मोला जावन देना रे अलबेला मोर … Mola Javan Dena Re Albela Mor

मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना
मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

संझा के आए मुंधियारी होगे
गाय गरु आगे राजा अंधियारी होगे
हाय अंधियारी होगे रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

आगी सुलगाहूँ दिया बारे नई हव
चाऊर घलो रांधेबर निमारे नई हव
हाय निमारे नई हव रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

कलकलहीन दाई मोला गारी दिही
भईया हे गुस्सेला मोला मारी दिही
हाय मारी दिही रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

काली फेर आहूं देखेबर तोला
भली भली जावन दे मयारू मोला
हाय मयारू मोला रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना

मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना
मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन देना
मोला जावन देना रे अलबेला मोर
अबड़ बेरा होगे मोला जावन दे ना

 

कविता वासनिक
कविता वासनिक (हिरकने)


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : खुमान गिरजा
गायिका : कविता वासनिक (हिरकने)
संस्‍था/लोककला मंच : ?

 

ये गीत ल बैतल राम साहु अउ सुशीला ठाकुर ह घलो गाए हे जेल आपमन मोला जान देना रे अलबेला मोर म क्लिक करके सुन सकत हव।

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

29 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. sangya tandon
    जनवरी 30, 2011 @ 11:19:11

    इस गीत का मैं बहुत दि‍नों से इंतजार कर रही थी….मजा आ गया….धन्‍यवाद….

    प्रतिक्रिया

  2. राहुल सिंह
    जनवरी 31, 2011 @ 11:49:07

    अपन समय के टापो-टाप गीत, बढि़या.

    प्रतिक्रिया

  3. Deepak Chandrakar
    जनवरी 31, 2011 @ 19:07:38

    Kati Jangal Kati Jadhi ……..

    प्रतिक्रिया

  4. Deepak Chandrakar
    जनवरी 31, 2011 @ 19:18:30

    Aap man ke gaga sunke mola bahut badiya lagis isne gana ke collection nai milay jo apke madyam se ab haman la sune la milathe.
    bahu bahut Dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  5. f sen raipur
    मार्च 07, 2011 @ 10:09:12

    sabhi chhattisagarhi git pasand hai.maja aa gaya

    प्रतिक्रिया

  6. purunirmalkar
    मार्च 15, 2011 @ 22:47:17

    bachpan ki yade taja ho gayee

    प्रतिक्रिया

  7. Manish Patel
    अप्रैल 23, 2011 @ 11:02:31

    is geet ka bahut dino se intjar tha

    प्रतिक्रिया

  8. yogesh nagpure
    मई 05, 2011 @ 12:09:18

    bachpan me vo gaon ki galio me goli kanche khelna yad aa gaya.
    ye jivan ke vo geet hai jinhe sole of life kaha jasakta hai.
    dil gad gad ho gaya.dhanyavad

    प्रतिक्रिया

  9. GC MESHRAM
    जून 11, 2011 @ 23:48:45

    en gito ko sun ke bachpan yaad aa gaya .en gito me cg ke mitti ki khushboo hai.. cg ke purane gito ko shejne ke prayash ke liye CHANDRAKAR JI badhai ke patra hai…

    प्रतिक्रिया

  10. mohinish sahu
    जुलाई 08, 2011 @ 19:47:04

    aap sabhi ko ye sugghar karya k liye hardik shubhkamnaa………

    प्रतिक्रिया

  11. JAI SHANKAR GABEL
    अगस्त 23, 2011 @ 12:27:44

    ATKA PURANA GANA LA SUN KE MAI PILA KHUS HO GEHEN/………………….

    प्रतिक्रिया

  12. एमन दास मानिकपुरी
    अगस्त 25, 2011 @ 15:34:26

    gajab sughar……………..

    प्रतिक्रिया

  13. Rajkumar patel
    सितम्बर 24, 2011 @ 09:23:15

    Bahut hi badiya gaana hai bhaiya maja aa gayees

    प्रतिक्रिया

  14. Vikas Dhurandhar
    नवम्बर 06, 2011 @ 11:56:33

    Aaj ki is bhag daud bhare jivan me ye geet mujhe sukun k kuch pal deta h………bahut bahut dhanyawaad.

    प्रतिक्रिया

  15. shakuntala tarar
    दिसम्बर 03, 2011 @ 09:50:57

    junna same ke jhamajhm geet he aaj tak le gurtur

    प्रतिक्रिया

  16. सीताराम सेन
    अप्रैल 09, 2012 @ 07:29:57

    छत्तीसगढीया सबले बढ़ीया

    प्रतिक्रिया

  17. Devpatel
    अप्रैल 20, 2012 @ 19:48:29

    Ye geet sunke dil gadgad hoge..thank you for provide this song.

    प्रतिक्रिया

  18. badri prasad sahu
    मई 20, 2012 @ 13:29:31

    pahli a gana la me ha radio ma sunat rahe hav,
    aaj bar din bad a gana la sune ta man ha gadgada ge

    प्रतिक्रिया

  19. raj
    मई 20, 2012 @ 19:05:38

    download kaise karu batao

    प्रतिक्रिया

  20. Lochan Prasad Dansena
    जून 07, 2012 @ 12:38:37

    om computer best song

    प्रतिक्रिया

  21. arun lahre
    जून 08, 2012 @ 16:04:41

    acha ragthe mora c.g gana suntho ta ..kabar ki mai ha jashpurnagar me rathv..yaha c.g gana nai mirthe ..

    प्रतिक्रिया

  22. gldaharia
    अगस्त 07, 2012 @ 17:46:27

    bahut baddhiya geet aay maja aagis

    प्रतिक्रिया

  23. gopi
    मार्च 06, 2013 @ 20:15:09

    ye gana la sun ke purana din ke yad taja ho jathe. ek bar man aur gudguda jathe.ye geet hamla bhut badiya lagthe.

    प्रतिक्रिया

  24. Paleshwar Chandrakar
    मई 23, 2013 @ 20:23:28

    छत्तीसगढी गीत के अपन अलग मजा हवे

    प्रतिक्रिया

  25. Narendra sahu
    फरवरी 01, 2014 @ 13:51:56

    बहुत अच्छा है संगी

    प्रतिक्रिया

  26. Indra Sahu
    दिसम्बर 04, 2014 @ 12:01:28

    bad sughar gana he man gadgad ho ge

    प्रतिक्रिया

  27. rajkumar yadav 9630941364
    जनवरी 07, 2015 @ 21:17:43

    mai e gana la sun ke mor man ha gadgad hoge

    प्रतिक्रिया

  28. Nimesh tikariha
    अप्रैल 20, 2015 @ 14:44:56

    अईसन छत्तीसगढ़ी गाना ल सुन के मन ह गुदगुदा जथे।
    ए सुघ्घर गाना मन ल सकेल के राखे हव तेकर बर धन्यवाद!

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: