पिंजरा के सोन चिरैया … Pinjra Ke Son Chiraiya

पिंजरा के सोन चिरैया, आंखी के नींद हरैया
पिंजरा के सोन चिरैया, आंखी के नींद हरैया
तैं उड़त आबे ना~ जोहत रहूं रद्‍दा
तैं पूछत आबे ना~ पिंजरा के~

मन मंदिर के बसैया, हो मन मंदिर के बसैया
जिनगी के रास रचैया, हो जिनगी के रास रचैया
मैं उड़त आहूं ना~ देखत रहिबे रद्‍दा
मैं पूछत आहूं ना~ पिंजरा के~

सनन सनन चले पुरवाही~ मन तरस-गे मैना कब आही~
सनन सनन चले पुरवाही~ मन तरस-गे मैना कब आही~
मैं बनगेंव तोर अमरैया, मैं बनगेंव तोर अमरैया
चहक जबे ना~ पिंजरा के~

पिंजरा के सोन चिरैया, आंखी के नींद हरैया
तैं उड़त आबे ना~ जोहत रहूं रद्‍दा
तैं पूछत आबे ना~ पिंजरा के~

मया के पांखी बांधे राजा~ मैं आहूं तोर दुवारी मा~
मया के पांखी बांधे राजा~ मैं आहूं तोर दुवारी मा~
तैं बन-जा मोर संवरिया, तैं बन-जा मोर संवरिया
मधुबन मा छाबो ना~ पिंजरा के~

मारे करेजा नैन कटारी~ कहां अरझ-गे मया के डारी~
मारे करेजा नैन कटारी~ कहां अरझ-गे मया के डारी~

मया के बोली तीर-तुर फांसा~ रद्‍दा मा आंखी लगाये आसा~
मया के बोली तीर-तुर फांसा~ रद्‍दा मा आंखी लगाये आसा~

मैं बनगेंव तोर बहेलिया
मैं बनगेंव तोर बहेलिया
मैं अरझ जाहूं-या
मैं बनगेंव तोर बहेलिया
रे मैं अरझ जाहूं-ना
पिंजरा के~

पिंजरा के सोन चिरैया, आंखी के नींद हरैया
पिंजरा के सोन चिरैया, आंखी के नींद हरैया
तैं उड़त आबे ना~ जोहत रहूं रद्‍दा
तैं पूछत आबे ना~ पिंजरा के~

मन मंदिर में बसैया, हो मन मंदिर में बसैया
जिनगी के रास रचैया, हो जिनगी के रास रचैया
मैं उड़त आहूं ना~ देखत रहिबे रद्‍दा
मैं पूछत आहूं ना~ पिंजरा के~

मोर मन के~
पिंजरा के~
मोर मन के~
पिंजरा के~
हो मोर मन के~
होय मोर मन के~

 


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : कुलेश्वर ताम्रकार, साधना यादव
संस्‍था/लोककला मंच : ?

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

6 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल सिंह
    अप्रैल 30, 2011 @ 11:32:51

    पिंजरा के चिराई बर बहेलिया, पोंसे हे, धांधे हे के सिकार करिही.

    प्रतिक्रिया

  2. shatruhansingh dhruw
    मई 01, 2011 @ 09:01:32

    mai aapke cg se door hoon net ke aur aapke dwara cg song sun kar accha laga
    thanks,

    प्रतिक्रिया

  3. हरख जैन पप्पू
    मई 03, 2011 @ 16:19:47

    छत्तीसगढ़ की संस्कृति को सहेजने का सद्प्रयास वंदन के योग्य है.
    आने वाली पीढ़ी के लिए हम ऐसे ही कुछ बचाकर दें .
    शुभकामनाएं ..
    हरख जैन पप्पू

    प्रतिक्रिया

  4. san
    मई 05, 2011 @ 08:49:22

    1 very..5. fantastic
    2 very interesting.
    3 Fataka he.
    &
    aap “PANTHI” Geeto ko bhi is site me uplbdh krane ka prayas kre.

    THANKS A LOT OF

    प्रतिक्रिया

  5. BALRAM SONWANI-9907758042
    अक्टूबर 30, 2011 @ 14:41:24

    cgsongs.wordpress.com ko open karte hi maan ko sukun milta hai i like this…
    https://cgsongs.wordpress.com

    प्रतिक्रिया

  6. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    दिसम्बर 06, 2014 @ 14:51:43

    Dadariya ke bad sughghar chayan he .aap la bahut bahut dhanyvad.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: