देव बस्तर ल काबर छोड़े … Dev Bastar La Kabar Chhode

बस्तर की आराध्या देवी माँ दंतेश्वरी की पावन नगरी दंतेवाड़ा है। यह डंकिनी-शंखिनी नदी के संगम पर स्थित है। यह जगदलपुर से 85 किमी. की दूरी पर स्थित है। इसका निर्माण रानी भाग्येश्वरी देवी द्वारा कराया गया था। पुरातात्विक महत्व के इस मन्दिर में मॉ दन्तेश्वरी के दर्शन के लिये भक्तों को सात दरवाजों से होकर गुजरना पड़ता है। माता के दर्शनार्थी युवकों को धोती पहनना अनिवार्य होता है। धोती की व्यवस्था मन्दिर में ही रहती है।

दन्तेवाड़ा में भैरव बाबा का एक प्रमुख मन्दिरशंखिनी नदी के दूसरे तट पर स्थित है। संगम स्थल पर एक विशाल शिलाखण्ड में एक पद चिह्न माना जाता है। दंतेश्वरी मन्दिर के पास ही आदिवासी समाज के प्रमुख देव भीमा देव जो कि अकाल और बाढ़ से बचाने वाले माने गये हैं। उनकी विशेष प्रतिमा स्थित है।

माँ दंतेश्वरी, दन्तेवाड़ा

माँ दंतेश्वरी आप सब की मनोकामनाएं पूर्ण करे…

 

देव बस्तर ल काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माँ
देव बस्तर ल काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माँ
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ला काबर छोड़े हो माँ (समूह-गान)
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माँ
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माँ (समूह-गान)

देव बस्तर मा मैय्या अहिर बालकवा
देव बस्तर मा मैय्या अहिर बालकवा (समूह-गान)
अहिर बालकवा हो मैय्या, अहिर बालकवा
अहिर बालकवा हो मैय्या, अहिर बालकवा (समूह-गान)
अरे नित उठ दुध चढ़ावे, चढ़ावे हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)

देव बस्तर मा मैय्या माली बालकवा
देव बस्तर मा मैय्या माली बालकवा (समूह-गान)
माली बालकवा हो मैय्या, माली बालकवा
माली बालकवा हो मैय्या, माली बालकवा (समूह-गान)
अरे नित उठ फूल चढ़ावे, चढ़ावे हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)

देव बस्तर मा मैय्या पनिका बालकवा
देव बस्तर मा मैय्या पनिका बालकवा (समूह-गान)
पनिका बालकवा हो मैय्या, पनिका बालकवा
पनिका बालकवा हो मैय्या, पनिका बालकवा (समूह-गान)
अरे नित उठ धोती चढ़ावे, चढ़ावे हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)

अरे देव बस्तर में मैय्या बाम्हन बालकवा
देव बस्तर मा मैय्या बाम्हन बालकवा (समूह-गान)
बाम्हन बालकवा हो मैय्या, बाम्हन बालकवा
बाम्हन बालकवा हो मैय्या, बाम्हन बालकवा (समूह-गान)
अरे नित उठ घंटा बजावे, बजावे हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)

देव बस्तर मा मैय्या बईगा बालकवा
देव बस्तर मा मैय्या बईगा बालकवा (समूह-गान)
बईगा बालकवा हो मैय्या, बईगा बालकवा
बईगा बालकवा हो मैय्या, बईगा बालकवा (समूह-गान)
अरे नित उठ धुप चढ़ावे, चढ़ावे हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)

अरे पांच भगत मिल तोरे जस गावे
पांच भगत मिल तोरे जस गावे (समूह-गान)
तोरे जस गावे हो मैय्या, तोरे जस गावे
तोरे जस गावे हो मैय्या, तोरे जस गावे (समूह-गान)
अरे जय जय करत हे तुम्हारे, तुम्हारे हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ला काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)

अरे देव बस्तर ल काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ल काबर छोड़े, तैं छोड़े हो मैय्या
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)
अरे देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)
अरे देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय
देव बस्तर ल काबर छोड़े हो माय (समूह-गान)


गायन शैली : ?
गीतकार : ?
रचना के वर्ष : ?
संगीतकार : ?
गायन : मिथलेश साहु अउ साथी
एल्बम : जंवारा गीत (के.के.कैसेट)
संस्‍था/लोककला मंच : ?

साभार : के.के.कैसेट

 

यहाँ से आप MP3 डाउनलोड कर सकते हैं

गीत सुन के कईसे लागिस बताये बर झन भुलाहु संगी हो …

Advertisements

हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई ?
अपना ईमेल आईडी डालकर इस ब्लॉग की
सदस्यता लें और हमारी हर संगीतमय भेंट
को अपने ईमेल में प्राप्त करें.

Join 747 other followers

हमसे जुड़ें ...
Twitter Google+ Youtube


.

क्रियेटिव कॉमन्स लाइसेंस


सर्वाधिकार सुरक्षित। इस ब्लॉग में प्रकाशित कृतियों का कॉपीराईट लोकगीत-गाथा/लेख से जुड़े गीतकार, संगीतकार, गायक-गायिका आदि उससे जुड़े सभी कलाकारों / लेखकों / अनुवादकों / छायाकारों का है। इस संकलन का कॉपीराईट छत्तीसगढी गीत संगी का है। जिसका अव्यावसायिक उपयोग करना हो तो कलाकारों/लेखकों/अनुवादकों के नाम के साथ ब्लॉग की लिंक का उल्लेख करना अनिवार्य है। इस ब्लॉग से जो भी सामग्री/लेख/गीत-गाथा/संगीत लिया जाये वह अपने मूल स्वरूप में ही रहना चाहिये, उनसे किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ अथवा फ़ेरबदल नहीं किया जा सकेगा। बगैर अनुमति किसी भी सामग्री के व्यावसायिक उपयोग किये जाने पर कानूनी कार्रवाई एवं सार्वजनिक निंदा की जायेगी...