गांवे अवधपुर ले … Gaanve Awadhpur Le

बरात निकासी

बरात माने वर यात्रा । वर पक्ष के वधू के घर बिहाव बर जाये के नेंग ए बरात। दुल्हा के सगा-संगवारी गोतियार मन के संग-संग गांव के मनखे-मन ये यात्रा के यात्री होथे, ये मन ल बराती कहे जाथे। बराती मन बिहाव के साक्षी होथे, जेकर आघू वर-वधू के पाणिग्रहण अउ फेरा होथे। बरात के सब तैयारी हो जाये के बाद सब बराती सज-धज के बरात जाथे। बरात निकले से पहिली वर के माँ ह वर ल पांच बेर गुड़ खवाथे ओकर बाद वर ल बिदा कर दे जाथे।

सुवासिन मन बराती ल बिदा करत गा पड़-थे…

गांवे अवधपुर ले चले बरतिया चले बरतिया की
गांवे जनकपुरी जाये वो दाई
गांवे जनकपुरी जाये
गांवे जनकपुरी जाये वो दाई
गांवे जनकपुरी जाये

कौने चढ़त हे गाड़ी अउ घुलवा
गाड़ी अउ घुलवा
कौने चढ़य सुख पलना वो दाई
कौने चढ़य सुख पलना
कौने चढ़य सुख पलना वो दाई
कौने चढ़य सुख पलना

रंगे चढ़त हे गाड़ी अउ घुलवा
गाड़ी अउ घुलवा
भरत चढ़य सुख पलना वो दाई
भरत चढ़य सुख पलना
भरत चढ़य सुख पलना वो दाई
भरत चढ़य सुख पलना

काकर सिर मा चांवर डोलत हे
चांवर डोलत हे
कौने टिपत हावे बाने वो दीदी
कौने टिपत हावे बाने
कौने टिपत हावे बाने वो दीदी
कौने टिपत हावे बाने

राजा दसरथ के सिर में चांवर डोलत हे
चांवर डोलत हे
लखन टिपत हावे बाने वो दीदी
लखन टिपत हावे बाने
लखन टिपत हावे बाने वो दीदी
लखन टिपत हावे बाने

राजा जनक के पट पर भांठा
पट पर भांठा
तम्बू लगे हे तनायें वो दाई
तम्बू लगे हे तनायें
तम्बू लगे हे तनायें वो दाई
तम्बू लगे हे तनायें


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : ममता चंद्राकर
संस्‍था/लोककला मंच : ?

ममता चंद्राकर
ममता चंद्राकर

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

7 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Harihar Vaishnav
    जून 05, 2011 @ 11:31:08

    Sundar prastuti. Abhinandan, aabhaar.

    प्रतिक्रिया

  2. Harihar Vaishnav
    जून 05, 2011 @ 18:11:25

    Sundar prastuti ke liye aabhaar.

    प्रतिक्रिया

  3. Zakir Ali Rajnish
    जून 05, 2011 @ 20:43:37

    मजा आ गया पढकर।

    प्रतिक्रिया

  4. Zakir Ali Rajnish
    जून 05, 2011 @ 20:44:26

    बहुत सुंदर गीत है।

    प्रतिक्रिया

  5. Nilay
    जून 10, 2011 @ 02:11:51

    Very good song

    प्रतिक्रिया

  6. SANUK LAL YADAV
    अक्टूबर 30, 2013 @ 20:17:53

    बहुत सुघ्घर।

    प्रतिक्रिया

  7. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    जनवरी 30, 2015 @ 13:33:33

    parmparik geet me ramayan,au bhole baba , ram sita ke varnan he tabhe to ramcharit manas me duno ke bihaw ke varnan he. chhattisgarh ke bihaw geet me devi dewata bad bakhan he.Jai Johar.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: