भरथरी (प्रसंग 5. रानी से चम्पा दासी के लिए विनती) … Bharthari

आज प्रस्तुत है, ‘टी सीरीज’ म्यूजिक कंपनी द्वारा सन् 1993 में रिलीज रेखादेवी जलक्षत्री द्वारा प्रस्तुत भरथरी गायन श्रृंखला का पांचवा प्रसंग…

भरथरी - रेखादेवी जलक्षत्री

1. राजा का जोगी वेष में आना
2. चम्पा दासी का जोगी को भिक्षा देना
3. चम्पा दासी द्वारा राजा को पहचानना
4. रानी का चम्पा दासी को सजा देना
5. रानी से चम्पा दासी के लिए विनती
6. शंकर पूजा, चम्पा को शंकर दर्शन

 

आइए सुने भरथरी लोकगाथा का प्रसंग “रानी से चम्पा दासी के लिए विनती”

— गाथा —
अब ये दासी राहय ते रागी (हौव)
सबझन ल किथे (हा)
मोर बात तो तुमन सुन लौ (सुन लौ)
बहिनी हो (हा)
तुमन तो मोर बात सुनलव (हौव)
भईया हो (हा)
तुमन तो मोर बात सुनलव (हौव)
चम्पा दासी के कोई बात नई सुनय रागी (हा)
बस ओला फांसी में लेगेबर (हौव)
तैयार रिथे (हा)
एकादशी के उपास रिथे (हौव)
छै दिन के वो खाना नई खाय राहय (हा)
तब सब सखी सहेली, रानी सामदेवी ल किथे (हा)

— गीत —
बोले बचन मोर सखीमन, मोर सखीमन या
सुन ले रानी मोर बाते ल
बोले बचन मोर सखीमन, मोर सखीमन वो
सुन ले रानी मोर बाते ल

एकादशी के वो, ये उपासे हावय
एकादशी के ना , वो उपासे हावय
येदे छै दिन कुछ खाए वो, भाई येदे जी
येदे छै दिन के कुछ नई खाए वो, भाई येदे जी

लोटा ल देवत हे रानी हा, मोर रानी ह वो
आमा-ये-झरीबर भेजथे
लोटा ल देवत हे रानी हा, मोर रानी ह वो
सोना-ये-झरीबर भेजथे

चम्पा दासी दीदी, उहाँ पहुँचत थे या
चम्पा दासी दीदी, उहाँ पहुँचत थे वो
येदे रोवन लागत थे वोदे वो, भाई येदे जी
येदे रोवन लागत थे वोदे वो, भाई येदे जी

— गाथा —
चम्पा दासी के सब सखी सहेली राहय ते रागी (हौव)
जाकर के रानी सामदेवी ल किथे (हा)
दोनों हाथ में विनती करके किथे (हौव)
रानी (हा)
एकबार हमर बात रखलेव (रखलेव)
वो ह एकादशी के उपास हे (हौव)
छै सात दिन होगे कुछ खाए नईये (हा)
अउ खाली पेट में ओला फांसी मत चढ़ा (हौव)
अउ ओला गुस्सा आ जथे रागी (हा)
धरा देथे लोटा ला (हौव)
अउ सोनाझरी के (हा)
तरियाबर भेज देथे (हौव)
अब ये चम्पा दासी राहय तेन (हा)
धिरे धिरे जा थे (हौव)
रोवत रिथे (हा)

— गीत —
पहुंचन लागत थे दासी हा, मोर दासी हा वो
सोना-ये-झरीबर के तीरे में, येदे तोरे में या
गंगा ये मइया ल देखत थे, येदे देखय दीदी
बोलन लागथे दासी हा, भाई येदे जी
राजा बोलथे वो, करले अमर राजा भरथरी
येदे काहथे वो, करले अमर राजा भरथरी
बाजे तबला निशान, करले अमर राजा भरथरी, भाई येदे जी

गंगा-च मइया में उतरत थे, मोर उतरत थे वो
चम्पा ये दासी ह आजे ना, येदे आजे दीदी
विनती करय जल देवती के, जल देवती के वो
सुमिरन करय भोलानाथ के, भाई येदे जी
राजा बोलथे वो, करले अमर राजा भरथरी
येदे काहथे वो, करले अमर राजा भरथरी
बाजे तबला निशान, करले अमर राजा भरथरी, भाई येदे जी

घुटुवा ले पानी ह आवत थे, येदे आवय दीदी
माड़ी ले पानी ह आ गेहे, येदे आगे हे वो
मनेमने दासी सोचत थे, येदे सोचय दीदी
देखन लागथे भोला ला, भाई येदे जी
राजा बोलथे वो, करले अमर राजा भरथरी
येदे काहथे वो, करले अमर राजा भरथरी
बाजे तबला निशान, करले अमर राजा भरथरी, भाई येदे जी

— गाथा —
अब ये चम्पा दासी राहय ते रागी (हौव)
लोटा ल धर लेथे (हा)
सोनाझरी के तीरे में पहुंच गे (हौव)
गंगा मइया में उतरथे (हा)
घुटुवा ले पानी आ जथे (हौव)
ओकर बाद माड़ी तकले (हा)
जब माड़ी तकले आथे त किथे हे भोलेनाथ (हौव)
में तोर सामने में हौव (हा)
तें मोरबर दया कर (हौव)
में तोला अंचरा मे पुजहूँ (हा)
भोलेनाथ (हौव)
अइसे किके ओकर प्रार्थना करथे (हा)


गायन शैली : भरथरी
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : 1993
संगीतकार : रामकुमार साहू
गायन : रेखा जलक्षत्री
रागी : रामविशाल साहु
एल्बम : भरथरी
संस्‍था/लोककला मंच : महाकालेश्वर भरथरी पार्टी
म्यूजिक कंपनी : टी सीरीज

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

Advertisements

Previous Older Entries Next Newer Entries

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 748 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...