झन मारो गुलेल … Jhan Maro Gulel

आज लाए है आपके लिए ‘घर द्वार’ फिल्म का तीसरा गीत…

छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना के दस वर्ष पूरे होने के अवसर पर दूसरी छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘घर द्वार’ के निर्माता ‘स्व.विजय कुमार पाण्डेय’ के सुपुत्र और ‘घर द्वार कला संघ’ के निर्देशक श्री जयप्रकाश पाण्डेय से हमें आप तक पहुँचाने के लिए ‘घर द्वार’ फिल्म के गानों का MP3 ऑडियो फाइल और फोटोग्राफ प्राप्त हुआ है।

जयप्रकाश पाण्डेय

स्व.विजय कुमार पाण्डेय

पता : विजयबाड़ा, भनपुरी, रायपुर (छ.ग.), जे.के.फिल्मस्, रायपुर
मोबाइल : 9826108303, 9300008303

 

 

 

फिल्म के कुछ दुर्लभ तस्वीरें…

घर द्वार

घर द्वार

 

 

आज के गीत का लिप्यांतरण श्री मोहम्मद जाकिर हुसैन जी ने किया है|

पेश है आज का गीत …

झन मारो गुलेल
झन मारो गुलेल
बाली उमर लरकईया~आ~आ
बाली उमर लरकईया
झन मारो गुलेल
झन मारो गुलेल
बाली उमर लरकईया~आ~आ
बाली उमर लरकईया

बिछिया बोले झुमका डोले
ओहो बिछिया बोले झुमका डोले
अंग अंग मुस्काए
हवा मा अचरा उड़-उड़ जा~~ए
मोर जी घबराए
मोर जी घबराए
बाजत है बैरी पैजनियां~आ~आ
बाजत है बैरी पैजनियां
होहो झन मारो गुलेल
झन मारो गुलेल
बाली उमर लरकईया~आ~आ
बाली उमर लरकईया

नार नवेली मैं अलबेली~~
ओहो नार नवेली मैं अलबेली
रतनारे हैं नैन~~
मधु छलकत है बैन
हो मोरे मधु छलकत है बैन~
गदराए है बैन
गदराए है बैन
पीछे पड़े मोरे सईया~आ~आ
पीछे पड़े मोरे सईया
होहो झन मारो गुलेल
झन मारो गुलेल
बाली उमर लरकईया
बाली उमर लरकईया~आ~आ
बाली उमर लरकईया


गायन शैली : ?
गीतकार : हरि ठाकुर
रचना के वर्ष : 1965-68
संगीतकार : जमाल सेन
गायन : सुमन कल्याणपुर
निर्माता : विजय कुमार पाण्डेय
फिल्म : घर द्वार
फिल्म रिलीज : 1971
संस्‍था : जे.के.फिल्मस्, रायपुर

जमाल सेन
जमाल सेन

सुमन कल्याणपुर
सुमन कल्याणपुर

‘घर द्वार’ फिल्म के अन्य गीत
सुन सुन मोर मया पीरा के संगवारी रे … Sun Sun Mor Maya Pira Ke Sangwari Re
गोंदा फुलगे मोरे राजा … Gonda Phoolege More Raja
आज अध-रतिहा मोर फूल बगिया मा … Aaj Adh-ratiha Mor Phool Bagiyaa Ma
जउन भुईयाँ खेले … Jaun Bhuiayan Khele

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

25 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. pravin diwan
    नवम्बर 26, 2010 @ 16:40:16

    super song my febret song

    प्रतिक्रिया

  2. toran lal sahu
    दिसम्बर 01, 2010 @ 16:01:59

    hi dear friend
    mai Toran Lal Sahu Bhanpuri vijaybada sea hu or mai vijay kumar pandey ke sabhi logo ko janta hu or way log bhi mujhea bahot acchi taraha sea jantea hai kaya aap ke pass ghardwaar 1965 ki original
    gano ki jarurat hai kay aap mujhea whay sabhui ganea mail kar saktea hai or ho sake to mujhea wha film ki traler ya movies bhi sen karnea ki kripa karea maine apna email id ka details de raha hu to plesssssss mujhea aap help karo laltoran13@gmail.com

    प्रतिक्रिया

  3. girish pankaj
    दिसम्बर 10, 2010 @ 00:08:54

    mazaa aa gaya bhai…mere priy geet hai ye.. sun kar lagata hai jeevan safal ho gaya. hari thakur ji ka likha aur suman ji gkagaya…aur uss par jamal bhai ka sangeet…..sub kuchh kamaal ka hai…

    प्रतिक्रिया

  4. Sheikh Hussain
    दिसम्बर 29, 2010 @ 12:46:02

    is film ke ha gaane mujhe bahut acche lage hai. in gano me aisi amit chhap hai jinohne ajar-amar itihas rach diya hai. is gaano ke itihas ko koi bhi nahi duhra sakta.

    प्रतिक्रिया

  5. vilay
    जनवरी 27, 2011 @ 21:34:58

    kya baat hai collaction to good hai

    प्रतिक्रिया

  6. VIJAYSINH JADEJA
    मार्च 15, 2011 @ 16:34:56

    GANA TO BHUT SUNE HAN PER CHHATTISGARHI GANA PURE SONA

    CHUKTA PAISA CHUTA GAY NET KE

    प्रतिक्रिया

  7. Govind Rajak
    मार्च 16, 2011 @ 08:25:25

    Aise Gaano ka sangrahan kar prastut karne par aapko bahu bahut dhanyawaad. Aapne hume oon gaano ko sunne ka awsar pradan kiya hai jise hum kisi bazar ke prapt nahi kar sakte.
    Film ke saare gaane karnapriya hai….. Dhanyawaad

    प्रतिक्रिया

  8. Dr. Mahesh Parimal
    जून 30, 2011 @ 17:40:00

    इन गानों को बचपन में सुनता था, फिर ये बजने बंद हो गए। इनमें छत्‍तीसगढ़ की माटी का सोंधापन है, वहॉं की मिठास है। मैं छत्‍तीसगढ़ से 12 घंटे दूर हूं फिर भी दिन में दो तीन बार तो किसी ने किसी से फोन पर छत्‍तीसगढ़ी में बतिया ही लेता हूं। इन गानों को सुनकर बचपन याद आ गया। अब तो रोज सुनूंगा। इस तरह से अपनी महतारी दाई के करीब रहूंगा। बहुत बहुत धन्‍यवाद आपको आपके प्रयास को
    डॉ महेश परिमल
    09977276257

    प्रतिक्रिया

  9. Jagat Ram Sande
    जुलाई 03, 2011 @ 20:52:52

    बहुत बढ़िया प्रयास है |बहुत अच्छा लगा |बहुत बहुत धन्यवाद |

    प्रतिक्रिया

  10. naveen kumar tiwari
    जुलाई 14, 2011 @ 09:36:19

    aaj is site per mere matribhasha ke gumshda geet milane ki ajib si khushi hai me apane jin sathiyo ke sath in geeto ko khoj raha tha sabhi ko jankari de raha hoon,sal 70 ke dashak me akashwani raipur se budhwar ko ane wala chattisgarhi geeto ka farmishi program ko hum log chattisgarh ka binaka geet malla kah kar charcha karate the akashwani aur redio ka jamana gujr jane aur ati wystata ke karan in geeto ka anaand me kai salo se nahi le saka per charcha apne sathiyo se awashya karata rho hoon. aur aaj achnk in geeto ko apake is site par sangrahit dekh awm sunkar man harsh se bhow vibhor ho gaya , aap sabhi jo is site par in geeto ko sanjo kar rakhe hai dhanyawad ke patr hai, aap sub ko chattisgarh ke asmita aur dhrohar ko surkhit rakhane per hardik dhanyawad, jai johar,jai chattisgarh ke mahatari au dada bhai.

    प्रतिक्रिया

  11. ram chandra samant
    जुलाई 15, 2011 @ 14:14:58

    jbardasta geet hai. geetkar, sangeetkar avan gaeka, kotishah badhai ke patra hain.

    प्रतिक्रिया

  12. naveen kumar tiwari
    जुलाई 20, 2011 @ 09:40:53

    kya mere ko film ghar dwar aur kahi debe sandesh dekhane ko mill sakata hai yadi ha to mujhe bataye kaise, dhanywad,

    प्रतिक्रिया

  13. rupendra verma
    जुलाई 31, 2011 @ 19:08:36

    bahut bahut dhanyawad ,cg film ke milestone se avgat karaye bar

    प्रतिक्रिया

  14. ishwar kumar sahu
    अक्टूबर 20, 2011 @ 20:00:22

    Maya ke baat aathe ta Hamar chhattishgarh haa sable aghway haway kabar inha ke boli , bhasaha , bada gurtur he , inha ke film man maa ghala ihich boli , bhasaha ke upyog karthe jekar le au badhiya lagthe……………..mola to hamar chhattisgarh ke jammo film badhiya lagthe sangwari ho au aap man la kaise lagthe uhu la batahu………………………

    प्रतिक्रिया

  15. BALRAM SONWANI-9907758042
    अक्टूबर 30, 2011 @ 12:38:45

    झन मारो गुलेल
    बाली उमर लरकईया~आ~आ
    bane lagis he ga yesan gana bar to maan machal jat he….

    प्रतिक्रिया

  16. Deepak Netam
    नवम्बर 12, 2011 @ 18:53:57

    Aap man chhattisgarhi chitrahar, chhattisgarhi fulwari k gana man la tak dale hau ka

    प्रतिक्रिया

  17. रवि
    नवम्बर 12, 2011 @ 19:56:43

    वाह भइया कोपरा अउ सूपा भर भर के धन्यवाद. बहुत मजा आ गे.

    प्रतिक्रिया

  18. pintu
    दिसम्बर 01, 2011 @ 23:07:32

    bahut bahut dhnyawaad bhaiya..!!

    प्रतिक्रिया

  19. Dinesh Kumar Hansh
    मार्च 09, 2012 @ 15:39:01

    cgsong ke collection ha bahutech badiha lagis. Pher abbad kas geet ha nai haway,
    Rajesh ji se anurodh he ki sabo geet la jod ke cggeetsangeet ke gulsan la khushboodar ho jay.
    JAI JOHAR JAI CHHATTISGARH

    प्रतिक्रिया

  20. paras sahu
    मई 22, 2012 @ 10:42:35

    वाह भइया कोपरा अउ सूपा भर भर के धन्यवाद. बहुत मजा आ गे.

    प्रतिक्रिया

  21. deekesh sahu
    नवम्बर 04, 2012 @ 13:46:21

    this is nice bt i want more old song..so tell me the site for song

    प्रतिक्रिया

  22. Bhaskar
    मई 14, 2013 @ 00:02:47

    Kamaal hai Pandey jee, aap amar hain. Apni mati se pyaar karna koi aapse seekhe. Sahi mayne me ye immortal geet hain. Man ki gahrayion se dhanyavad.

    प्रतिक्रिया

  23. sadik
    जुलाई 22, 2013 @ 17:53:12

    cg dil ko chhune wali hai

    प्रतिक्रिया

  24. champu raja
    जून 13, 2015 @ 20:35:24

    मोर मयारू संगी हो……
    .
    जय जोहार
    .
    आप मन के अतेक सुघ्घर विचार आथे जेला पड़ के मन गदगद हो जथे.
    .
    महु ह छ.गीत के सौकीन औ…अऊ मै तो छ.गीत सुने के आदी हो गे हो….
    मोरो करा अैसे बहुत कन गीत हे….
    .

    आप चाहो त मोला अपन संगी मितान समझ के वाट्सप कर सकत हो.
    7415752985 म
    वैसे में चम्पु राजा
    पाटसिवनी जिला गरियाबंद

    जय जोहार

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: