne khada kiya gaya tha wohi nandita thakur hain. baad mein woh “zanjeer” film mein Amitabh bachchan ki bhabhi ki bhoomika mein bhi aayee. agar jaankari mein kuch galti hogi to kripya sudhar lenge.
    thanks
    zakir
    thanks

    प्रतिक्रिया

    • cgsongs
      नवम्बर 18, 2010 @ 16:35:44

      सर्वप्रथम ब्लॉग को ध्यान से पढ़ने के लिए आपको धन्यवाद…

      फिल्म किस वर्ष रिलीज हुई इसकी सही पुष्टि नहीं हो पाने के कारण से लेख में फिल्म के रिलीज होने के वर्ष को नहीं दिया गया था| लेख में दो जगहों पर उल्लेखित 1965 (1. स्व.विजय कुमार पाण्डेय ने ‘छत्तीसगढ़ के टूटते परिवार की कहानी’ को लेकर सन् 1965 में ‘घर द्वार’ बनाने का संकल्प लिया था., 2. रचना के वर्ष : 1965-68) को फिल्म के रिलीज होने का वर्ष न समझे| फिल्म 1971 में रिलीज हुई थी (इसे लेख में जोड़ दिया गया है)

      आपने फिल्म की नायिका ‘रंजीता ठाकुर’ को ‘नंदिता ठाकुर’ होना बताया है जो की सही नहीं है, फिल्म की नायिका ‘रजीता ठाकुर’ ही है जिसकी पुष्टि श्री मनु नायक जी ने भी की है|

      सभी साथियों से अनुरोध है की आप भी इसी तरह से अपनी जानकारी हमारे साथ बांटते रहिए जिससे की सही जानकारी देने में हमसे कोई चूक न हो जाए और अगर चूक होजाए तो उसे सुधारा जा सके …

      प्रतिक्रिया

  6. Hiresh sahu
    नवम्बर 18, 2010 @ 19:02:30

    Sun-sun mor maya” ye gana la shamil kare hav. Yekar liye bahut-bahut dhanyavad. 1 au farmais he mamta chandrakar ke gaye huye paramparik gana man la shamil kariho. Jaun hamgr sanskriti ke pahichan he.

    प्रतिक्रिया

  7. kamlesh
    नवम्बर 18, 2010 @ 21:23:50

    the song of सुन सुन मोर मया पीरा के संगवारी रे, given image r not to be this movie.
    plz set the ”http://farm2.static.flickr.com/1346/5181883086_f4b90dfa7b.jpg”[address image]
    in u r side.
    thanks to u…..
    sent to rpy.

    प्रतिक्रिया

  8. Prasun
    नवम्बर 18, 2010 @ 21:29:55

    thanx … to great information…

    प्रतिक्रिया

  9. Ramendra Diwan
    नवम्बर 19, 2010 @ 00:26:28

    mai chhattisgarhi film ghar dwar aur uske nirmata s/w vijay kumar panday ke bare me apne pariwar ke bado aur gaon ke bado se sunta tha aur ek do gane radio aur lok kala manch ke karayakramo me sunta tha , aaj apke website me ghar dwar ke gane “sun sun mor maya pira ke sanghawari re sunkar aur ghar dwar aur sw vijay kumar panday ke bare me anmol jankari prapt hua hai iske liye aapko badhi ke sath hardik dhanyawad ke sath nivedan hai ki ghar dwar ke aur geeto ko sunne aur padhne ka awsar pradan kare “JAI CHHATTISGARH”

    प्रतिक्रिया

  10. mahendra verma
    नवम्बर 19, 2010 @ 13:54:28

    घर-द्वार फिल्मि के बारे म अब्बड़ सुग्घर जानकारी दे हौ जी। गाना सुनके बढ़ नीक लागीस।

    प्रतिक्रिया

  11. pavant21
    नवम्बर 21, 2010 @ 21:37:06

    is film ke gaano ko pradarshit karke aapne bahoot hi saraahniy kaam kiya hai, maine is gaane ko apne mammy papa ke muh se bahoot baar suna tha,
    mujhe sunne ki badi ichha thi, kripaya is film ke baaki gaane jaldi update kare aur unke video.
    bahoot bahoot dhanywaad

    प्रतिक्रिया

  12. HARAKH JAIN PAPPU
    नवम्बर 29, 2010 @ 11:06:37

    BADA SUGGHAR GEET HE.WEBSITE MA LAUNCH KARE KE BADHAI.SHUBHKAMANA.

    प्रतिक्रिया

  13. VINOD PACHEDA MAHASAMUND
    दिसम्बर 04, 2010 @ 09:27:54

    इस गाने को मैने कई बार सुना था पर मुझे नही
    मालूम था । ‘घर द्वार’ फिल्म का गाना है । इतना अच्छा गाना है तो फिल्म
    भी अच्छी होगी । कृपया
    मूवी लोड करेँ । ताकि
    हम गुजरे जमाने को करीब से देख सकेँ ।

    प्रतिक्रिया

  14. राजेश अग्रवाल
    दिसम्बर 06, 2010 @ 09:19:12

    अरसा बीत गया था, घर द्वार के इन मधुर गीतों को सुने हुए। आपने तो इन्हें नेट पर डालकर कमाल कर दिया। अब कभी भी सुनने का मन करेगा तो यह ठिकाना मिल गया है।

    प्रतिक्रिया

  15. vaibhav shiv
    दिसम्बर 27, 2010 @ 20:01:00

    jekha talash rahi vo milge , ye dastvej le hamn la apan chhattisgarhi sinema sahi dhang le jane la milat he . ateke nahi filim ke gana ghalok suana ke to tay hamar man la moh darhe has . ekhab aap la jataka badhai au dhanybad kahibo votke kam he . aapke sughghar pariyas bar aapla shish jhuka ke naman he.

    प्रतिक्रिया

  16. Hemant Singh
    फरवरी 02, 2011 @ 16:53:00

    Many thanx for uploading this song , It reminds my old days it will be realy appreciable if you also upload another song from same movie ( jhan maaro gulel, gonda phul ge mor raja).

    प्रतिक्रिया

    • cgsongs
      फरवरी 03, 2011 @ 07:15:59

      उपरोक्त गीतों को पहले ही सुनाया जा चूका है आप उन गीतों तक गीत के बाद दिये गए लिंक से जा सकते हैं या फिर पिछले गीत पृष्ठ में जाकर भी उन गीतों को खोज सकते हैं.

      प्रतिक्रिया

  17. BANTI DIWAN
    मार्च 13, 2011 @ 02:11:59

    aap ko chhattishgarh ke maati putra lt.vijay kumar panday ji ke yog dan ki jankari net me augat karane ke liye dhanyawad JAI CHHATTISHGARH

    प्रतिक्रिया

  18. rahul
    मार्च 14, 2011 @ 08:07:10

    thanks Rajesh teha bahut badiya kam karehas abb haman internet me ghalo gana sun sakbo … . . . banne kam karehas ga

    प्रतिक्रिया

  19. Nitin B Goswami
    मार्च 15, 2011 @ 19:28:38

    sun sun mor maya ke pira la mera bachpan se favorite rha hai ise available karne ke liye thanx apka yah prayas bahut hi prasansniya hai…..best of luck

    प्रतिक्रिया

  20. kritika goswami
    मार्च 15, 2011 @ 19:35:03

    very excellent effort ……….many 2 thanx for this songs

    प्रतिक्रिया

  21. Prasanna Sharma Raipur
    अप्रैल 27, 2011 @ 16:09:00

    aaj jee juday kas llagis saangi… mor laikai ke din surta aa ge… au aanki bhar ge….. tola khali dhanyawad dehu to mola bane nai laghi …….. bhai tila jhauha jhauha parnam au sadhuwad……………………..

    प्रतिक्रिया

  22. मोहन कुमार जोगी
    अप्रैल 29, 2011 @ 16:14:25

    आज मेरी आयु 30 की है्, जब मैं 5 वर्ष का था तब ये गीत मैं रेडियो में सुना और इस बारे में अपने पापा से बात किया, तब उन्‍होने मुझे इस फिल्‍म के बारे में बताया, इस गीत को सुनने की मेरी बरसों की इच्‍छा आ जाकर इस वेबसाईट के माध्‍यम से पुरी हुई है, आप सबको मेरी ओर से बहुत बहुत धन्‍यवाद

    प्रतिक्रिया

  23. bahadur
    मई 02, 2011 @ 11:54:38

    aapki ye film bahua achi hai

    प्रतिक्रिया

  24. Rakesh Swarnkar
    जून 24, 2011 @ 22:57:07

    dhanyavad .. abbar guttur lagis .. chattisgariya gaana – sabb le badiya !!
    -RAKESH KUMAR SWARNKAR.
    Pragati Nagar , Risali , Bhilai,
    Chattisgarh.

    Jai Chattisgarh Mahtari – Jai Bharat Mahtari !!
    Camp : INDORE,M.P.
    Mobile No. : 9893065517.

    प्रतिक्रिया

  25. girish pankaj
    जून 30, 2011 @ 17:47:17

    amar geet. pyara bhi hai. karnpriy…main aksar ise gungunata rahata hoo.

    प्रतिक्रिया

  26. kanhaiya lal sahu
    जुलाई 02, 2011 @ 08:31:54

    Hamro chinhai bhaiya kono nai he ga ye geet ki list chahiyae

    प्रतिक्रिया

  27. hukumchand patel
    जुलाई 11, 2011 @ 19:30:16

    mai ” GHAR DWAR ” film ko nahi dekha hu par is site se us film ke poster dekh kar achha laga yadi mai is film ko dekh sakun to aur achha lagega , yah web site bahut hi achhi hai hame isme chhattisgarhi ki bahut se geeto ke bare me jankari prapt ho rahi hai…………

    प्रतिक्रिया

  28. naveen kumar tiwari
    जुलाई 14, 2011 @ 08:58:02

    Ghar Dwar film jab durg me lagi thi mai bahut chota tha per us film ke chattisgardhi me arthat mere matribhasha me banane per mujhe bahoot khushi hui thi, me isk phale film Kahi Debe Sandesh bhi dekh chuka tha , kuch sunhari yad aankho me jhilmilati rahi hai , aaj atyant khushi hui ki is site per suman kalyan pur ji ke gane dhundhate chattisgarhi ke sare wismrit git awm sitare mil gaye un sabhi ko jinhone is site me in gito ko aur yado ko sanjoya hai mai dil se abhaar wyakt karta hoon. jai jaohar jai chattisgarh ke matritw purush,

    प्रतिक्रिया

  29. aman manikpuri anjor das
    जुलाई 28, 2011 @ 16:12:06

    aisne tipe ke jankari au geet sunebr atma kalpat raithe,aaj ye jankari au geet la sun ke mor man jhum ge sangwari.aap ke prayas bahut achha he…

    प्रतिक्रिया

  30. Krishna Kumar Ghidore
    अगस्त 24, 2011 @ 18:56:38

    Chhattisgarhi bahut badhiya

    प्रतिक्रिया

  31. govind vaishnav RATANPURIHA
    अगस्त 31, 2011 @ 17:04:50

    is geet ki talas mujhe bahunt dino se thi,puri hui.thnxs

    प्रतिक्रिया

  32. tej jo.
    सितम्बर 11, 2011 @ 00:00:21

    song to bahoot bahoot bahoot achha h lekin afsos is baat ka h ki mujhse download nhi ho pa rha………… dusra tarika hai ka download krne ka coz ye gana mommy ko bahoot pasand h

    प्रतिक्रिया

  33. pushpendra
    दिसम्बर 05, 2011 @ 16:26:58

    good songs

    प्रतिक्रिया

  34. surendra mishra
    दिसम्बर 24, 2011 @ 12:16:20

    MUJHE BAHUT GARV HAI KI MAI BHI BHANPURI ME RAHTA HU AUR SWARGIYE VIJAY PANDEY JI KE PARIWAR KA SADSYA HU UNKE IS ANMOL KRITI KO HUM KABHI NAHI BHUL SAKTE YAH FILM HAMARE CHHATTISGARH KI DHAROHAR HAI- PANDEY JI KO VINMRA SHRDHANJALI…….JAI CHHATTISGARH…

    प्रतिक्रिया

  35. pallavi shilpi
    दिसम्बर 26, 2011 @ 12:05:00

    ye hamari chhattisgarhi gane ki asli khubsurti hai.wah maza aagaya ……
    jamal sen ji ka shukriya……..

    प्रतिक्रिया

  36. khamman singh
    जनवरी 19, 2012 @ 15:58:58

    ye gaana ha baad sughhar lagish eshnech gaana man la ye web side ma upload karat rahav tab hamar chhattishgarh ke lok-saskiriti au uuper uthhi

    प्रतिक्रिया

  37. BASANT KUMAR JATWAR
    फरवरी 26, 2012 @ 16:03:30

    Aapko bahut bahut dhanyvad ghar dyar ke gana unane ke liye………………………

    प्रतिक्रिया

  38. Jeetendriyam Dewangan Rajim
    मार्च 03, 2012 @ 17:52:40

    SIR NAMASKAR , BAHUT HI SUNDER GEET BANA HAI PANDEY G. Main apse milna chahta hoon mera no. 9617095770

    प्रतिक्रिया

  39. Sanjay Puri Goswami
    अप्रैल 14, 2012 @ 18:40:34

    Ghar duwar is the first step of Chhattisgarhi film .I like it so much.
    Thanks Pandey ji.Hamane is film ke gane Raipur Redio aur Tape Record par sekado bar suna hai.Har bar ed naya maja nayi anubhuti deti isake gane .Ye chirkal tak gaye aur sune jate rahenge.

    प्रतिक्रिया

  40. kailashmndavi
    अप्रैल 14, 2012 @ 20:06:49

    mai kailash mandavi jhar chhattisgarhiya gav lormi bilspuriha sun sun mor mya pira ke sangvari re all the best

    प्रतिक्रिया

  41. mukesh sahu
    अप्रैल 22, 2012 @ 10:40:27

    hamar sanskriti la bajay bar eisane sab chij la bator ke rakhat ho akhar se badke au ka khusi ho sakte hamar chhttisgarhiya man bar

    प्रतिक्रिया

  42. suraj
    अप्रैल 30, 2012 @ 16:15:45

    really its good one …….

    प्रतिक्रिया

  43. RAHUL PANDEY
    अप्रैल 30, 2012 @ 16:20:31

    kaise chotka main bombay se…………………
    mai rahul pandey ek cg movie banane ke liye baat karni hai………
    contact: 9893069666

    प्रतिक्रिया

  44. salik ojha
    मई 04, 2012 @ 15:32:34

    sabbo sangavari man la dhanyavad karat ho

    प्रतिक्रिया

  45. indu sahu
    जून 25, 2012 @ 17:47:07

    hamar chatisgadhi bhai bahini man la jay johar.

    प्रतिक्रिया

  46. vinod sahu
    जून 29, 2012 @ 09:21:51

    mor maan la moh dis ye gana han.

    प्रतिक्रिया

  47. jhuloo
    अगस्त 18, 2012 @ 13:29:12

    mai ” GHAR DWAR ” film ko nahi dekha hu par is site se us film ke poster dekh kar achha laga yadi mai is film ko dekh sakun to aur achha lagega , yah web site bahut hi achhi hai hame isme chhattisgarhi ki bahut se geeto ke bare me jankari prapt ho rahi hai…………

    प्रतिक्रिया

  48. Rameshwar Sahu
    अक्टूबर 18, 2012 @ 08:00:57

    Ghar Dwar film la dekhna chahat hawaw kreepya film la load karaw jee

    प्रतिक्रिया

  49. Rameshwar Sahu
    अक्टूबर 18, 2012 @ 08:14:38

    Shree Vijay kumar pandey jee la sadar namaskar jen ha hamar chhattisgarh k mati k sugandh bikherin

    प्रतिक्रिया

  50. NEELAM SINGH PISDA
    जनवरी 20, 2013 @ 14:00:33

    I M SEARCHING THIS SONG LAST 10 TO 12 BECAUSE ITS MOST POPULER SONG IN TRANSISTOR TIME I M THANKS TO U UPLOADING THE SONG————-

    प्रतिक्रिया

  51. vikram kumar daheriya
    अप्रैल 06, 2013 @ 11:14:01

    i love chattisgarhi film &video song because this is the culture of chattisgarh&i am great to belong from chattisgarh

    प्रतिक्रिया

  52. विवेक शुक्ला
    अप्रैल 14, 2013 @ 16:00:19

    आत्मा को झकझोर देने वाली इस फिल्म के बारे में काफी रोचक जानकारियाँ आपसे प्राप्त हुई आपको मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ

    प्रतिक्रिया

  53. Rahul pandey
    जून 15, 2013 @ 18:04:02

    jai prakash pandey g thanku so much movie ke song down load karne ke
    liye apko bahot sara thanks ………………………………..

    प्रतिक्रिया

  54. paras ram banjare
    जून 23, 2013 @ 14:56:16

    मुझे यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई ,कि पहले के फिल्म निर्माता और संगीतकार , छत्तीसगढ़ और उसके संस्कृति को जो पहचान दिलाई और जिस ऊंचाइयों पर लेकर गए थे, मैं अपने लफ्जों से बया नहीं कर सकता की, क्यों किओ छत्तीसगएह के महान बेटे थे, आज के नए कलाकार सायद ये कर पाये या करना ही नहीं चाहते…..
    पारस राम बंजारे (शिक्षक)

    प्रतिक्रिया

  55. sadik MANDLA (MP)
    जुलाई 23, 2013 @ 12:13:51

    hamesa ki tarh sunta hu a
    aj bhi meri chaht cg mai hai

    प्रतिक्रिया

  56. nikhilesh soni
    दिसम्बर 04, 2013 @ 18:42:47

    chhattisgari me bani is amar film tatha iske geet jivant rahenge. aaj kal ke c.g. film do kaudi ke layak bhi nahi.

    प्रतिक्रिया

  57. kailash manhare
    जनवरी 24, 2014 @ 13:19:56

    he is best…………….songs its very good
    please first chhattiagarhi movie ghar dwaar send this movei in my
    email id adharmanhare@gamil.com

    प्रतिक्रिया

  58. Suresh Soni
    अगस्त 01, 2014 @ 10:12:20

    Is geet ko baar baar sunne ka man hota hai aur har baar apni is chhattisgarh ki dharti par garv hota hai
    Yadi kisi ke pas ” jhulni ma jhul raho” ka lyrics ho to kripya mujhe bheje.
    Suresh Soni,
    HTPS Colony
    Vidyut nagar,
    Korba
    Mob 9407764825

    प्रतिक्रिया

  59. kuleshwar sahu abhanpur raipur
    सितम्बर 23, 2014 @ 16:08:48

    ye website la dekh ke mola bahut achhaa lagis hai, yema sabbo prakar ke chhattisgadi song sune aur dekhe bar mile ge. dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  60. yash dhakade
    दिसम्बर 13, 2014 @ 15:57:29

    Muze ghar sansar ke song suna hu vo song muze bhohot ache lagte he phle muze chattsgadi aati nhi thi may Maharashtra she hu Hindi our Marathi meri languages he lekin meri girlfriend cg.she he uske liye may cg language shika hu so I like it cg.song

    प्रतिक्रिया

  61. दीपक कुमार तेंदुलकर
    दिसम्बर 18, 2014 @ 02:09:56

    मै ये गाना ला अबड दिन ले खोजत रहे लेकिन अब ये साइट के माध्यम से मोला गाना ह मिलीस हावय जेला पा के मै बहुत खुश हावा..ये साइट के मै बहुत आभारी रैहा..धन्यवाद

    प्रतिक्रिया

  62. PRANAY KUMAR ROY
    जनवरी 21, 2015 @ 16:47:56

    मै हर ये फिलिम के शूटिंग देखे हावन तब मै आठ साल के रहे आज मै बावन साल के हों
    तब मोर पिताजी के पोस्टिंग सरायपली में रहिश।
    बड़ा अच्छा लागीश

    प्रतिक्रिया

  63. गिरिराज भंडारी
    फरवरी 08, 2015 @ 10:20:02

    आदरणीय , इस साइट के विषय मे देर से जान पाया , दुख है मुझे । आपने एक कालजयी काम किया है , आपके इस प्रयास को नमन है । मै यहाँ आ के कितना खुश हुआ , शब्दों मे बता नही सकता । आपको हार्दिक बधाइयाँ और दिली शुभकामनाये प्रेसित करता हूँ , स्वीकार करें ।

    प्रतिक्रिया

  64. GULSHAN KURREY
    अप्रैल 14, 2015 @ 21:43:29

    Sab bane bane ga sangawari
    Namaskar
    Cg. Song k liya ek aisa website banye jisme sabhi film bata or pura dono ho
    Or film k Nam likhne se sabhi as Jaye
    Dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  65. लोकेश कुमार साहू
    अप्रैल 21, 2015 @ 14:27:31

    अब्बड़ बने लागिस जी आज तो मज़ा आगे.

    प्रतिक्रिया

  66. लोकेश कुमार साहू
    अप्रैल 21, 2015 @ 14:28:18

    डाउन लोड कैसे करे

    प्रतिक्रिया

  67. Chandrakant
    मई 23, 2015 @ 01:11:35

    Bahut badhiya

    प्रतिक्रिया

  68. kashiramsahu bhilai durg {cg}
    नवम्बर 22, 2015 @ 20:08:41

    ye gana maya ke sar he mor jammo sahti bahut pasnd karathe

    प्रतिक्रिया

  69. kashiramsahu bhilai durg {cg}
    नवम्बर 22, 2015 @ 20:14:46

    ye gana maya ke sar he mor jammo sahti bahut pasnd karathe gana ke ye janakari achha lagis cg filim ke gana hare

    प्रतिक्रिया

  70. Rahul Pandey
    दिसम्बर 07, 2015 @ 23:51:07

    Jai prakash Bhai mai rahul pandey abhi ek cg movie ka odisan karne wala hu koi acter and actress ka sujestian do achi movi hai my contect no 09893069666

    प्रतिक्रिया

  71. harishankar patel
    दिसम्बर 12, 2015 @ 01:00:17

    Bane kaam karat hao aap man …lage raho..

    प्रतिक्रिया

  72. बिरेंद्र साहू छत्तीसगढ़िया
    जनवरी 23, 2016 @ 16:15:12

    ये जान के बहुत खुसी होइस हमर छत्तीसगढ़ी परम्परा ला बड सुघर ढंग ले संजोय हवय जय जोहार

    अउ इखर 2 भाग निकालो गा

    प्रतिक्रिया

  73. mansukh lal "manva"
    फरवरी 18, 2016 @ 16:17:52

    Ye geet ha jitna purana he utna hi mithas he

    प्रतिक्रिया

  74. नगीना यादव
    जून 24, 2016 @ 23:39:33

    धन्य है विजय कुमार पाण्डेय जिन्होंने छत्तीसगढ़ी और छत्तीसगढ़िया का अपनी फिल्मों के गीतों के माध्यम से जो परिचय कराया है वह काबिले तारीफ है।
    सुन सुन मोर मया के संगवारी रे…यह गीत मुझे इतना अच्छा लगता है कि जिसका शब्दों से बयाॅ करना मुश्किल है।
    साथ ही साथ हरि ठाकुर एवं जमाल सेन भी बधाई के पात्र है।

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: