बर तरी खड़े हे बरतिया … Bar Tari Khare He Bartiya

बिदा

हंसी-खुसी ले भरे बिहाव म बिदा के बेरा ह पिरा ले भरे होथे। ये बेरा वधू पक्ष ह कन्या ल वर पक्ष ल सौंपथे अउ एकर संग बेटी ह बिरान हो जथे, पहुना बन जथे। दाई ददा के घर ले अपन घर जाथे वधू, बिदा देथे सब्बो मयारू। बचपन के संगी जहुंरिया, ददा के दुलार, दाई के कोरा, भाई के स्नेह अउ बहिनी के मया ले बने घर-अंगना ल छोड़के नोनी ह अब अपन नवा घर जाथे। सिसकत अउ भींजे आंखी ले अपन दुलौरिन ल बिदा करत घरवाले मन ल देखके बिरानमन के आंखी ह घलो छलक जथे। हाथ म धान भरके पाछू कोती उछालत बेटी ह मइके के साध करत चले जथे। पुरखा-मन के रचे दुनिया के इहि रित ए। बिदा हरे नवसृजन बर पुनर्जन्म।

ये बेरा गाये जाने वाला गीत म कन्या ओकर दाई, ददा, भाई अउ सब्बो मयारू-मन के पिरा भरे होथे। दाई ह दुख म इंहा तक की डारथे…

बेटी के संचरत जान पाइतेंव
अंडी के पान ला खा लेतेंव
कोखिया ला पार लेतेंव बांझ

बेटी ह घलो कतार हो जथे। वहू अनजान संग बने रिस्ता ले दुखी हे, जे ओला जीवन भर-बर ओकर घर ले बिलग करके लेगत हे। ओकर ले बिछड़त दाई ददा भाई बहिनी के पिरा नई देखे जाय…

रहेंव मैं दाई के कोरा ओ
अंचरा मा मुंह ला लुकाय ओ
ददा मोर कहिथे कुआं में धसि जइतेंव
बबा कथे लेतेंव बैराग, ओ बेटी
काहे बर ददा कुआं में धसि जाबे
काहे बर बबा लेबे बैराग
बालक सुअना पढ़न्ता मोर ददा
मोला झटकिन लाबे लेवाय

सब ला बेटी ले बिछुड़े के पिरा हे फेर दाई के पिरा सबले जादा होथे। आखिर वो का कर सकथे? ओकर कोख म पले बेटी ल सदा बर घर म तो नई रखे जा सके। बेटी ह पराया धन होथे। तेकर सेती दाई ह बेटी ल समझा-बुझा के आसिरवाद देथे…

मंगनी करेंव बेटी, जंचनी करेंव ओ
बर करेंव बेटी, बिहाव करेंव ओ
जा जा बेटी, कमाबे खाबे ओ
मार दिही बेटी, रिसाय जाबे ओ
मना लिही बेटी, त मान जाबे ओ
जांवर जोड़ी संगे, बुढ़ा जाबे ओ
सुख दुख के रद्दा, नहक जाबे ओ

बिदा के कुछ अउ गीत …

मैं परदेसिन आवं
पर मुलुक के रद्दा भुलागेंव
अउ परदेसिया के साथ
दाई कइथे रोज आबे बेटी
ददा कइथे आबे दिन चार
भईया कइथे तीजा पोरा
भउजी कइथे कोन काम
मैं परदेसिन आवं
पर मुलुक के रद्दा भुलागेंव
अउ परदेसिया के साथ

– o –

अतेक दिन बेटी तैं घर मोर रहे वो
आज बेटी भये रे बिरान
झिनबर डोला बिलमइते कहार भईया
मैं तो करी लेतेंव ददा संग भेंट
झिनबर डोला बिलमइते कहार भईया
मैं तो करी लेतेंव दाई संग भेंट

अतेक दिन बहिनी तैं घर मोर रहे वो
आज बहिनी भये रे बिरान
झिनबर डोला बिलमइते कहार भईया
मैं तो करी लेतेंव भाई संग भेंट
झिनबर डोला बिलमइते कहार भईया
मैं तो करी लेतेंव भउजी संग भेंट

– o –

दुलरी के अंगना में एक पेड़ पारस
नोनी चिड़ियन करथे बसेर
आवत चिरईया मोर रूमझुम लगथे
नोनी जावत चिरईया सिमसान
संगी जहुंरिया दुनो बइठे ल अइहव
घर बेटी बिना रे अंधियार

– o –

नीक नीक लुगरा निमार ले वो
आवो मोर दाई, बेटी पठोवत आंसू हारे वो
नोनी के छूटगे महतारी वो
आवो मोर दाई, बुता तो होगे तोर भारी वो
चार दिन दाई तैंहर खीझेस वो
आवो मोर दाई, मया गजब तैंह करस वो
नोनी के घर आज छूटगे वो
आवो मोर दाई, बाहिर म घर ल बनाही वो
नोनी के जोर तुम जोरितेव वो
आवो मोर दाई, रोवथे डण्ड पुकारे वो
पहुंना तो नोनी अब बनगे वो
आवो मोर दाई, बेटी के विदा तुम करिदेव वो

– o –

दाई के रेहेंव में रामदुलारी
दाई तोरे रोवय महल वो
अलिन गलिन दाई रोवय
ददा रोवय मुसरधार वो
बहिनी बिचारी लुकछिप रोवय
भाई के करय दण्ड पुकार वो
तुमन रइहव अपन महल मा
दुख ला देइहव भूलाय वो
अंसुवन तुम झन ढारिहव बहिनी
सबे के दुखे बिसार वो
दुनिया के ये हर रित हे नोनी
दिये हे पुरखा चलाय वो
दाई ददा के कोरा मा रेहेन
अचरा मा मुह ला लुकाय वो
अपन घर तुमन जावव बहिनी
झन करव सोंच बिचार वो

– o –

घर के दुवारी ले दाई रोवथे
आज नोनी होये बिराने ओ
घर के दुवारी ले ददा मोर रोवथे
रांध के देवइया बेटी जाथे
अपन कुरिया के दुवारी ले भईया मोर रोवथे
मन के बोधइया बहिनी जाथे
भीतरी के दुवारी भउजी मोर रोवथे
लिगरी लगइया नोनी जाथे
दाई मोर रोवथे नदिया बहथे
ददा रोवय छाती फाटथ हे
हाय हाय मोर दाई
भईया रोवय समझाथे
भउजी नयन कठोरे वो

बिदा के पिरा ल पंचराम मिर्झा के गाये गीत करले सिंगार, मोर गर के हार, जा तेहां ससुरार जाबे म महसूस कर सकथव।

वधू ल बिदा कराके वर अउ बराती अपन गांव लहुट जथे। बरात वापसी म डोला परछन के नेंग होथे। जब डोला घर के मुहाटी म रुकथे त दाई ह डोली के ऊपर सूपा रखके पांच मुट्ठी नमक रखथे। ऊपर से मसूर ल ए पार ले ओ पार करथे। ये ह एक टोटका हरे। तहान वधू ह धान ले भरे झेंझरी म पांव रखके उतरथे। सुवासिन मन दुल्हा-दुल्हिन ल अंगना म ले जाथे। उंहा चौक पूरे जगा म दुनों ल पीढ़ा म खड़ा करे जाथे अउ गांव-घर के महिला मन ओकर आरती उतारथे। तहान दुनों झन ल घर म लेगथे सुवासिन मन ओकर रद्दा छेंकथे। पगरैत ह ओला नेंग देथे तभे भीतर जावन देथे एला “डेहर छेकउनी” कहे जाथे। भीतर जाके वधू खाली कूरो में चांउर भरथे जेला वर ह लात मार के गिरा देथे। अइसन 7 बार करे जाथे । एकर बाद वर वधू के मउर निकाल दे जाथे।

दुल्हा-दुल्हन के संकोच ल दूर करे-बर कंकन-मउर के नेंग होथे। जेमा वधू के घर ले आये लोचन पानी ल परात / टठिया म रखके मड़वा के तीर म एक दूसर के कंकन छोड़वाय जाथे। तहान लोचन पानी म कौड़ी / सिक्का / मुंदरी / माला खेले जाथे। जेमा वर एक हाथ ले अउ वधू दुनों हाथ ले कौड़ी खोजथे। जे सिक्का पाथे वो जीत जथे। 7 बेर अइसे खेले जाथे। सिक्का डारे के काम सुवासिन मन करथे। एकर पाछू सबो-झन टिकावन टिकथे जेला धरमटीका कहे जाथे। एकर दू-तीन दिन बाद वधू के छोटे भाई, जीजा अउ दू-चार झन वधू ल लेगे बर आथे जेला चौथिया कहे जाथे। दुल्हा-दुल्हन जादा उमर के होथे त बिहाव अउ पठौनी एके संग कर दे जाथे, कम उमर म होथे त गौना होये के बाद “घर सौंपना” जेला सुहागरात कहे जाथे होथे। बने मुहूरत म मड़वा ल उखाड़े जाथे अउ ओला तरिया म ठंडा/विसरजित कर दे जाथे।

 

आज के बिदा गीत के संग बिहाव गीत के आखिरी गीत लेके आय हव। आओ सुनथन बिदा गीत…

बर तरी खड़े हे बरतिया
बर तरी खड़े हे बरतिया
कि लीम तरी खड़े हे कहार

बर तरी खड़े हे बरतिया
बर तरी खड़े हे बरतिया
कि लीम तरी खड़े हे कहार

अइसन सैंया निरदइया
अइसन सैंया निरदइया
कि चलो चलो कहिथे बरात

दाई मोर रोवत हे महल में
दाई मोर रोवत हे महल में
कि ददा मोर रोवय दरबार

झिनबर डोला बिलमइतेंव
झिनबर डोला बिलमइतेंव
कि दाई संग करी लेतेंव भेंट

बड़े बड़े डोलवा चंदन के
बड़े बड़े डोलवा चंदन के
कि छोटे छोटे लगे हे कहार

अइसन सैंया निरदइया
अइसन सैंया निरदइया
कि चलो चलो कहिथे बरात

लकठा में खेती झन करबे गा
लकठा में खेती झन करबे
कि दुरिहा में बेटी झन बिहाय

लकठा के खेती गरवा खाथे गा
लकठा के खेती गरवा खाथे
कि दुरिहा के बेटी दुख पाय

तैं परदेसनिन हो गे वो
तैं परदेसनिन हो गे
कि जा परदेसिया के साथ

दाई कथे आबे रोज बेटी
दाई कथे आबे रोज बेटी
कि ददा कथे आबे दिन चार

भाई कथे आबे तीजा पोरा में
भाई कथे आबे तीजा पोरा में
कि भउजी कथे आये के का काम

अइसन सैंया निरदइया
अइसन सैंया निरदइया
कि चलो चलो कहिथे बरात
कि चलो चलो कहिथे बरात
कि चलो चलो कहिथे बरात


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : ममता चंद्राकर
संस्‍था/लोककला मंच : ?

ममता चंद्राकर
ममता चंद्राकर

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

Advertisements

Previous Older Entries Next Newer Entries

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 756 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...