भेजत हाबव माया म … Bhejat Habav Maya Ma

राखी - मया के बंधना

भेजत हाबव माया म, फिन्जो के दुई सुत
भेजत हाबव माया म, फिन्जो के दुई सुत
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा

दुरिहा गजब होगे, मइके के अंगना ह, दुरिहा दिये तैं ससुराल
दुरिहा गजब होगे, मइके के अंगना ह, दुरिहा दिये तैं ससुराल
दुरिहा ले सुरता, करत हंव मोर भईया के, दुरिहा ले भेजत हंव पियार
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा

रही रही आवत हाबय, मइके के सुरता अउ, मइके के डेहरी दुवार
रही रही आवत हाबय, मइके के सुरता अउ, मइके के डेहरी दुवार
कब आबे भईया, लेवाय बर मोला के, कब आही तीजा तिहार
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा

राखी के बंधना हे, मया के ये बंधना ए, भाई बहिनी के तिहार
राखी के बंधना हे, मया के ये बंधना ए, भाई बहिनी के तिहार
फरय फुले भईया, अउ भउजी के अंगना के, सुख राहय भईया हमार
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा

भेजत हाबव माया म, फिन्जो के दुई सुत
भेजत हाबव माया म, फिन्जो के दुई सुत
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा
बांधी लेबे भईया, मोर राखी ल गा


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : कविता वासनिक
संस्‍था/लोककला मंच : ?

कविता वासनिक
कविता वासनिक

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

12 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. अशोक बजाज
    अगस्त 13, 2011 @ 07:48:26

    रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    प्रतिक्रिया

  2. Harihar Vaishnav
    अगस्त 13, 2011 @ 09:17:22

    Sundar geet au sangeet khaatir badhaaii au aabhhar.

    प्रतिक्रिया

  3. राहुल सिंह
    अगस्त 13, 2011 @ 13:28:11

    बढि़या मौका म अच्‍छा गीत.

    प्रतिक्रिया

  4. mohit chandrakar
    अगस्त 13, 2011 @ 14:00:42

    Bhejat Habav Maya Ma

    प्रतिक्रिया

  5. dhannu chhattisgariya
    अगस्त 15, 2011 @ 14:48:42

    ka gana he. au bane lagin ma sune la mil ghalo ge.
    pher didi man k surta ma aansu ghalo aage……..

    प्रतिक्रिया

  6. Hemant sahu
    जुलाई 27, 2012 @ 11:52:27

    Ye gana la sunke bane lagis au didi man ke surata aage

    प्रतिक्रिया

  7. D R LADER
    जनवरी 14, 2013 @ 16:11:01

    ye geet chaya ji ne gaya hai bhai ji kavita ji ne nahin

    प्रतिक्रिया

  8. manohar das mersa
    जून 28, 2013 @ 19:30:51

    achha laga vo shabd vo shabdon ki mithas aajkal ke geeton men nahi milti hai

    dhanyavad

    प्रतिक्रिया

  9. DAKLU SAHU
    जुलाई 14, 2013 @ 12:53:15

    Didi mola rakhi kb bhejbe…
    2 din k jingi ab char he..
    bahini k maya apaar he….

    प्रतिक्रिया

  10. Chhaliya Ram Sahani 'ANGARA'
    दिसम्बर 03, 2014 @ 14:34:13

    Geet no.13 bhejat havav maya ma bad neek au sughghar lagis.

    प्रतिक्रिया

  11. chhaliyaramsahani
    जनवरी 30, 2015 @ 11:11:14

    Rakhi ke au geet samil karo.

    प्रतिक्रिया

  12. Uttam kumar sahu
    जुलाई 09, 2020 @ 01:27:17

    Badiya sughar geet ke suchi tayar jatna jhan milke kare habo te manla Abbas Abbas dhanyawad me ha bata ni sako ratna mola ghushi hois adha raat hoge risih tabhi mola phon rakhe bar ni bhat rihis tuman kammo jhan Abbas Abbas dhanyawad ki attik sughar dharohar la tuman hamar manbar samhal ke rakheho

    Eltham geeta ke mor ichha rihis okar मुखड़ा la ni jaano lekin beech ha surta have
    Geet-ran ban gara matay chuna siment ke masala banay.
    Ho sakhi ta upload kar dehu

    Kammo jhan la jai johar jai chhattisgarh

    प्रतिक्रिया

DAKLU SAHU को एक उत्तर दें जवाब रद्द करें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 769 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: