डोंगरी के तीर राजा … Dongari Ke Teer Raja

डोंगरी के तीर राजा

डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे
डाक ठिकाना ल पुछे नई लागे~
डाक ठिकाना ल पुछे नई लागे
अंतस मा गा तोर नांव हे राजा
अंतस मा गा तोर नांव हे
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे~

बाट जोहत खड़े रहिथव, डोंगरी के तीर गा
कभु ले तो आबे रे बैरी, मन हे अधीर गा
बाट जोहत खड़े रहिथव, डोंगरी के तीर गा
कभु ले तो आबे रे बैरी, मन हे अधीर गा
पै-डगरी रेलवाही सड़किया~
पै-डगरी रेलवाही सड़किया
सोज्झे आथे गा मोर गांव में राजा
सोज्झे आथे गा मोर गांव में
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे
डाक ठिकाना ल पुछे नई लागे~
डाक ठिकाना ल पुछे नई लागे
अंतस मा गा तोर नांव हे राजा
अंतस मा गा तोर नांव हे
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे~

ये नंदिया के निर्मल पानी, सुन्दर लहरा मारत हे
ये नंदिया के निर्मल पानी, सुन्दर लहरा मारत हे
मन कोयली संग पवन झकोरा, तोर अगोरा म गावत हे
मन कोयली संग पवन झकोरा, तोर अगोरा म गावत हे
रुख राई जंगल के परानी~
रुख राई जंगल के परानी
धरे हे मया ला मोर गांव के राजा
धरे हे मया ला मोर गांव के
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे
डाक ठिकाना ल पुछे नई लागे~
डाक ठिकाना ल पुछे नई लागे
अंतस मा गा तोर नांव हे राजा
अंतस मा गा तोर नांव हे
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे
डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हे~


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : छाया चन्द्राकर
संस्‍था/लोककला मंच : ?

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

24 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. राहुल सिंह
    सितम्बर 10, 2011 @ 07:58:20

    हिंदी में सोच कर छत्‍तीसगढ़ी बनाया गया जैसा लगता गीत.

    प्रतिक्रिया

  2. Ravindra Rahangdale
    सितम्बर 10, 2011 @ 10:48:32

    हिंदी में सोच कर छत्‍तीसगढ़ी बनाया गया जैसा लगता गीत.

    प्रतिक्रिया

  3. naveen kumar tiwari
    सितम्बर 13, 2011 @ 20:44:02

    hindi put ka chatisgarhi gana he , achaa soch he gramin pariwesh ka chitran sachamuch me gram ka darshan kara jata he , dhanyawad je johar

    प्रतिक्रिया

  4. डॉ. धर्मेन्द्र परिहार
    सितम्बर 16, 2011 @ 20:02:40

    चंद्राकर जी! ब्लॉग के स्तर ल बनाये रखव…

    प्रतिक्रिया

  5. धन्नू chhatttisgariya
    नवम्बर 18, 2011 @ 22:53:52

    badiya gana..moro chotkun gaon k surta aage

    प्रतिक्रिया

  6. bsahu
    दिसम्बर 24, 2011 @ 14:14:27

    mor Gaon gawai

    प्रतिक्रिया

  7. keshav kawre
    दिसम्बर 29, 2011 @ 15:00:24

    keep it up mam……..its wonderful

    प्रतिक्रिया

  8. kishor sahu
    फरवरी 10, 2012 @ 23:56:42

    bahut badiya

    प्रतिक्रिया

  9. devkumar sahu
    मार्च 28, 2012 @ 23:27:44

    bahut achha lagi hai

    प्रतिक्रिया

  10. jitendra kumar mandavi
    अप्रैल 07, 2012 @ 17:30:14

    bahut sughar have tor geet ga kaka

    प्रतिक्रिया

  11. falesh thakur gohinabahara
    अप्रैल 21, 2012 @ 18:41:37

    starting me flut ki aawaz bahut pyara laga and music bhi mast hai..

    प्रतिक्रिया

  12. Ntr
    अप्रैल 27, 2012 @ 00:12:54

    Acha hain,
    naye filmo k gane bhi dalo

    प्रतिक्रिया

  13. anil
    जून 10, 2012 @ 15:11:39

    yah geet mola achchha lages me ha pendra road me rahat hu chhattesghadiya gana mola aadbad maya lagate

    प्रतिक्रिया

  14. M D Sahu
    सितम्बर 26, 2012 @ 20:14:05

    bahut sugghar geet au geet ke bol he

    प्रतिक्रिया

  15. laxmi kant sen
    अक्टूबर 08, 2012 @ 11:22:29

    डोंगरी के तीर राजा, छोटकुन गांव हे
    आमा अमरैया अउ पीपर के छांव हेण्,,,,,,,,,,,,,,,
    वाह भई वाह बहूत सुघ्‍घर लागिस

    प्रतिक्रिया

  16. Rameshwar Sahu
    अक्टूबर 17, 2012 @ 09:09:38

    hamar gaon hamar des k geet g sangi

    प्रतिक्रिया

  17. Keshari datan 9575616161
    अक्टूबर 28, 2012 @ 14:30:56

    hamar gaon hamar bhahut suggar gao he chandrakar didi ji

    प्रतिक्रिया

  18. Suryakant Sahu
    अप्रैल 26, 2013 @ 21:19:51

    Aapse Nivedan he ki kripya ‘khan khan khan khan baila ke ghunghru’ wala gana(chhaya chandrakar) upload karein

    प्रतिक्रिया

  19. Rakesh Tiwari
    जुलाई 29, 2013 @ 15:45:16

    Shri Chandrakar ji, Nadiy ke teer hai, punni kas rat he…. upload karav n

    प्रतिक्रिया

  20. Dev ratnakar
    अगस्त 03, 2013 @ 23:07:01

    Tain agor lebe re sangi sanjha ke bera kuvapaar me-kedar yadav ji ke ye geetla upload karav chandarakar ji…….Jai Chattishgarh

    प्रतिक्रिया

  21. shashi kumar diwan
    अक्टूबर 20, 2013 @ 13:23:18

    Gana badiha he…g

    प्रतिक्रिया

  22. Dev Nishad
    जून 22, 2014 @ 13:20:01

    bad sughar lagis ga

    प्रतिक्रिया

  23. Chhaliya Ram Sahani 'ANGRA'
    दिसम्बर 06, 2014 @ 14:29:54

    chhattisgarh ke gaon ke bad sughghar varnan ye geet ma he jaun man la moh lethe.

    प्रतिक्रिया

  24. Arun Dashmle
    सितम्बर 15, 2015 @ 16:02:11

    This ia great job by Mr, RAJESH CHANDRAKR JI.
    Realy we are forgeting to our BOLI and our BHASA.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: