ना काँद रे डाउल बुटा … Na Kand Re Daul Buta

बिहा गीत

बस्तर में अनेक जनजातियाँ निवास करती हैं। इनमें गोंड (मुरिया, माड़िया, अबुझमाड़िया, दण्डामी माड़िया), दोरला, भतरा, हल्बा, धुरवा और परजा प्रमुख हैं। सभी जनजातियों की संस्कृति में अन्तर के बावजूद कहीं न कहीं एक-दूसरे की संस्कृति से आदान-प्रदान की छाप स्पष्ट दिखलायी पड़ती है। विवाह की कई रस्में समानता लिये होती हैं तो कई रस्मों में अन्तर भी झलकता है। ‘महुड़ बाँदनी’ रस्म की ही बात लें। यह रस्म प्रायः सभी जनजातियों और इसके साथ ही अन्य गैर जनजातीय समुदायों में भी प्रचलित है किन्तु रिवायतों में कहीं न कहीं थोड़ा-बहुत फर्क दिखलायी पड़ता है। उदाहरण के तौर पर विवाह के समय वर और वधू को ‘महुड़ (मुकुट)’ बाँधने की रस्म को लें। प्रायः वर अथवा वधू को वर अथवा वधू के पितृ-पक्ष के लोगों द्वारा जिनमें पिता, ताऊ और काका तथा बड़ा भाई और गाँव का पुजारी अथवा गाँयता मिल कर महुड़ (मुकुट) बाँधते हैं। वधू को महुड़ पहनाने के समय गाये जाने वाले गीत में करुणा होती है। पिता के द्वारा महुड़ पहनाने का अर्थ है उसके घर से बेटी की विदाई। यही भाव होता है इस गीत में।

© सर्वाधिकार सुरक्षित

आलेख, संकलन : श्री हरिहर वैष्णव

हरिहर वैष्णव

 

 

सम्पर्क : सरगीपाल पारा, कोंडागाँव 494226, बस्तर-छत्तीसगढ़।
दूरभाष : 07786-242693
मोबाईल : 76971-74308
ईमेल : hariharvaishnav@gmail.com

 

 

प्रस्तुत “महुड़ बाँदनी गीत” भतरा जनजाति के विवाह में गाया जाता है। इस गीत को गाया है भतरा जनजाति की श्रीमती दसमी बाई ने :

 

ना काँद रे डाउल-बुटा पुजारी मकुट बाँदे
ना काँद रे डाउल-बुटा पुजारी मकुट बाँदे

बाँदे तो बाँदे लाड़े-लाड़े बाँदे
बाँदे तो बाँदे लाड़े-लाड़े बाँदे
बाँदे तो बाँदे सोगे-सोगे बाँदे
बाँदे तो बाँदे हो सोगे-सोगे बाँदे

ना काँद रे डाउल-बुटा नाना मकुट बाँदे
ना काँद रे डाउल-बुटा नाना मकुट बाँदे
बाँदे तो बाँदे हो सोगे-सोगे बाँदे
बाँदे तो बाँदे हो लाड़े-लाड़े बाँदे

ना काँद रे डाउल-बुटा पुजारी मकुट बाँदे
ना काँद रे डाउल-बुटा पुजारी मकुट बाँदे
बाँदे तो बाँदे हो सोगे-सोगे बाँदे
बाँदे तो बाँदे हो लाड़े-लाड़े बाँदे

बाटो रो सिंद-बुटा रोदो-रोदो काँदे
बाटो रो सिंद-बुटा रोदो-रोदो काँदे
ना काँद रे सिंदी-बुटा पुजारी मउड़ बाँदे
ना काँद रे सिंदी-बुटा पुजारी मउड़ बाँदे

बाँदे तो बाँदे लाड़े-लाड़े बाँदे
बाँदे तो बाँदे सोगे-सोगे बाँदे
ना काँद रे सिंदी-बुटा पुजारी मउड़ बाँदे
ना काँद रे सिंदी-बुटा पुजारी मउड़ बाँदे

बाँदे तो बाँदे लाड़े-लाड़े बाँदे
बाँदे तो बाँदे सोगे-सोगे बाँदे
ना काँद रे सिंदी-बुटा पुजारी मउड़ बाँदे
ना काँद रे सिंदी-बुटा पुजारी मउड़ बाँदे


क्षेत्र : बस्तर (छत्तीसगढ़)
भाषा : भतरी
गीत-प्रकार : लोक गीत
गीत-वर्ग : 02-सांस्कारिक गीत, विवाह गीत (द), 22-महुड़ बाँदनी गीत
गीत-प्रकृति : अकथात्मक
गीतकार : पारम्परिक
गायन : दसमी बाई, (ग्राम : खोरखोसा, तहसील : जगदलपुर, बस्तर-छ.ग.)
ध्वन्यांकन : 1997
ध्वन्यांकन एवं संग्रह : हरिहर वैष्णव

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

बिहा गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

5 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Harihar Vaishnav
    फरवरी 25, 2012 @ 10:32:53

    Dhanywaad bhaii Rajesh ji.

    प्रतिक्रिया

  2. vitendra
    फरवरी 27, 2012 @ 14:19:56

    bahut sundar harihar bhaiya aap ne bahoot hi payara parmparik geet samhal ke rakha hai aap badhai ke para hain. aaj kal shadi vyah me bhoot se geet gayab ho chuke hain .

    प्रतिक्रिया

  3. Harihar Vaishnav
    मार्च 02, 2012 @ 04:27:02

    Hausalaa afjaaii ke liye dhanywaad bhaaii Vitrndra jii.

    प्रतिक्रिया

  4. Harihar Vaishnav
    मार्च 02, 2012 @ 04:30:50

    Bhaaii Rajesh jii, aaj koii bhii geet nahin baj rahaa hai. Maine Jas Geet aadi sunne ke kai pryaas kiye kintu saphlataa nahin milii.

    प्रतिक्रिया

  5. Devpatel
    अप्रैल 21, 2012 @ 15:47:40

    This song are rises cg manner and culture.so veri Quet song.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 610 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...

%d bloggers like this: