भांवर परत हे … Bhanwar Parat He

भांवर

भांवर माने परिक्रमा। फेर भांवर ह सिरिफ परिक्रमा भर नई होय। हर भांवर के संग वधू ल अपन बचपन के अंगना ले बिछड़े के अहसास होथे अउ भांवर ह अनजान संग नाता जुड़े के बोध कराथे। ये रस्म म मड़वा के बीच म रखे सील के ऊपर पिंयर चांउर के 7 कुढ़ी के संग हरदी, सिंघोलिया अउ सुपारी रखे जाथे। वधू आघू अउ वर ह पाछू रहत सील के भांवर घुमथे। एक भांवर पूरा होय के बाद वर ह वधु के पांव ल हाथ में उठाके 1 कुढ़ी गिराथे। वधू के भाई ह वधू के हथेरी म लाई देथे अउ वर ओला गिरा देथे। अइसन 6 भांवर सील के चारो ओर अउ सातवां भांवर म वर ह वधू के आघू होके मड़वा के चारो ओर दुनों घुमथे। ये रस्म म सील ह यज्ञ भगवान के अउ लाई ह पतिव्रता के परतिक ए। भांवर के संग मिलन के ये बंधना ह जन्म-जन्मांतर बर जोड़ दे जाथे अउ गांठ ह कभू झन छूटे के मंगलकामना के संग भांवर के काम ल पूरा समझे जाथे। छत्तीसगढ़ म बिहाव के रस्म टिकावन ह इंहा के कुछ जाति म भांवर ले पहिली होथे त कुछ म भांवर के बाद म।

भांवर

भांवर के बेरा गाये जाने वाला गीत के कुछ उदाहरण –

जनम जनम के गांठ जोर दे, ऐ दोसी
गांठे गठुरी झनि छूटे, ऐ दोसी
तोर दाई हारे मोर बबा जीते, ऐ दोसी
एक पूरा खदर ला दुई घर छाये, ये दोसी
गांठे गठुरी झनि छूटे, ये दोसी

– o –

कामा उलोथे कारी बदरिया
कामा ले बरसे बूंद
सरग उलोथे कारी बदरिया
धरती मा बरसे बूंद
काकर भींजे नवरंग चुनरी
काकर भींजे उरमाल
सीता के भींजे नवरंग चुनरी
राम के भींजे उरमाल
कइसे के चिन्हव सीता जानकी
कइसे के चिन्हव भगवान
कलसा बोहे चिन्हेंव सीता जानकी
मकुट खोंचे भगवान
कामा में चिन्हव सीता जानकी
कामा में चिन्हव भगवान
जामत चिन्हेंव अटहर कटहर
मौरत चिन्हेंव आमा डार
चउक मा चिन्हेंव सीता जानकी
मटुक मा चिन्हेंव राम
आगू आगू मोर राम चलत हे
पाछू लछिमन भाई
अउ मंझोलन सीता जानकी
चित्रकूट बर चले जाई

– o –

मधुरी मधुरी पग सारव हो दुलही नोनी
तुंहर दुलरू के अंग झन डोलय हो
एक भांवर जुग-जुग होगे मोर नोनी
तुंहर दुलरू के अंग झन डोलय हो
दुई भांवर दुई जुग होगे मोर नोनी
वो तो कजरारी नैना धराये हो
तीन भांवर तीन जुग होगे मोर नोनी
वो तो डोलत कलस जल-पानी हो
चार भांवर चार जुग होगे मोर नोनी
तोर दुलरू ह मरत हे पियासे हो
पांच भांवर पांच जुग होगे मोर नोनी
तोर ससुर ह मरत हे पियासे हो
छै भांवर छै जुग होगे मोर नोनी
वो दे तोर देवरा मरत हे पियासे हो
सात भांवर सात जुग होगे मोर नोनी
अब चलो चलो कहत हे बराते हो

 

आओ सुनथन आज के भांवर गीत…

भांवर परत हे, भांवर परत हे
हो नोनी दुलर के, हो नोनी दुलर के
होवत हे दाई, मोर रामे सीता के बिहाव
होवत हे दाई, मोर रामे सीता के बिहाव

एक भांवर परगे, एक भांवर परगे
हो नोनी दुलर के, हो नोनी दुलर के
अगनी देवता दाई, हाबय मोर साखी
अगनी देवता दाई, हाबय मोर साखी

दुई भांवर परगे, दुई भांवर परगे
हो नोनी दुलर के, हो नोनी दुलर के
गौरी गनेस दाई, हाबय मोर साखी
गौरी गनेस दाई, हाबय मोर साखी

तीन भांवर परगे, तीन भांवर परगे
हो नोनी दुलर के, हो नोनी दुलर के
देवे लोके दाई, हाबय मोर साखी
देवे लोके दाई, हाबय मोर साखी

चार भांवर परगे, चार भांवर परगे
हो नोनी दुलर के, दाई नोनी दुलर के
दुलरू के नोनी, तोर अंग झन डोलय
दुलरू के नोनी, तोर अंग झन डोलय

पांच भांवर परगे, पांच भांवर परगे
हो देव नरायन, दाई देव नरायन
डोलय दाई मोर, कलसा के भर जल-पानी
डोलय दाई मोर, कलसा के भर जल-पानी

छै भांवर परगे, छै भांवर परगे
हो नोनी दुलर के, हो नोनी दुलर के
दुलरू ह दाई, मोर मरत हे पियासे
दुलरू ह दाई, मोर मरत हे पियासे

सात भांवर परगे, सात भांवर परगे
हो नोनी दुलर के, हो नोनी दुलर के
चलो चलो दाई, मोर कहत हे बराते
चलो चलो दाई, मोर कहत हे बराते


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : ममता चंद्राकर
संस्‍था/लोककला मंच : ?

ममता चंद्राकर
ममता चंद्राकर

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

8 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Harihar Vaishnav
    जून 23, 2011 @ 10:29:42

    Sundar prastuti ke liye aabhaar. Saathii ko kripayaa Saakhii type kar lein.

    प्रतिक्रिया

  2. Harihar Vaishnav
    जून 23, 2011 @ 10:34:20

    Haabay mor saathii kii jagah Haavay mor saakhii type honaa chaahiye.

    प्रतिक्रिया

  3. UTTAM JAIN
    अक्टूबर 26, 2011 @ 22:05:00

    VERY GOOD

    प्रतिक्रिया

  4. UTTAM JAIN
    अक्टूबर 26, 2011 @ 22:10:08

    KITNI MEHNAT KAR RAHE HAIN RAJESH JI BADHAI HAPPY DEEWALI

    प्रतिक्रिया

  5. Tekesh chandrakar
    जून 02, 2013 @ 13:02:11

    I love c.g.songs
    i’am pure chhattisgarhi

    प्रतिक्रिया

  6. yugal kishor kashyap
    दिसम्बर 22, 2013 @ 21:02:57

    chhattisgarhi geet sunke man khush ho jata hai, jo chunur 2 pairi bahe song hai wo apne side me nahi hai kya

    प्रतिक्रिया

  7. khelavan nishad
    मार्च 09, 2014 @ 00:17:22

    Johar johar

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: