दुनिया के मन आघू बढ़गे … Duniya Ke Man Aaghu Badhge

दुनिया के मन आघू बढ़गे

कहि देवव संदे~~~स, सबो ला~~~ सबो~~~ ला
कहि देवव~उ~उ~ संदे~स
(होहो~ होहो~ होहो~ होहो~ होहो~ होहो~ होहो~ हो)

दुनिया के मन आघू बढ़गे
दुनिया के मन आघू बढ़गे
दुनिया के~ऐ~ऐ~ चन्दा तक मा जाए रे भईया
चन्दा तक मा जाए रे, चन्दा तक मा जाए रे
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)

कहि देवव संदेस सबो ला, कहि देबो संदेस सबो ला
कहि देवव~उ~उ~ कोन्हो झन पछुवाय रे भईया
कोन्हो झन पछुवाय रे, कोन्हो झन पछुवाय रे
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)

उठो~~~ओ~ओ~ओ
उठो मशाल धरो सुरूज के, धरती ला श्रृंगार दव
धरती ला श्रृंगार दव
(उठो उठो उठो~)
माटी के बेटा हव तुम, माटी ला अपन दुलार दव
माटी ला दुलार दव
(माटी ला दुलार दव)
जम के खेत जगे ता होही परती मा उपजाए रे
परती मा उपजाए रे भईया परती मा उपजाए रे
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)

भेदभाव के~~ऐ~ऐ~ऐ~ए
भेदभाव के माटी कटाव, तिरिथ लुटावव गाँव मा
तिरिथ लुटावव गाँव मा
(तिरिथ लुटावव गाँव मा)
गजब जराईस छुवाछुत अब बईठव एके छाँव मा
बईठव एके छाँव मा
(बईठव एके छाँव मा)
गाँधी नेहरू~~उ~उ~उ
गाँधी नेहरू के सपना ला गाँव गाँव मा लाईनगे
गाँव गाँव मा लाय रे गाँव गाँव मा लाय रे
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)

भिलाई तुहर~~अ~अ~अ का~शी हे~~ ऐला
~
भिलाई तुहर काशी हे ऐला, जांगर के गंगाजल दव~~
(हो~ होहो~ होहो~ हो~)
ये भारत के नवा तिरिथ हे, ऐला जुरमिल के बल दव~~
(बल दव, बल दव, बल दव~~)
तुहर पसीना गिरे खार मा, नवा फूल मुस्काय रे
नवा फूल मुस्काय रे भईया नवा फूल मुस्काय रे
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)

छुवन न पाए~~ऐ~ऐ~ऐ~ए
छुवन न पाए बैरी कोनों भारत माँ के तीर ला~~
(भारत माँ के तीर ला)
अभी बचाये बर हमला हे, नेता अउ कश्मीर ला~~
(नेता अउ कश्मीर ला)
हमर लहू ले रंगे हिमालय ऐला झन बिसराय रे
ऐला झन बिसराय रे, ऐला झन बिसराय रे
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे
दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)
कहि देवव संदे~~~श सबो ला~~~ सबो~~~ ला
(दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे
दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे
दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे
दुनिया के मन आघू बढ़गे, आघू बढ़गे)

दुनिया के मन आघू बढ़गे


गीतकार : डॉ.हनुमंत नायडू ‘राजदीप’
संगीतकार : मलय चक्रवर्ती
स्वर : मन्ना डे अउ साथी
फिल्म : कहि देबे संदेस
निर्माता-निर्देशक : मनु नायक
फिल्म रिलीज : 1965
संस्‍था : चित्र संसार



सुधि पाठक श्री मनु नायक से संपर्क कर सकते है –
पता : 4बी/2, फ्लैट-34, वर्सोवा व्यू को-आपरेटिव सोसायटी, 4 बंगला-अंधेरी, मुंबई-53
मोबाइल : 09870107222

 

 

‘कहि देबे संदेस’ फिल्म के अन्य गीत
झमकत नदिया बहिनी लागे … Jhamkat Nadiya Bahini Lage
बिहनिया के उगत सुरूज देवता … Bihaniya Ke Ugat Suruj Devta
तोर पैरी के झनर-झनर … Tor Pairi Ke Jhanar Jhanar
होरे होरे होरे … Hore Hore Hore
तरि नारी नाहना … Tari Nari Nahna
मोरे अंगना के सोन चिरईया नोनी … Mor Angna Ke Son Chiraeaya Noni

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

 

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 661 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...