सुन संगवारी मोर मितान … Sun Sangwari Mor Mitan

सुन संगवारी मोर मितान, देश के धारन तहीं परान
हावय करनी तोर महान, पेट पोसइया तहीं किसान
का लुबे गरुवा खाए बिरो पान, पूछी उखड़गे जरगे कान
बुढवा बइला ल देदे, बुढवा बइला ल देदे दान, जय गंगा
देख, देख देख देख, देख, देख देख देख
देख दे, देख दे, देख दे, दे~ख

(ले अउ सुना डर महराज)
अपन देश कके अजब सुराज
भूखन लांघन कतको आज, मुसवा खाथे भरे अनाज
कटगे नाक बेचागे लाज , नित नियाव म गिरगे गाज
बैठांगुर बर खीर सोहारी, खरतरिहा नइ पावे मान
बुढवा बइला ल देदे, बुढवा बइला ल देदे दान, जय गंगा
देख, देख देख देख, देख, देख देख देख
देख दे, देख दे, देख दे, दे~ख

(ले अउ सुना डर महराज)
मंहगाई बाढ़े हर साल
व्यापारी होवत हे लाल, अफसर सेठ उड़ावे माल
बेचत हे गरीब के खाल, रोज बने जनता कंगाल
का गोठियावव सब जानत हे, बैरी बनगे आज मितान
बुढवा बइला ल देदे, बुढवा बइला ल देदे दान, जय गंगा
देख, देख देख देख, देख, देख देख देख
देख दे, देख दे, देख दे, दे~ख

(ले अउ सुना न महराज)
उठ संगवारी अब तो जाग
हांका पार लगा एकबार, तपनी रोज तपईहा मनबर
तैंहर बन जा संउहट नाग, तब तो अपन जगाबे भाग
गौकी जोघा सबे माढ़ही, घर घर होही नव बिहान
बुढवा बइला ल देदे, बुढवा बइला ल देदे दान, जय गंगा
देख, देख देख देख, देख, देख देख देख
देख दे, देख दे, देख दे, दे~ख

सुन संगवारी मोर मितान, देश के धारन तहीं परान
हावय करनी तोर महान, पेट पोसइया तहीं किसान
का लुबे गरुवा खाए बिरो पान, पूछी उखड़गे जरगे कान
बुढवा बइला ल देदे, बुढवा बइला ल देदे दान, जय गंगा
देख, देख देख देख, देख, देख देख देख
देख दे, देख दे, देख दे, दे~ख


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायिका : लता खापर्डे अउ साथी
एल्बम : ?
संस्‍था/लोककला मंच : ?
रिकार्डिंग : ?

लता खापर्डे

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

10 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल सिंह
    फरवरी 26, 2011 @ 09:31:58

    संभवतः लक्ष्‍मण मस्‍तुरिया जी की रचना, जो दाउ रामचंद्र देशमुख के चंदैनी गोंदा में भी गायी जाती थी.

    प्रतिक्रिया

  2. bhevant agrawal
    मार्च 14, 2011 @ 18:26:25

    jai ram jai johar,mola atek achha lagis aaj lucknow me baithe baithe, ye rachana la padh ke, mor rag rag me chhattisgari mati ke rang ha bhare he,
    aap man ke duaa se mahu ha natak ma aau film ma kam karthoun , man ma bahut ikchha ha hai,ki ek baar chhattisgari natak ma kam karek, d
    ab jyda nai likhiun,
    aap man ke sangvaari
    Bhevant

    प्रतिक्रिया

  3. bhevant agrawal
    मार्च 14, 2011 @ 18:30:05

    Chalo sangvari ek baar chhattisgarh ke naam rosan karbo

    प्रतिक्रिया

  4. Siv Prasad Sajag
    अप्रैल 22, 2011 @ 13:08:46

    git to bane lagis sangi fer sun ke gune bar parge . ki desh la ajad hove kai sal hoge fer kisan ke halat ma kono sudar ni hois. okar halt bad se badatar hot jat he. sarka vot ke rajnit bar niti bana k thagte .kabhu kisan wyapari man k changul ma fas k khude thagate. laghan-bhukhan rhi k jagr tor kamaye k bahd bhi laika ke bihaw kare khatir khet la mahraj kara girvi rakha ke pardes jayech la prthe. sarkar 100 din k rojgar k dikava kar k palayan k bat le mukr jathe. hai re mor sangvari kisan.!

    प्रतिक्रिया

  5. हरख जैन पप्पू
    मई 07, 2011 @ 07:15:25

    छत्तीसगढ़ के महक को फ़ैलाने का पुनीत कार्य है यह. हम अपनी ही कला ,संस्कृति से भाग रहे हैं .
    हरख जैन पप्पू.

    प्रतिक्रिया

  6. Budheshwar kurre
    अक्टूबर 23, 2012 @ 19:44:58

    Gaana abbad sugghar lagis sangwari.
    Bas mor ek than vinati rahis k, mamta chandrakar k gaye jatka gana he okar sangrah ghalo ema jod daw ta au jada khusi hohi

    प्रतिक्रिया

  7. कल्याणसिँह पटेल
    नवम्बर 22, 2012 @ 21:35:45

    आज हमर देश के परस्थिति अईसनेहेच हो गे हे

    प्रतिक्रिया

  8. Rakesh Verma
    दिसम्बर 07, 2012 @ 21:54:42

    exlent sir

    प्रतिक्रिया

  9. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    दिसम्बर 04, 2014 @ 14:32:33

    Bhatari ke goth baat au geet mohani barobar ye ,au hamar chhattisgarh ke dani pravriti ke bakhan karathe.

    प्रतिक्रिया

  10. SANUK LAL YADAV
    मई 06, 2016 @ 07:48:32

    समाज के लिये एक संदेश बहुत सुघ्घर गीत।

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: