जब-ले देखेव तोला संगी रे … Jab-Le Dekhev Tola Sangi Re

चन्दा चन्दैनी जागत हे रतिया~~~आ~आ~आ~आ
चन्दा चन्दैनी जागत हे रतिया
तोर सपना मा संगी उड़ागे निंदिया हो सजन मोर
भारी लागे रे नान्हे उमरिया
बिन पानी के होगेंव मछुरिया
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना

हवा के झोंका उड़ाये समधिन~~~इं~इं~इं~इन
हवा के झोंका उड़ाये समधिन
तोर सुरता मा पता नई चले पलछिन वो सजनी मोर
तोर बिन काटत हव ये दिन ला गिन-गिन
तोर बिन देखे ला तरसत हे छिन-छिन
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना

घानी मुंदी रे घुमर नाचंव~~~ओं~ओं~ओं~ओं
घानी मुंदी रे घुमर नाचंव
तोर माया पाये बर भजन गावव हो सजन मोर
भारी लागे रे नान्हे उमरिया
बिन पानी के होगेव मछुरिया
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना

सपना के देखे का सच नई हो~~~हो~हो~हो~होय
सपना के देखे का सच नई होय
पोथी पत्रा बताये मया मा सब होय वो सजनी मोर
तोर बिन काटत हव ये दिन ला गिन-गिन
तोर बिन देखे ला तरसत हव छिन-छिन
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना

जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना
जब ले देखेव तोला संगी रे मैं तो तोर होगेंव ना


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : ममता चंद्राकर, कुलेश्वर ताम्रकार
संस्‍था/लोककला मंच : ?

ममता चंद्राकर
ममता चंद्राकर

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

18 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल सिंह
    अप्रैल 19, 2011 @ 08:00:37

    गीत में लोक-तत्‍व कम लगे, गायन कर्णप्रिय.

    प्रतिक्रिया

  2. neelam verma
    अप्रैल 19, 2011 @ 18:48:51

    badhiya gana he majaa aa ge

    प्रतिक्रिया

  3. Komal Dhurandhar
    अप्रैल 20, 2011 @ 17:15:06

    Thankyou sir

    प्रतिक्रिया

  4. prashant jha
    अप्रैल 23, 2011 @ 20:09:53

    gaana jabardust hai. ghunghru ka kya mast khel hai gaane me.

    प्रतिक्रिया

  5. sudarshan singh
    अप्रैल 23, 2011 @ 20:33:25

    sughar dadariya gaye hau aap man.ghunghru au baja ghalo badhiya baje he. Bada nik lagis sun ke.

    प्रतिक्रिया

  6. uttarakumarlahare
    अप्रैल 24, 2011 @ 19:00:04

    sangi ji, yah site har chhattisgarh ke khushbu failaye bar bahut sughar prayas haway bahut badhiya aage lage raha …….namaskar

    प्रतिक्रिया

  7. aman manikpuri anjor das
    अगस्त 03, 2011 @ 12:05:19

    aisne tipe ke gana sun ke hi to haman la garv hothe,bahut sughar he ye git au waisne yekar sangit…………………..
    – एमन दास मानिकपुरी
    औरी भिलाई-३ दुर्ग

    प्रतिक्रिया

  8. नरेन्र्द दीवान पिथौरा महासमुंद
    अगस्त 08, 2011 @ 17:10:25

    मन ल खुशी ले सराबोर करने वाला गीत हावय|

    प्रतिक्रिया

  9. OP Manhar
    अगस्त 08, 2011 @ 22:50:59

    बहुत सुघर गीत, मन मोह लीस

    प्रतिक्रिया

  10. BALRAM SONWANI-9907758042
    नवम्बर 19, 2011 @ 12:59:59

    जब-ले देखेव तोला संगी रे

    प्रतिक्रिया

  11. Ramkumar dansena
    जनवरी 28, 2012 @ 16:40:54

    DEHAT KAHE LE HAMAR CHATTISGARH AU DEHATI NONI KAHE LE AABBAD SUGHGHAR NONI JON MAN MOLA BHATHE MOLA OICH CHAHIYE NATHLI

    प्रतिक्रिया

  12. AJEET KUMAR
    जून 12, 2012 @ 12:12:16

    ACHHA LAGIS HE GA

    प्रतिक्रिया

  13. bhuvendra shory
    जून 07, 2013 @ 23:28:28

    badhiya lagis

    प्रतिक्रिया

  14. shashi kumar diwan
    अक्टूबर 20, 2013 @ 13:16:14

    mast he gana ha maja aage g.

    प्रतिक्रिया

  15. bisen yadav
    अक्टूबर 29, 2013 @ 21:23:10

    a geet ma hamar cg ke sansrity sugghar dhang le piroye he

    प्रतिक्रिया

  16. Bisen kumar
    फरवरी 27, 2014 @ 12:01:46

    bahut sughghr lagis he a geet la sunke

    प्रतिक्रिया

  17. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    जनवरी 30, 2015 @ 12:48:18

    ehi dhun ma ek than au dadariya he dono ke yola bhi samil karaw au haman la sunawaw .geet ke bol he teda ke pati lapk pohara ganga jamuna ke pani lota ke dohra dai nai banchw dada nai banch ,,,,,,,,,,,,,,,

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: