लागे रइथे दिवाना … Lage Raithe Diwana

लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

दांते बत्तिसी नयन कजरा या
तोर मया के मारे का भइगे
में होगेंव पगला बही येदे ना

गहूँ पिसान के बना ले गुलगुल
तोला चुलुक नई खुले का भइगे
ये कटा ले बुलबुल बैरी येदे ना

मारे ल मछरी निकाले ल सेहरा या
कहाँ डारे जंवारा का भइगे
आघू के चेहरा बही येदे ना

आमा लगाये ओरीच ओरी गा
जेमा रेंगे कन्हैया का भइगे
ये जांवर जोड़ी बइहा येदे ना

घरेच बनाये एकेच कुरिया या
तोर मया के मारे का भइगे
ये नई जावंव दुरिहा संगी येदे ना

लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

 

आओ सुनथन लता खापर्डे अउ ज्ञान गोप के स्वर म ये गीत ल…

लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया ,लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

दांते बत्तिसी नयन कजरा या, तोर मया के मारे का भइगे
दांते बत्तिसी नयन कजरा या, तोर मया के मारे का भइगे
में होगेंव पगला बही येदे ना, में होगेंव पगला बही येदे ना
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

गहूँ पिसान के बना ले गुलगुल, तोला चुलुक नई खुले का भइगे (अच्छा)
गहूँ पिसान के बना ले गुलगुल, तोला चुलुक नई खुले का भइगे
ये कटा ले बुलबुल बैरी येदे ना, ये कटा ले बुलबुल बैरी येदे ना
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

मारे ल मछरी निकाले ल सेहरा या, कहाँ डारे जंवारा का भइगे
मारे ल मछरी निकाले ल सेहरा या, कहाँ डारे जंवारा का भइगे
आघू के चेहरा बही येदे ना, ये आघू के चेहरा बही येदे ना
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

आमा लगाये ओरीच ओरी गा, जेमा रेंगे कन्हैया का भइगे
आमा लगाये ओरीच ओरी गा, जेमा रेंगे कन्हैया का भइगे
ये जांवर जोड़ी बइहा येदे ना, ये जांवर जोड़ी बइहा येदे ना
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

घरेच बनाये एकेच कुरिया या, तोर मया के मारे का भइगे
घरेच बनाये एकेच कुरिया या, तोर मया के मारे का भइगे
ये नई जावंव दुरिहा संगी येदे ना, ये नई जावंव दुरिहा संगी येदे ना
ये नई जावंव दुरिहा संगी येदे ना, ये नई जावंव दुरिहा संगी येदे ना
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे दिवाना, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
लागे रइथे वो दिवानी, तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे

तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे
तोरो बर मोरो मया, लागे रइथे


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : लता खापर्डे, ज्ञान गोप
संस्‍था/लोककला मंच : ?

लता खापर्डे

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

29 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल सिंह
    जुलाई 30, 2011 @ 08:21:34

    गीत के नमूना पेवर देवार गीत बरोबर हे.

    प्रतिक्रिया

  2. vishal
    जुलाई 30, 2011 @ 10:15:02

    maja aa ge jahuriya

    प्रतिक्रिया

  3. rupesh
    जुलाई 30, 2011 @ 20:18:04

    maja aa gey ji mitan

    प्रतिक्रिया

  4. avinash vijay patel
    जुलाई 30, 2011 @ 20:41:02

    bane lagish gana la sun ke bahut din bad gana har sune br molish,,,,,,,,,,,,,

    प्रतिक्रिया

  5. dhannu chhattisgariya
    जुलाई 30, 2011 @ 22:16:08

    wah sangi maza aa ge
    moro man nache k hoge

    प्रतिक्रिया

  6. rupendra verma
    जुलाई 31, 2011 @ 14:22:41

    haman chhatisgarh se bahar rahithan ,hamar bar ye geet sangeet ha jariya ye aapan jameen se jude bar
    bahut bahut dhanyawad
    bahut badiya

    प्रतिक्रिया

  7. Dr. Vinod Tandan
    अगस्त 01, 2011 @ 14:33:46

    geet sunke jhume ke man hoge isne au sughar geet sunawat rahaw geet bar dhanywad

    प्रतिक्रिया

  8. Dharmendra Parihar
    अगस्त 03, 2011 @ 22:05:30

    लागे रैथे दीवाना तोरो बर मोरो माया…… लागे रैथे…. सुघर अऊ सुमधुर गीत

    प्रतिक्रिया

  9. narendra diwan
    अगस्त 05, 2011 @ 08:54:28

    मया भरे गीत हे संगवारी।

    प्रतिक्रिया

  10. narendra diwan
    अगस्त 05, 2011 @ 08:59:11

    बढ़ निक लागिस ये गीत ल सुन संगी|

    प्रतिक्रिया

  11. aman manikpuri anjor das
    अगस्त 05, 2011 @ 11:37:22

    गजब सुघर हे ये गाना अऊ वइसने सुघर गायिकी हे लाजवाब,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
    दीवाना के मया मा बूढ़े दीवानी के दिल के बात वोकर मन के व्यथा हिरदे ला सराबोर कर देते ,

    तोर सुरता म गजब धुनेल भइगे करिया ,
    मोला अलिन गलिन मा सुनेल भइगे करिया ,
    सरी मंझनिया डहर लगे सुनना .,
    पाछू परे बैरी छैहा डरेल भइगे करिया,
    सुध के बुध म गयेव में नरवा तीर मा
    आभा मारत हे चिरैया गुनेल भइगे करिया,
    मन के मयारू होगे हे परबुधिया ,
    जैसे तेल बिना बाती जरेल भइगे करिया,
    तिरिया के पिरिया म किरिया समागे,
    मुढ़ बोझा होगे झौहा थेम्हले भइगे करिया

    गीतकार :-दाऊ मुरली चंद्राकर
    संग्रह करता :-एमन दस मानिकपुरी
    औरी भिलाई-३ दुर्ग,

    प्रतिक्रिया

  12. dulal kashriya
    अगस्त 05, 2011 @ 23:22:36

    गाना बहुत अच्छा ।

    प्रतिक्रिया

  13. dulal kashriya
    अगस्त 05, 2011 @ 23:27:31

    thik hai gana.

    प्रतिक्रिया

  14. Gajendra Sahu
    अगस्त 29, 2011 @ 12:42:44

    वइसे तो आज के बेरा में का करो करा अतका समय नइ रहय कि वो हर गीत सुने, लेकिन मैं हर अइसन ए‍को छिन नइ आवत होही जेमा मै हर अपन माटी से जुडे गीत नइ सुनत होहुं, मैं हर एक किसान घर के र‍हवइया हरों औ अभी मै हर दन्‍तेवाडा में सहायक प्रोग्रामर हव, लेकिन आज मै जब घलो घर जाथों त खेती म नागर बैला संग रहे के अच्‍छा लागथे, मोला माटी के गीत, बारामासी गीत, कर्मा, ददरिया खूब पसंद हे, मोर ख्‍वाहिश हे क‍ि मोला आप मन – मोर संग चलव रे मोर संग चलव गा सुनातेव, जय जोहार, जय छत्‍तीसगढिया किसान और जय होय मोर छत्‍तीसगढ भुं‍ईया के !

    प्रतिक्रिया

  15. sudhir verma
    सितम्बर 25, 2011 @ 00:13:53

    geet bahut badhia laagis he

    प्रतिक्रिया

  16. rajender jayswal
    नवम्बर 17, 2011 @ 11:19:04

    i like this cg song very nice

    प्रतिक्रिया

  17. Lochan Prasad Dansena
    अप्रैल 20, 2012 @ 12:04:09

    my best song Om computer Nawapara Chhal c.g.

    प्रतिक्रिया

  18. rajneekuldeep
    जनवरी 03, 2013 @ 15:45:29

    बहुत सुंदर गीत है इस प्रस्तुति मेँ प्रेम की झलक है ।

    प्रतिक्रिया

  19. gorelal
    फरवरी 25, 2013 @ 11:19:54

    Ye ha havay hamar chattisgarh ke lok sangit hamar asli chinha

    प्रतिक्रिया

  20. dr.jg chauhan
    मार्च 11, 2013 @ 09:43:35

    bahut sundar

    प्रतिक्रिया

  21. bhuvendra shory
    जून 04, 2013 @ 22:04:14

    purane chhattisgarhi songs mujhe accha lagata h mujhe sunna bhi pasand h

    प्रतिक्रिया

  22. कल्याणसिँह पटेल
    जून 13, 2013 @ 17:13:22

    ए गीत ह मोला अऊ मोर बाई ल बहुत निक लागिस काबर हमन दुरिहा मेँ रहिथन जब एक सँग होथन तब ए गीत ल सुनथन जी। कल्याणसिँह पटेल शहीद नगर बीरगाँव रायपुर छ ग

    प्रतिक्रिया

  23. manohar das mersa
    जून 28, 2013 @ 19:02:19

    बढ़ निक लागिस ये गीत ल सुन संगी

    प्रतिक्रिया

  24. Santosh Kumar Sahu
    अगस्त 01, 2013 @ 12:30:31

    bahut sudhar

    प्रतिक्रिया

  25. vinay kumar mahant
    मई 25, 2014 @ 17:05:34

    Raipur wali chalo darling

    प्रतिक्रिया

  26. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    जनवरी 30, 2015 @ 12:29:31

    maya ke geet au boli bad gurtur he bhai.

    प्रतिक्रिया

  27. sunil chaure ji
    अप्रैल 02, 2015 @ 18:19:39

    cg song is best song

    प्रतिक्रिया

  28. sunil chaure ji
    अप्रैल 02, 2015 @ 18:20:06

    ok

    प्रतिक्रिया

  29. प्रीतम देवांगन
    मई 08, 2016 @ 13:21:55

    जबरदस्त हावै अइसने देते रहव अऊ हमर संस्कृति ल जिंदा राखव

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: