कोन तोर टिके … Kon Tor Tike

टिकावन

बिहाव म वर-वधु ल जे समान भेंट म दे जाथे वोला टिकावन कहे जाथे। एला दहेज घलो कहे जाथे। टिकावन के नेंग म कन्या पक्ष ह अपन सक्‍ित ले टिकावन टिकथे। टिकावन के बेरा म गाये जाने वाले गीत ल ‘टिकावन ‘ के गीत कहे जाथे। ये गीत म कोन-कोन-ह का-का समान टिके हे तेकर बरनन घलो मिलथे।

'टिकावन

टिकावन के समान

टिकावन गीत के कुछ उदाहरण

हलर हलर मोर मड़वा हाले
खलर खलर दाइज परे
सुरहिन गइया के गोबर मंगइले
खुट धरि अंगना लिपइले
गज मोतिन कर चौक पुरइले
सोने कलस धरइले
कोन देवय मोर अचहर पचहर
कोन देवय धेनू गाय हो
दाई मोर टिकथे अचहर पचहर
ददा मोर टिकथे धेनु गाय हो
भईया मोर टिकथे लिली हंसा घोड़ा
भउजी आठ मासा सोन हो

– o –

इही धरम ए धरम ए गा
आ ग मोरे ददा फेर धरम नई तो पाबे गा
लागत रहय छूटी डारे गा
आ गा मोरो ददा तीनों तिरिथ जीती डारे गा
पइंया पखारत बइंहा डोले वो
आ वो मोरो दाई डोलत कलस जल-पानी वो
का दिन पीरा रखे दुधे वो
आ वो मोरो दाई मथुरा नगर कर दुबी वो
जल जुठारे जल मछरी वो
आ वो मोरो दाई बछुरा जुठारे का-ज दुधे वो
हलल हलल मड़वा डोले
आ वो मोरो दाई खलल खलल दाइज परे वो

– o –

इही धरम ले धरम हे वो
आ वो मोर दाई फेर धरम नई तो पाबे वो
लागत रहय छूटी डारे वो
आ वो मोर दाई तीनों तिरिथ जीती डारे वो
छेरी के दूध छेरियाइन वो
आ वो मोर दाई गइया के दूध बड़ा मीठे वो
हलर हलर मड़वा डोले गा
आ गा मोर ददा खनर खनर दाइज परे गा
पइंया पखारत बइंहा डोले वो
आ वो मोर काकी डोलत कलस जल-पानी वो
चना खाये ल पइसा देबे वो
आ वो मोर आजी चटर-चटर चूमा लेबे वो
हाथ लमाये ल परही गा
आ गा मोर ममा डेहरी लगाये ल माथे गा

– o –

चढ़त बेरा धरम के उतरत बेरा लागिन के
धरम धरम जस ले ले
फेर धरम नई मिले
आज बेटी भये हबे बिरान
अपन दाई के राम दुलौरिन
छीन भर कोरा मं ले ले
हाय हाय दाई कोरा दुलभ होई जाय
अपन ददा के राम दुलौरिन
छीन भर कोरा मं ले ले
आज बेटी भये हबे बिरान
अपन काकी के राम दुलौरिन
छीन भर कोरा मं ले ले
आज बेटी भये हबे बिरान
अपन भउजी के राम दुलौरिन
छीन भर कोरा मं ले ले
आज बेटी भये हबे बिरान

– o –

टिक देबे ददा हाथी अउ घोड़ा
टिक देबे लागत गाय ददा
टिक देबे लागत गाय
टिक देबे दाई अचहर पचहर
टिक देबे नौ लक्खा हार दाई
टिक देबे नौ लक्खा हार
टिक देबे भईया सोला सिंगारे
कर ले धरम तोर हाथे भईया
कर ले धरम तोर हाथे
टिक देबे भउजी हाथे के कखनी
कर ले धरम तोर हाथे भउजी
कर ले धरम तोर हाथे

 

आओ सुनथन आज के टिकावन गीत…

कोन तोर टिके नोनी अचहर पचहर
कोन तोर टिके नोनी अचहर पचहर
कोन तोर टिके धेनू गाय
कोन तोर टिके धेनू गाय
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम

दाई तोर टिके नोनी अचहर पचहर
दाई तोर टिके नोनी अचहर पचहर
ददा तोर टिके धेनू गाय
ददा तोर टिके धेनू गाय
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम

गाय अउ भइंस ले नोनी कोठा तोर भरगे
गाय अउ भइंस ले नोनी कोठा तोर भरगे
दुलरू के मन नहीं आय
दुलरू के मन नहीं आय
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम

पइसा अउ कउड़ी ले नोनी सन्दुक भरगे
पइसा अउ कउड़ी ले नोनी सन्दुक भरगे
दुलरू के मन नहीं आय
दुलरू के मन नहीं आय
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम

टथिया अउ लोटा ले नोनी झंपिया तोर भरगे
टथिया अउ लोटा ले नोनी झंपिया तोर भरगे
दुलरू के मन नहीं आय
दुलरू के मन नहीं आय
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम
कि ए वो नोनी सीता ल बिहावय सिरी राम


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : ममता चंद्राकर
संस्‍था/लोककला मंच : ?

ममता चंद्राकर
ममता चंद्राकर

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

9 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Harihar Vaishnav
    जून 19, 2011 @ 16:41:56

    Sundar aur mahatwapuurn prastuti. Aabhaar.

    प्रतिक्रिया

  2. Hindi SMS
    जून 19, 2011 @ 19:26:36

    बहुत बढ़िया।

    प्रतिक्रिया

  3. babil
    जून 19, 2011 @ 21:34:13

    very nice collection of song

    प्रतिक्रिया

  4. D.K. Parihar
    जून 23, 2011 @ 09:34:25

    Bahoon madhur awoo manbhawan geet.
    Dhanyawad

    प्रतिक्रिया

  5. Roop lal Dharma
    नवम्बर 09, 2012 @ 11:35:39

    this song is very nice for marriage session in our village location so very -very thanking

    प्रतिक्रिया

  6. Santoshmaravi jila balaghat tahsil lanji gram sanduka
    जुलाई 12, 2014 @ 15:46:36

    Mamatachandrakar didi ke ka kahe sabo gana bahut achchha lagthe, hamar gaw chhattisgh ke sima rahe ke karan radio har hi hamar sathi aay. Na hi hamar gaw ma bijly hai, bas radio hi hamar margdarsak hai.santoshmaravi.

    प्रतिक्रिया

  7. khagesh yadav
    जनवरी 15, 2015 @ 09:22:24

    bahut snndar ganaa he ji

    प्रतिक्रिया

  8. khagesh yadav
    जनवरी 15, 2015 @ 09:24:04

    bahut bahiya he ji

    प्रतिक्रिया

  9. pappu Jaiswal
    सितम्बर 03, 2015 @ 08:13:51

    Bahut achha lagis geet sunke dhanywad mamta ji

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: