सास गारी देवे … Sas Gari Deve

साभार…   राहुल सिंह   के ब्लाग   ‘सिंहावलोकन’.   ले,  ये गीत ल ले गे हे |
जेला आप मन ऐ ब्लाग म देख सकत हव …
http://akaltara.blogspot.com/2010/06/blog-post_10.html
.

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो ~~~ 3 ~~~

आए बेपारी गाड़ी म चढ़िके
तो ल आरती उतारव थारी म धरिके हो
करार गोंदा फूल

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

टिकली रे पइसा ल बीरी ले रीतेंव
मोर साइकल के चढ़इया ल चिन्ही ले रीतेंव ग
करार गोंदा फूल

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

राम धरे बर्छी लखन धरे बाण
सीतामाई के खोजन बर निकलगे हनुमान ग
करार गोंदा फूल

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

पहिरे ल पनही खाये ल बीरा पान
मोर रइपुर के रहइया चल दिस पाकिस्तान ग
करार गोंदा फूल

केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~

सास गारी देवे, ननंद मुंह लेवे, देवर बाबू मोर
संइया गारी देवे, परोसी गम लेवे, करार गोंदा फूल
केरा बारी में डेरा देबो चले के बेरा हो~


गायन शैली : ?
गीतकार : गंगाराम शिवारे
रचना के वर्ष : 1972-73
हारमोनियम – देवीलाल नाग
तबला – अमरदास मानिकपुरी
क्लेरिनेट – जगमोहन कामले
मजीरा – मजीद खान
ढोलक – गणेश प्रसाद
गायन : हबीब तनवीर, भुलवाराम यादव, बृजलाल लेंझवार, लालूराम अउ साथी
संस्‍था/लोककला मंच : नया थियेटर
नाटक : गाँव के नाँव ससुरार मोर नाँव दमाद

गंगाराम शिवारे
गंगाराम शिवारे

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

Advertisements

Next Newer Entries

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 751 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...